Sadguru Bapu explains how we must proceed on the path of Bhakti

Sadguru Shree Aniruddha Bapu elucidates the sacrifice of Yashoda and how she raised Shree Krishna as her own Son. Based on this Bapu explains what it is that one must “sacrifice” on the path of Bhakti. Bapu further clarifies the difference between Maya and Aadimaya. Furthermore, Bapu reveals why Sainath chose to visit Hemadpant’s home and the importance of following in the footsteps of great saints.

————-

सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू हमें यशोदा के त्याग के बारे में बताते हैं कि कैसे उन्होंने श्री कृष्ण को अपने सगे पुत्र की तरह पाला। इसके आधार पर बापू बताते हैं कि भक्ति के मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए हमें क्या “त्याग” करना चाहिए। बापू माया और आदिमाया में क्या अंतर हैं यह स्पष्ट करते हैं। इसके अलावा, बापू बताते हैं कि क्यों साईनाथ ने हेमाडपंत के घर आने का फैसला किया और महान संतों के नक्शेकदम पर चलने का क्या महत्व हैं।

 

|| हरि: ॐ || ||श्रीराम || || अंबज्ञ ||

॥ नाथसंविध् ॥

Related Post

Leave a Reply