How Saint Tulsidas ji composed ‘ Shree Ramcharitamanas ‘ Granth

In His discourse dated 7th October 2004, Sadguru Aniruddha Bapu beautifully explains how Bhagwaan Shree Hanuman blessed the great saint Tulsidas ji and helped him compose the Holy Scripture (Granth) ‘Shree Ramcharitmanas’ which is loved and revered by devotees even today. Further, Bapu guides us on how we can do “”Gunasankirtan”” about our God and how it benefits us.

७ अक्तूबर २००४ के अपने प्रवचन में, सद्गुरु अनिरुद्ध बापू बताते हैं कि कैसे संतश्रेष्ठ तुलसीदासजी पर भगवान श्रीहनुमान ने कृपा की और कैसे पवित्र ग्रंथ ‘श्रीरामचरितमानस’ की रचना करने में उनकी मदद की, जिसे आज भी भक्तों के मन में बहुत ही प्यार और सम्मान का स्थान है। इसके अलावा, बापू हमारा मार्गदर्शन करते हैं कि कैसे हम ईश्वर का गुणसंकीर्तन कर सकते हैं, और उससे हमें क्या फ़ायदा होता है।

|| हरि: ॐ || ||श्रीराम || || अंबज्ञ ||

॥ नाथसंविध् ॥

Related Post

Leave a Reply