पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ी

पाकिस्तान और तालिबान एक-दूसरे के साथ डबल गेम खेल रहे हैं – पाकिस्तान के पत्रकार का दावा

पाकिस्तान कीवॉशिंग्टन – पाकिस्तान और अफगानिस्तान के तालिबान का एक-दूसरे पर विश्वास नहीं रहा है। वे दोनों भी एक-दूसरे के साथ ‘डबल गेम’ खेल रहे हैं, ऐसा पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार हमिद मीर ने कहा है। एक अमरिकी अखबार के लिए लिखे लेख में मीर ने इस डबल गेम की मिसालें भी दी हैं। भारत और ईरान के साथ स्वतंत्र रूप में चर्चा करने की गतिविधियाँ करके तालिबान ने पाकिस्तान को झटका दिया, इस बात पर हमिद मीर ने गौर फ़रमाया है।

अफगानिस्तान में पाकिस्तान की मनचाही सरकार सत्ता में आए इसके लिए पाकिस्तान कई दशकों से जानतोड़ कोशिश कर रहा है। इसके लिए तालिबान से मदद लेकर पाकिस्तान ने अफगानिस्तान में हमीद करझाई और अश्रफ गनी की सरकार को अस्थिर रखा। अमरीका की सेनावापसी के बाद अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता आई और अब पाकिस्तान अफगानिस्तान पर हुकूमत जता सकता है, ऐसा पाकिस्तान को लग रहा था। इसी कारण से पाकिस्तान ने तालिबान की विजय का जल्लोष मनाया था। लेकिन अब परिस्थिति पूरी तरह बदल चुकी है, ऐसा हमिद मीर ने अपने लेख में डटकर कहा।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/pakistan-taliban-playing-double-game-with-each-other/

बलोच जनता के खिलाफ चीन पाकिस्तान की सहायता ना करे – बलोच विद्रोहियों ने चीन को धमकाया

पाकिस्तान कीपेशावर – पाकिस्तानी सेना पर जोरदार हमले करनेवाले बलोच विद्रोहियों ने चीन को धमकाया है। बलोचिस्तान की खनिज संपत्ति लूटकर हमारे इलाके पर कब्ज़ा करने के लिए चीन पाकिस्तान की सहायता करना बंद करे। वरना चीन के हित फिर से हमारे निशाने पर होंगे, यह इशारा बलोच विद्रोहियों ने दिया।

बलोच जनतापिछले हफ्ते बलोचिस्तान के पंजगुर और नुश्‍की में पाकिस्तानी सेना के ठिकानों पर हुए हमलों की ज़िम्मेदारी बलोच विद्रोहियों ने स्वीकारी थी। इसके बाद उन्होंने चीन को दिए इशारे की अहमियत बनती है। इस धमकी की खबरें अब माध्यमों में साझा हुई हैं, फिर भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इम्रान खान चीन के दौरे पर होने के दौरान ही बलोच विद्रोहियों द्वारा यह इशारा दिए जाने की बात सामने आयी है।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/china-baloch-people-help-pakistan/

अफ़गानिस्तान की सीमा पर गोलीबारी में पाकिस्तान के ५ सैनिक ढ़ेर

पाकिस्तान कीइस्लामाबाद – अफ़गानिस्तान की सीमा से पाकिस्तान के खुर्रम क्षेत्र में स्थित चौकी पर हुई गोलीबारी में पाकिस्तान के पांच सैनिक मारे गए हैं। पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद युसुफ और तालिबान के नेताओं की पिछले हफ्ते चर्चा के बाद का यह हमला ध्यान आकर्षित कर रहा है। पाकिस्तान के सेनाप्रमुख जनरल कमर बाजवा ने इस हमले पर प्रत्युत्तर देने के आदेश जारी करने की खबरें प्राप्त हो रही हैं।  

पाकिस्तानी सेना द्वारा जारी की गई जानकारी के अनुसार अफ़गानिस्तान के खोस्त प्रांत के करीब स्थित पाकिस्तान के खुर्रम क्षेत्र की ‘अंगूर तंगी’ सीमा चौकी पर यह गोलीबारी हुई। तेहरिक-ए-तालिबान के आतंकियों ने अफ़गानिस्तान की ज़मीन से हमारी सीमा में हमला किया, यह आरोप पाकिस्तान की सेना ने लगाया है। इस दौरान आतंकियों ने सीमा पर लगाई तार की बाड़ उखाड़ने की भी कोशिश की। तकरीबन तीन घंटे चले इस संघर्ष के दौरान पाकिस्तान के पांच सैनिक मारे गए और छह घायल हुए, यह जानकारी पाकिस्तानी सेना ने साझा की है। साथ ही जवाबी हमले में हमने तेहरिक के कुछ आतंकियों को मार गिराया, यह दावा भी पाकिस्तानी सेना ने किया है।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/afghan-border-pakistani-soldiers-killed/

पाकिस्तान का अफगानी तालिबान के साथ संघर्ष अटल – पाकिस्तान के विश्लेषकों का निष्कर्ष

पाकिस्तान कीइस्लामाबाद – “अफगाणिस्तान के तालिबान ने कोशिश करने पर भी पाकिस्तान एवं ’तेहरिक-ए-तालिबान’ के बीच मोल तोल कामयाब नहीं हो पाया है। इसलिए अगले दौर में ’तेहरिक’ के साघ मोल तोल संभव नहीं है, अब इस आतंकवादी संगठना पर कठोर कार्यवाही की जाएगी”, ऐसा पाकिस्तान के अंतर्गत सुरक्षामंत्री शेख रशीद ने कहा है। मगर यह दावे करते समय शेख रशीद अफगाणिस्तान के तालिबान के साथ पाकिस्तान के अच्छे संबंध होने का दिखावा करना चाहते हैं। पर वास्तव में तालिबान एवं पाकिस्तान में संघर्ष अटल होने की बात इस राष्ट्र के विश्लेषक कह रहे हैं।

इन दिनों बलोच विद्रोही संगठना ने पाकिस्तान में हमले का सत्र शुरु किया है। बलोचिस्तान के कुछ हिस्सों में तथा पंजाब प्रांत में भी बलोच विद्रोहियों ने विस्फोट तथा हमले करने का दावा किया था। मगर इस विद्रोही संगठनों के पास इतनी ताकत नहीं है, इसके पीछे तेहरिक के आतंकी होने का आरोप पाकिस्तान के अंतर्गत सुरक्षमंत्री ने लगाय था। पाकिस्तान में होनेवाले हमलों के तार अफगाणिस्तान और भारत से जुडे के दावे भी शेख रशीद ने किए थे। मगर पाकिस्तान ने ही सत्ता में लाए हुए तालिबान का राज्य अफगाणिस्तान में होते हुए वहां से पाकिस्तान पर हमले का षडयंत्र कैसे रचा जा सकता है, यह सवाल पाकिस्तान के प्रत्रकार तथा माध्यम सरकार से पूछ रहे हैं।
अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/pakistans-conflict-afghan-taliban-inevitable/

Related Post

Leave a Reply