Search results for “भारत”

ईको-फ्रेंडली गणेश मूर्तियां

सितंबर २०१९ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान सिंह एवं वीरा सावन के पवित्र महीने से त्योहारों की शुरुआत होती है जो कि आध्यात्म को बढाने में सहायक होती है। हर वर्ष, यह महीना हमें घोरकष्टोधारण स्त्रोत्र का सामूहिक पठन, श्री महादुर्गेश्वर प्रपत्ति, अश्वत्थ मारुती पूजन और वैभवलक्ष्मी पूजन में भाग लेने का अवसर प्रदान करता है। इस वर्ष से हमें, “शिव सहपरिवार पूजन” का महान अवसर भी प्राप्त हुआ है। जिन

दुनिया भर में आतंकवाद का धोखा बढ़ा

तालिबान ने अफगानिस्तान में युद्ध विराम करने की मांग ठुकराई काबुल – अफगानिस्तान में सभी वांशिक समुदाय और गुटों के प्रतिनिधि होनेवाले ‘लोया जिरगा’ ने तालिबान के सामने युद्ध विराम का प्रस्ताव रखा था| लेकिन, तालिबान ने यह प्रस्ताव ठुकराया है| अमरिका ने अफगानिस्तान से पूरी सेना पीछे हटाए बिना युद्ध विराम को तैयार नही होंगे, यह ऐलान तालिबान ने किया है| इस वजह से अफगानिस्तान में युद्धविराम की संभावना

ईरान पर डाले प्रतिबंध और बढ़ता तनाव

अमरिका की सागरी हुकूमत को चुनौती देने के लिए ईरान ने की चीन की नौसेना के साथ सहयोग बढाने की तैयारी तेहरान – कडे प्रतिबंधों में फंसे ईरान ने अब चीन ने ‘साउथ चाइना सी’ में किए लष्करीकरण को पूरा समर्थन देकर अमरिका के विरोध में बडा मोर्चा खोलने के संकेत दिए है| साथ ही अमरिका की सागरी हुकूमत को चुनौती देने के लिए ईरान ने चीन की नौसेना साथ

शहीद जवानों को श्रद्धांजली

हरि ॐ, कल CRPF जवानों पर किये गये हमले का हम निषेध करते हैं। साथ ही, सभी शहीद जवानों को श्रद्धांजली अर्पण करते हुए उनके परिजनों के दुख में हम सहभागी हैं। सभी श्रद्धावानों को हर एक भारतीय सैनिक पर और सेनादल पर गर्व है; और सभी श्रद्धावान और भारतीय, हमारे सैनिकों तथा सेनादल की तरह ही, इसी प्रकार देश के लिए त्याग करने तैयार रहने चाहिए, यही परमपूज्य अनिरुद्धजी

सोने से जुडी खबरें

वर्ष २०१८ में विश्‍व के केंद्रीय बैंको ने की ६५१ टन सोने की खरीद लंदन/मास्को: अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में हो रही बडी उथल पुथल के चलते विश्‍व के कई केंद्रीय बैंक अमरिकी डॉलर के बदले सोने की खरीद करने पर जोर देते दिखाई दे रहे है| वर्ष २०१८ में विश्‍व के केंद्रीय बैंकों ने कुल ६५१.५ टन सोने की खरीद की है, यह जानकारी ‘वर्ल्ड गोल्ड कौन्सिल’ ने दी है| वर्ष

sedentary lifestyle

॥ हरि ॐ ॥ श्रीराम ॥ अंबज्ञ॥ नाथसंविध्‌ नाथसंविध्‌ नाथसंविध्‌      जीवन में किसी को यह चाहिए, किसी को वह चाहिए, एक ही इन्सान के जीवन में, सुबह में यह चाहिए, तो दोपहर में दूसरा कुछ चाहिए, शाम को तीसरी चीज़ चाहिए, रात को चौथी चाहिए, सपने में पाँचवी चीज़। Right? चलते ही रहता है। उसमें कोई बुराई नहीं हैं, it happens. होता है। लेकिन अभी समझो, हम लोग कोई

  स्वास्थ्य (निवारक, प्रोत्साहक, रोगनिवारक, पुनर्वास) ग्रामिण/नगरीय/सामुदायिक/आदिवासी विकास पर केन्द्रित भारत आज दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। परंतु तेज़ी से प्रगति करती अर्थव्यवस्था के बावजूद, कुछ समस्याएं देश के कई हिस्सों में अब तक पनप रही हैं और उन क्षेत्रों पर मंडरा रही हैं। गरीबी, एक ऐसी ही समस्या है, जो विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में समाज को असक्षम बना देती है और प्रगति में बड़ी

(के एम एच सी) ग्रामीण/ नागरी / समाज / आदिवासी ह्यांच्या आरोग्य आणि स्वच्छतेवर लक्ष केंद्रीत करून विकास (प्रतिबंधक, प्रोत्साहक, उपचारात्मक आणि पुनर्वसन) भारत सध्या जगातील अग्रेसर /(अग्रगणी ) अर्थव्यवस्थांपैकी एक आहे.  तथापि अर्थव्यवस्थेची भरभराट होत असली तरी, देशातील भागांमध्ये काही समस्या वारंवार प्रकट होऊन जोमाने वाढत राहतात. सार्वत्रिकरीत्या ग्रामीण भागांमध्ये, विशेषत: दारिद्र्य हे एक असे सामाजिक दैन्य आहे, जे समाजाला अपंग बनविते आणि त्याच्या विकासात अडथळा आणते. बहुतांश वेळा,

अफ़ग़ानिस्तान में उलथपुलथ

अफगान शांति चर्चा को लेकर अमरिका और पाकिस्तानी सेना की चर्चा इस्लामाबाद – अफगानिस्तान में सरकार और तालिबान के शांतिचर्चा के संबंधी बातचीत करने के लिए अमरिका के वरिष्ठ लष्करी अधिकारी ने पाकिस्तान की यात्रा करके लष्कर प्रमुख जनरल कामर बाजवा की भेंट की| तालिबान शांति प्रक्रिया में शामिल हो और अफगानिस्तान में जनता ने बनाई सरकार का महत्व कायम रहे, इस संबंधी अमरिकी लष्करी अधिकारी ने अपने देश का

दैनिक प्रत्यक्ष में इस्रायल पर प्रकाशित हो रही सिरीज़

सभी श्रद्धावान यह जानते ही हैं कि ‘दैनिक प्रत्यक्ष’ में पिछले १ साल से हम इस्रायल पर ‘इस्रायल: एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन यशस्वी’ यह मालिका प्रकाशित कर रहे हैं। इस मालिका की प्रस्तावना स्वयं डॉ. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी ने ही – हमारे प्रिय बापू ने ही लिखी थी। इस मालिका की शुरुआत, ज्यूधर्मियों का आद्यपूर्वज अब्राहम की कथा से होती है, जिसे ईश्वर ने दृष्टान्त देकर यह ‘पवित्र भूमी’