Search results for “भारत”

QUAD-India

अंतरिक्ष क्षेत्र में ‘क्वाड’ का सहयोग मज़बूत होगा – अमरीका, जापान, ऑस्ट्रेलिया की अंतरिक्ष संगठनों के साथ ‘इस्रो’ के प्रकल्प बंगलुरू – भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इस्रो) ‘क्वाड’ के अपने सहयोगी देशों के साथ अंतरिक्ष सहयोग का विस्तार कर रही हैं। भारत, अमरीका, जापान और ऑस्ट्रेलिया अलग अलग अंतरिक्ष प्रकल्पों पर काम कर रहे हैं। इसमें इस्रो और नासा के ‘निसार’ उपग्रह प्रकल्प का, जापान के साथ हो रही चांद

A2 गाय का दूध

हरि ॐ श्रद्धावानों की सुविधा के लिए कुछ दिनों से हमने  ’शताक्षी वटी’ उपलब्ध करा दी है। विद्यमान हालातों में और भागदौड़ के जीवन में ’शताक्षी प्रसादम्‌’ घर में ही बनाना हर एक को संभव नहीं हो रहा था, इस बात को मद्देनजर रखते हुए ’शताक्षी वटी’ का प्रबंध किया गया। उसी के साथ, भारतीय वंश की गाय के दूध का लाभ (’A2’ प्रकार का दूध) श्रद्धावानों को मिलें, इसलिए

’A2’  गाईचे दूध

हरि ॐ श्रद्धावानांच्या सोयीसाठी काही दिवसांपासून आपण ’शताक्षी वटी’ उपलब्ध करून दिली आहे. सद्य परिस्थितीत व धकाधकीच्या जीवनात ’शताक्षी प्रसादम्‌’ घरी करणे प्रत्येकाला शक्य होत नव्हते, हे लक्षात घेऊन ’शताक्षी वटी’ ची सोय करण्यात आली. त्याचप्रमाणे भारतीय वंशाच्या गाईच्या दुधाचा फायदा (’A2’ प्रकारचे दूध) श्रद्धावानांना मिळावा या कारणास्तव छोट्या प्रमाणात मुंबईतील श्रद्धावानांना प्रायोगीक तत्वावर हे दूध उपलब्ध करून देण्यात आले; व त्याला सर्व स्तरातून उत्तम प्रतिसाद मिळाला; व या दूधाची

india-economy-budget

बजट २०२१-२२ नई दिल्ली – विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर, इसके लिए बड़े पैमाने पर सरकारी खर्चे का प्रावधान करने वाला २०२१-२२ साल का बजट केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने प्रस्तुत किया। कोरोना के संकट के कारण धीमी हुई विकास की प्रक्रिया को गतिमान बनाने के लिए किए हुए साहसिक फैसले, यह इस बजट की सबसे बड़ी विशेषता मानी जाती है। स्वास्थ्य, बुनियादी सुविधा, कृषि, रक्षा इन क्षेत्रों के

तुर्की की गतिविधियों के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आक्रामक

तुर्की को रोकने के लिए ग्रीस और ‘युएई’ का रणनीतिक साझेदारी समझौता अथेन्स/अबुधाबी – तुर्की के बढ़ते वर्चस्ववादी क़ारनामें रोकने के लिए ग्रीस ने ज़ोरदार गतिविधियाँ शुरू की हैं। पिछले कुछ महीनों में ग्रीस ने, अमरीका के साथ फ्रान्स, इस्रायल, इजिप्ट एवं भारत के साथ सहयोग बढ़ाने के लिए पहल की थी। इसमें अब ‘संयुक्त अरब अमीरात’ (युएई) का इज़ाफा हुआ है और ग्रीस ने इस देश के साथ सीधे

सच्चिदानन्द सद्‍गुरुतत्त्व - भाग २

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०७ अक्टूबर २०१० के पितृवचनम् में ‘सच्चिदानन्द सद्‍गुरुतत्त्व(Satchidanand Sadgurutattva)’ इस बारे में बताया। जो-जो अस्तित्व है जिंदगी में, उससे सिर्फ हमें आनंद ही मिले, ये किसके हाथ में हो सकता है? किसकी ताक़त हो सकती है? ‘सच्चिदानंद’ की ही यानी सद्‌गुरु की ही और ये आनंद तभी उत्पन्न हो सकता है, जब संयम है, राईट। एकार्थी – extremes बन जाओ तो आनंद कभी नहीं मिलेगा। संयम

discipline in life

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०७ अक्टूबर २०१० के पितृवचनम् में ‘जीवन में अनुशासन (discipline in life) का महत्त्व’ इस बारे में बताया। ये संयम जो है, बहुत आवश्यक होता है। जहाँ जितना बोलना चाहिए, उतना ही बोलना चाहिए। जहाँ जो करना चाहिए, उतना ही करना चाहिए। जहाँ शौर्य चाहिए, वहाँ शौर्य चाहिए। जहाँ शान्ति चाहिए, वहाँ शान्ति ही चाहिए। हर चीज़ की आवश्यकता होती है। लेकिन हम अपने मन पर

Afghanistan

अफ़गानिस्तान में मौजुदा वर्ष के पहले छह महीनों में हुई हिंसा में १,२०० से अधिक लोग ढ़ेर – संयुक्त राष्ट्रसंघ की रपट काबुल/संयुक्त राष्ट्रसंघ – वर्ष २०२० के पहले छह महीनों के दौरान अफ़गानिस्तान में हिंसा में मारे गए हुए एवं घायल हुए लोगों की संख्या ३,५०० से अधिक होने का दावा संयुक्त राष्ट्रसंघ की रपट में किया गया है। यह रपट जारी करके अफ़गानिस्तान में बढ़ रही हिंसा पर

गुरु-आज्ञा

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०७ अक्टूबर २०१० के पितृवचनम् में ‘जीवन में अनुशासन का महत्त्व’ इस बारे में बताया। गुरु-आज्ञा-परिपालनं, सर्वश्रेयस्करं। गुरु-आज्ञा का पालन करना ही सबसे श्रेय, श्रेयस्कर चीज़ है। सर्वश्रेय यानी सर्व बेस्ट जो है, वो हमें किससे प्राप्त होता है? गुरु-आज्ञा से प्राप्त होता है, राईट। इसी लिए ‘गुरुचरण पायस’ कहा गया है। ‘The Discipline’ बाकी की only they are a Dicipline. ये बाकी के डिसील्पीन्स से

US-China

‘ईरान’ की सहायता कर रहीं चीनी कंपनियों पर अमरीका के प्रतिबंध वॉशिंग्टन – ईरान के हथियार और अन्य लष्करी कार्यक्रमों के लिए सहायता प्रदान कर रही चीन की छह कंपनियों पर अमरीका ने प्रतिबंध लगाए हैं। अमरिकी विदेशमंत्री माईक पोम्पिओ ने इन प्रतिबंधों का ऐलान किया है। कुछ दिन पहले ही संयुक्त राष्ट्रसंघ ने ईरान पर लगाए प्रतिबंधों का अवधि खत्म होने के बाद ईरान को हथियारों की बिक्री करनेवालों