Russia

putin erdogan

सीरिया और घुसपैठी शरणार्थियों के मुद्दे पर यूरोपिय महासंघ और नाटो का तुर्की के साथ बना विवाद हुआ तीव्र ब्रुसेल्स – यूरोपिय देशों ने सीरिया के मुद्दे पर अपनी सहायता नही की तो यूरोप में शरणार्थियों के झुंड छोडेंगे, यह धमकी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने दी थी| तभी तुर्की का ऐसे ब्लैकमेलिंग करना बर्दाश्त नही करेंगे, यह इशारा यूरोपिय देशों ने दिया था| इस पृष्ठभूमि पर ब्रुसेल्स में यूरोपिय

Russia-warns-Turkey

Russia warns Turkey over actions in Syria, US supports Turkey Moscow/Ankara/Washington: Severe differences have developed between Turkey and Russia over the Syrian conflict. Turkish President Recep Erdogan recently issued a warning that a military campaign will be undertaken to drive the Assad government out of the Idlib province. Russia has issued a warning to Turkey in strong words, not to interfere in the Syrian conflict. Whereas, US President Donald Trump

ven-us-juan

रशिया ने किया वेनेजुएला समेत लष्करी और आर्थिक सहयोग बढाने का निर्णय कैराकस: ‘वेनेजुएला का नेतृत्व, सार्वभूमता और अमरिका एवं सहयोगी देशों के प्रतिबंधों के विरोध में हो रहे संघर्ष को रशिया ने डटकर समर्थन प्रदान किया है| यह समर्थन आगे भी बरकरार रहेगा और प्रतिबंधों के बावजूद दोनों देशों ने इसके आगे आर्थिक, व्यापारी और निवेश से संबंधित सहयोग कायर रखने का निर्णय किया है’, इन शब्दों में रशिया

रशिया आक्रामक मोड़ पर

रोमानिया में अमरिका ने ‘थाड’ तैनात करने पर रशिया ने जताई कडी आपत्ति मास्को/वॉशिंटन – ‘अस्थायी इस शब्द के अलावा लंबे समय तक चलेगा, ऐसा इस दुनिया में कुछ भी नही, इस मायने की एक रशियन पहेली है| इस वजह से अमरिका रोमानिया में कर रही थाड मिसाइल डिफेन्स की अस्थायी तैनाती यानी असल में क्या और किस लिए है, यह सवाल उपस्थित होते है| रोमानिया की मिसाइल यंत्रणाओं का

अमरिका और रशिया में बढ़ता तनाव

नाटो का युद्धाभ्यास और विस्तारवाद के विरोध में रशिया आक्रामक मॉस्को/ऑस्लो: नॉर्वे मेश रशिया के सीमा के समिप नाटोने बडी मात्रा मेश शुरू किये युद्धाभ्यास से रशिया तिलमिला उठा है| नाटो के इस युद्धाभ्यास के विरोध में रशियाने आक्रामक भुमिका अपनाई है| इस दौरान रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिनने नॉर्वे के नजदिकी क्षेत्र में स्वतंत्र अभ्यास करने का घोषित किया है इसीके साथ रशिया के शिर्ष नेताओं ने नाटो के विस्तारवाद

INF_treaty

Russia cannot replace the United States in the Middle East, US Secretary of Defence James Mattis Manama: The US Secretary of Defence James Mattis warned Russia that although Russia was trying to increase its influence in the Middle East, it cannot replace the United States in the region. The US Secretary of Defence also stated that the Khashoggi killing is a potential threat to the stability of the Middle East.

Nato_US_vs_Russia

Russian President trying to take over Ukraine; claims former Ukrainian military official Kiev: There are signs of a dispute flaring up between Russia and Ukraine. The Ukrainian Ambassador to the United Nations, Volodymyr Yelchenko accused Russia of militarizing Crimea, the region that it had sliced out of Ukraine three years ago. Yelchenko said that these Russian military movements are a threat to Ukrainian security. The efforts of Russian President, Vladimir

अमरिका सह पश्चिमी देश और रशिया में तनाव बढ़ने के आसार

रशिया की सीमा के पास युद्धाभ्यास के लिए नाटो के ४५ हजार सैनिकों की तैनाती भव्य युद्धाभ्यास में ‘इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेअर’ का भी समावेश ब्रुसेल्स/मॉस्को – ‘सेव्हिएत संघराज्य’ के विघटन के बाद का सबसे बड़े युद्धाभ्यास के तौर पर पहचाने जाने वाले ‘ऑपरेशन ट्रायटंड जंक्चर १८’ के लिए नाटो लगभग ४५ हजार सैनिक रशियन सीमा के पास उतरने वाले हैं, यह सामने आया है।रशियन सीमा से जुड़कर स्थित नोर्वे, स्वीडन, फ़िनलैंड,

रशिया की आक्रामक नीति

रशिया ईरान को सीरिया से बाहर नहीं निकाल सकता – इस्राइल में स्थित रशिया के राजदूत का विधान तेल अवीव: ‘जिस तरह से सीरिया में स्थित ईरान के अड्डों पर इस्राइल की तरफ से हो रहे हमलों को रशिया रोक नहीं सकता। उसी तरह से रशिया ईरान को सीरिया से बाहर नहीं निकाल सकता’, ऐसी टिप्पणी इस्राइल में स्थित रशियन राजदूत ‘एंटोली व्हिक्टोरोव्ह’ ने की है। साथ ही सीरिया के

Syria

रशिया की दो विनाशिकाएँ सीरिया के लिए रवाना मॉस्को/दमास्कस: सीरिया में अमरिका-ब्रिटन-फ़्रांस ने किए हमले को प्रत्युत्तर देने के लिए रशिया ने अपनी लष्करी गतिविधियों को तेज किया है। पिछले हफ्ते रशिया ने दो अतिरिक्त जंगी जहाज और और हथियारों का भंडार सीरिया में भेजने की खबर प्रसिद्ध हुई थी। उसके बाद फिरसे रशिया ने अपनी दो विनाशिकाओं को सीरिया की दिशा में भेजा है। इस नई गतिविधि की वजह