खाड़ी क्षेत्र में तनाव बढ़ रहा है

ईरान की इंधन, क्षेपणास्त्रों की तस्करी पर अमेरिकन नौसेना की बड़ी कार्रवाई

China’s unique hypersonic missile test wakes US out of slumber

वॉशिंग्टन – अमरीका की नौसेना ने ईरान की इंधन और क्षेपणास्त्रों की तस्करी पर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की। ईरान ने यमन के हाउथी बागियों के लिए अवैध रूप से निर्यात किये हुए डेढ़ सौ से अधिक क्षेपणास्त्र कब्जे में लेने की बात अमरीका के विधि विभाग ने घोषित की। वियना में ईरान के साथ परमाणु समझौते को लेकर जारी चर्चा संकट में पड़ी होने की खबरें आ रही हैं। ऐसे समय अमरीका के विधि विभाग ने ईरान की क्षेपणास्त्र तथा इंधन तस्करी की जानकारी सार्वजनिक की है।

अमरीका की नौसेना ने नवंबर २०१९ और फरवरी २०२०, ऐसी दो अलग-अलग घटनाओं में अरबी समुद्र में बड़ी छापेमारी की। इनमें से सन २०१९ की कार्रवाई में, ईरान के रिव्होल्युशनरी गार्ड्स ने यमन के हाउथी बागियों के लिए रवाना किया हथियारों का भंडार, अमरीका की नौसेना ने जब्त किया। इनमें ज़मीन से हवा में दागे जानेवाले १७१ क्षेपणास्त्र, आठ टैंकभेदी क्षेपणास्त्र, विध्वंसकभेदी क्रूझ् क्षेपणास्त्र तथा अन्य सामग्रियों का समावेश था, ऐसी जानकारी अमरीका के विधि विभाग ने जारी की।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-navy-cracks-down-iranian-fuel

अमरीका सौदी को ६५ करोड़ डॉलर्स के हथियार प्रदान करेगी – अमरिकी सिनेट की मंजूरी

China’s unique hypersonic missile test wakes US out of slumber

वॉशिंग्टन – सौदी अरब को ६५ करोड़ डॉलर्स के हथियार प्रदान करने का प्रस्ताव अमरिकी सिनेट ने पारित किया| मानव अधिकारों के उल्लंघन के मामले में सिनेट की बायपार्टीशन समिती ने सौदी को इन हथियारों की आपूर्ति करने के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया था| लेकिन, मंगलवार के दिन सिनेट में हुए वोटिंग में ६७ बनाम ३० वोटों से इस रक्षा सहयोग को मंजूरी प्रदान हुई|

अमरिकी सिनेटर रैंड पॉल, बर्नी सैंडर्स, एलिज़ाबेथ वॉरेन, पैटी मरे ने सौदी के लिए हथियार प्रदान करने के खिलाफ पेश किए गए प्रस्ताव का समर्थन किया था| सौदी द्वारा येमेन में शुरू किए गए हमले और मानव अधिकारों का हनन रोकने के लिए हथियारों के इस सहायता को मंजूरी ना मिले, यह मॉंग सैंडर्स ने की थी|

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-supply-arms-to-saudi-arabia/

सौदी के क्राऊन प्रिन्स अरब देशों के दौरे पर

China’s unique hypersonic missile test wakes US out of slumber

रियाध – विएना में अमरीका और ईरान परमाणु समझौते पर बातचीत कर रहे हैं और इसी दौरान खाड़ी क्षेत्र में राजनीतिक गतिविधियॉं गतिमान हुई हैं| सौदी अरब के क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद बिन सलमान अरब मित्रदेशों के दौरे पर रवाना हुए हैं| ईरान का विवादित परमाणु कार्यक्रम ही क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद के इस खाड़ी दौरे का प्रमुख मुद्दा होने की चर्चा है|

ओमान की यात्रा करके क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद बिन सलमान ने अपने अरब मित्रदेशों के दौरे की शुरूआत की| इसके बाद प्रिन्स मोहम्मद बहरीन, कतार और कुवैत का दौरा करेंगे, ऐसा कहा जा रहा है| ‘गल्फ को-ऑपरेशन काऊन्सिल-जीसीसी’ के छह सदस्य देशों के बीच जारी मतभेद कम करके सहयोग बढ़ाने के लिए सौदी के क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद ने इस दौरे का आयोजन किया है| लेकिन, क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद बिन सलमान यूएई का दौरा करेंगे या नहीं, यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है| लेकिन, सौदी के राजा सलमान ने यूएई के राष्ट्राध्यक्ष शेख खलिफा बिन ज़ायद अल नह्यान को खत के ज़रिये संदेश भेजा है|

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/saudi-crown-prince-on-tour-of-arab-countries/

नातांझ न्यूक्लियर प्लांट के करीब हुए विस्फोट ने ईरान दहला – हवाई सुरक्षा यंत्रणा का परीक्षण किया होने का ईरान का दावा

China’s unique hypersonic missile test wakes US out of slumber

तेहरान – ईरान को परमाणु अस्त्रों के निर्माण से रोकने के लिए हम कुछ भी करेंगे, ऐसी चेतावनी इस्रायल का गुप्तचर संगठन ‘मोसाद’ के प्रमुख ने दी थी। उसके कुछ ही घंटों में शनिवार को ईरान के अति महत्वपूर्ण नातांझ न्यूक्लियर प्लांट के करीब बड़ा विस्फोट हुआ। कहीं इस्रायल ने अपनी चेतावनी सच तो नहीं कर दिखाई, ऐसी चर्चा इससे शुरू होकर घबराहट मची थी । लेकिन ईरान की सेना ने हवाई सुरक्षा यंत्रणा का परीक्षण करने का ऐलान करके, परिस्थिति को काबू में लाने की कोशिश की। इससे पहले नातांझ न्यूक्लियर प्लांट में हुए संदिग्ध विस्फोटों के मामले में ईरान ने असमंजस बढ़ानेवाली जानकारी जारी की थी। इस कारण शनिवार के इस विस्फोट को शक की निगाह से देखा जा रहा है।

ईरान के इस्फाहन प्रांत के नातांझ शहर में युरेनियम संवर्धन का बड़ा प्लांट है। ईरान के परमाणु कार्यक्रम के लिए यह बहुत ही अहम और संवेदनशील प्रकल्प माना जाता है। शनिवार रात को ८.१५ बजे नातांझ न्यूक्लियर प्लांट से २० किलोमीटर की दूरी पर होने वाले बदरुद इलाके में बड़ा विस्फोट हुआ। स्थानीय लोगों ने ईरानी न्यूज़ एजेंसी को दी जानकारी के अनुसार, विस्फोट की आवाज के बाद बदरुद की हवाई सीमा में धज्जियाँ उड़कर बड़ा प्रकाश दिखाई दिया था। इस खबर के कारण कुछ समय के लिए नातांझ समय ईरान में तनाव पैदा हुआ था।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/explosion-natanz-nuclear-plant-shook-iran/

ईरान को परमाणु हथियार ना मिलें, इसके लिए इस्रायल का मोसाद कुछ भी करेगा – मोसाद के प्रमुख की चेतावनी

China’s unique hypersonic missile test wakes US out of slumber

जेरूसलेम/व्हिएन्ना – ‘इस्रायल ईरान को कभी भी परमाणु-अस्त्र-सिद्ध बनने नहीं देगा। ईरान के परमाणु अस्त्र निर्माण का खतरा कम करने के लिए इस्रायल कुछ भी करने के लिए तैयार है’, ऐसा इस्रायल का ख्यातनाम गुप्तचर संगठन मोसाद के प्रमुख डेव्हिड बार्नी ने जताया। जागतिक ताकतें और ईरान के बीच बुरा परमाणु समझौता इस्रायल बर्दाश्त नहीं करेगा, ऐसा कहते हुए मोसाद के प्रमुख ने, वियना में जारी अमेरिका और ईरान के बीच की चर्चा को लक्ष्य किया ।

पिछले सोमवार से वियना में अमरीका, युरोपीय देश और ईरान के बीच परमाणु समझौते को लेकर चर्चा जारी है। अमरीका और युरोपीय देश यह चर्चा तुरंत रोकें, ऐसी माँग इस्रायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने की। इन चर्चाओं के जरिए ईरान अमरीका और युरोपीय देशों को ‘न्यूक्लिअर ब्लैकमेल’ कर रहा होने का आरोप प्रधानमंत्री बेनेट ने किया था। इस्रायल के प्रधानमंत्री की इस चेतावनी के कुछ ही घंटों में, इस्रायली गुप्तचर संगठन मोसाद के प्रमुख डेव्हिड बार्नी ने ईरान समेत अमरीका को खरी खरी सुनाई।

अधिक पढे: https://worldwarthird.com/index.php/2021/12/04/mossad-will-prevent-iran-hindi/

 

Related Post

Leave a Reply