Search results for “यूरोप”

‘साउथ चाइना सी’ और ‘वेस्टर्न पसिफ़िक’ में शुरू हुआ चीन का हवाई अभ्यास मतलब युद्ध की रिहर्सल – चीनी हवाई दल की घोषणा बीजिंग: “’साउथ चाइना सी’ और ‘वेस्टर्न पसिफ़िक’ समुद्री क्षेत्र में चीन की वायुसेना ने शुरु किया हुआ अभ्यास मतलब आगे आने वाले युद्ध की रिहर्सल है”, ऐसी घोषणा चीन के वायुसेना ने की है। दो दिनों पहले अमरिकी नौसेना की विनाशिका ने चीन के निर्माण किए कृत्रिम

बेलारूस से ‘क्रिप्टोकरेंसी’ को कानूनी मान्यता मिन्स्क: बिटकॉइन के साथ दुनिया के अन्य क्रिप्टोकरेंसी के दामों में बड़े उतार-चढ़ाव शुरू होते हुए, बेलारूस इस यूरोपीय देश ने क्रिप्टोकरेंसी के व्यवहार को अधिकृत मान्यता देने के बात घोषित की है। इससे पहले जापान और ऑस्ट्रेलिया इन दो देशोंने बिटकॉइन के क्रिप्टोकरेंसी के व्यवहार को अधिकृत मान्यता दी थी। जिसकी वजह से क्रिप्टोकरेंसी के व्यवहारों को मान्यता देने वाला बेलारूस यह इस

युरोपीय महासंघ ही युरोप के विनाश का जिम्मेदार – युरोपीय देशों के आक्रामक विचारधारा के नेताओं से टीका प्राग: युरोपिय महासंघ यह यूरोप खंड की सबसे बड़ी आपत्ती एवं खतरा होकर महासंघ यूरोप का विनाश करने के लिए जिम्मेदार है, ऐसी कड़ी आलोचना यूरोप में आक्रामक बाएँ विचारधारा के नेताओं ने की है। शनिवार को झेक रिपब्लिक की राजधानी पर प्राग में ‘मूवमेंट फॉर यूरोप ऑफ नेशंस एंड फ्रीडम स्टेट’

‘जेरूसलेम’ का फैसला

अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प की ओर से जेरूसलेम इस्त्रायल की राजधानी घोषित वॉशिंग्टन: ‘जेरूसलेम’ को इस्त्रायल की राजधानी घोषित कर के अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने पूरी दुनिया में खलबली मचाई है। यह ऐतिहासिक निर्णय साबित हुआ है। अमरिका और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने इस के पहले ही यह निर्णय लेना चाहिए था, ऐसा कहकर ट्रम्प ने इस निर्णय का समर्थन किया है। इस्त्रायल ने इस निर्णय का स्वागत किया

अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में बदलाव कॆ संकेत

रशिया के विदेशी मुद्रा के भंडार पर अमरिका का कब्ज़ा, ‘आर्थिक युद्ध’ की घोषणा साबित हो सकती है – रशिया के वित्तमंत्री का इशारा मॉस्को: ‘अमरिका के संभाव्य प्रतिबंधों का मुकाबला करने के लिए रशिया का बजट तैयार है। फिर भी अमरिका ने इन प्रतिबंधों में रशिया के विदेशी मुद्रा के भंडार का समावेश किया, तो उसे रशिया के खिलाफ आर्थिक युद्ध की घोषणा मानी जाएगी’, ऐसा कठोर इशारा रशिया

डस्ट बोल – भाग ​ ४

    उपनिवेशियों (साम्राज्यवादिओं) ने अफ्रीका के साथ-साथ दुनिया भर में अन्य स्थानों पर भी अपना उपनिवेश स्थापित किया था। इसी उपनिवेशवाद के कारण ही हमें अफ्रीका खंड की पहचान जंगली टोलियों के रुप में, गुलामों का प्रदेश इस रुप में हुई। सच पुछा जाय तो इन उपनिवेशियों के आगमन से पूर्व अफ्रीका में कुछ समृद्ध साम्राज्य थे। परन्तु खनिज संपत्ति समृद्ध प्रदेश के रुप में अब कही जाकर अफ्रीका की

डस्ट बोल – भाग ​ ३

  इक्कीसवी सदी में जहाँ पर अनेक देशों की समृद्धता आँखों को चका चौंध कर देती है, प्रगति की होड़ लगी हुई है वहीं दूसरी ओर ऐसे गरीब राष्ट्र भी हैं जहाँ के लोगों की स्थिति एवं विपन्नावस्था देख दिल पर काफ़ी आघात पहुँचता है। प्रगत राष्ट्रों में जहाँ पर हर एक विद्यार्थी के हाथ में टॅब आ पहुँचा हैं, वहीं गरीब राष्ट्रों में बहुतांश बच्चों के लिए शिक्षा हासिल

डस्ट बोल – भाग ​२​

  सबराहन देश माने जाने वाले इथिओपियाने तो पिछली सदी से ही अनेक दुर्भिक्षों का सामना किया है और अब भी कर ही रहा है| परन्तु सुदान के साथ केनिया, सोमालिया जैसे देश भी पिछले दो वर्षों में दुर्भिक्ष्य के कारण झुलस गये हैं| इन चारों ही देशों के अनेक हिस्सों में जिन लोगों को अन्न के लिए त्राहि-त्राहि करते हुए प्राण गंवाने पड़े हैं, वे छूट गए आज यह

डस्ट बोल - भाग १

  कुछ महीने पूर्व इंटरनेट पर एक छायाचित्र (तस्वीर) उभरकर दिखायी दे रही थी। उस समय उस पर्दे पर चल रहा दृश्य कुछ इस प्रकार था कि एक छोटे से प्रवासी जहाज के पिछली ओर इंजिन के पास में होनेवाले छोटे से स्थान पर दो व्यक्ति अपना संतुलन बनाये संभलकर बैठे थे। उनका संतुलन यदि जरा सा भी ढ़ल जाता तो, पानी में गिरकर अथवा उस इंजिन के ज़कड़ में

 ​ अमेरीका ने इराक युद्ध जीत लिया, ऐसी गर्जना राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सन २०११ के दिसम्बर मास में की थी। अमेरीका ने इराक से नौं साल बाद सेना को वापस बुलाया था। ४५०० सैनिकों का बलिदान और अरबों डॉलर खर्च करके अमेरीका ने उन नौं सालों में क्या हासिल किया? इस प्रश्न का ‘विजय’ ही एकमात्र उत्तर था। अर्थात अमेरीकी राष्टपति जिसे विजय कहते थे, क्या वह विजय है,