Search results for “माँ”

देव माझा विठू सावळा - भाग ३

सद्गुरु श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १३ नोव्हेंबर २००३ च्या मराठी प्रवचनात ‘देव माझा विठू सावळा – भाग ३’ याबाबत सांगितले. आम्ही सगळे कोण? तर ‘नाचती वैष्णव गाती रे’ आम्ही ‘वैष्णव’. हा वैष्णवांचा धर्म कसा? आम्ही कोण, कसे? तुकाराम महाराज काय सांगतात? ‘तुका म्हणे सोपी केली पायवाट। उतरावया भवसागर रे।’ कोणी केली? ह्या वाटा, हे संत ज्या दाखवतात ना, त्यांच्यावरूनच चालायचं असतं. बाकीच्या सगळ्या वाटा कुठेतरी तुम्ही चुकू शकता, पण संतांच्या पावलावर

हुकूमत

सार्वजनिक माफी का ऐलान करनेवाली तालिबान का क्रूर चेहरा विश्‍व के सामने आया काबुल – पाकिस्तान की सहायता से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी छवि चमकाने की कोशिश कर रही तालिबान ने अफ़गान सेना और विरोधियों के लिए सार्वजनिक माफी का ऐलान किया था। हमें शरण आनेवालों पर किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं करेंगे, यह कहकर तालिबान ने उनमें आया हुआ बदलाव दिखाने की कोशिश की। लेकिन, बीते चौबीस घंटों

माझा विठू सावळा

सद्गुरु श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १३ नोव्हेंबर २००३ च्या मराठी प्रवचनात ‘देव माझा विठू सावळा’ याबाबत सांगितले. ही चंद्रभागा म्हणजे संतांची ‘माऊली’. प्रत्येक भक्त काय म्हणतो की मला वाळू व्हायचयं, मला वाळवंट व्हायचंय. मला देवा तुझ्या पायीची वहाण व्हायचंय किंवा नामदेवांसारखा श्रेष्ठ भक्त म्हणतो की, परमेश्वरा, पांडुरंगा तुझा पाय माझ्या डोक्यावर नाही पडला तरी चालेल, पण तुझ्याकडे येणारा प्रत्येक भक्त आणि तुझ्याकडून परत जाणारा प्रत्येक भक्त हा माझ्यापेक्षा खूप श्रेष्ठ आहे

भारत के

भारत के स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत ‘आयएनएस विक्रांत’ के समुद्री परीक्षण शुरू नई दिल्ली – भारत की स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत ‘आयएनएस विक्रांत’ के अंतिम चरण के समुद्री परीक्षण शुरू हुए हैं। यह परीक्षण पूरे होने के बाद ‘आयएनएस विक्रांत’ भारतीय नौसेना के बेड़े में दाखिल होगी। इस युद्धपोत के यह परीक्षण कुछ महीने पहले ही शुरू होने की उम्मीद थी। लेकिन, इस स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत का निर्माणकार्य तय

ॐ जनन्यै नम:

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०३ मार्च २००५ के पितृवचनम् में ‘ॐ जनन्यै नम:(Om Jananyai Namah)’ इस बारे में बताया। ॐ जनन्यै नम:। जननी, यानी जन्म देने वाली, यानी माँ, माता। जो सबकी माता हैं, जो सबका जनन करती हैं ऐसी राधाजी को मेरा प्रणाम रहे। ‘जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी।’ ऋषिवर कहते हैं कि जननी और जन्मभूमि, यानी मुझे जन्म देने वाली मेरी माता और मेरी जन्मभूमि जो है, मेरा देश

विठू सावळा

सद्गुरु श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १३ नोव्हेंबर २००३ च्या मराठी प्रवचनात ‘देव माझा विठू सावळा’ याबाबत सांगितले. ‘देव माझा विठू सावळा। माळ त्याची माझिया गळा॥’ हा अभंग आम्ही लाख वेळा ऐकला असेल, पण आमच्या डोक्यात कधी हा प्रकाश पडला नाही. ‘देव माझा विठू सावळा। माळ त्याची माझिया गळा॥’ विठ्ठलाची माळ कधीच विठ्ठलाच्या गळ्यात राहिली नाही राजांनो. ती भक्तांच्या गळ्यासाठीच आसुसलेली असते. परंतु आम्ही कधीतरी, ही माळ तेवढ्या मनाने, प्रेमाने विठ्ठलाच्या गळ्यात

खाड़ी क्षेत्र से जुडी खबरें

लेबनान के रॉकेट हमलों को इस्रायली लष्कर का प्रत्युत्तर जेरूसलेम – मंगलवार को लेबनान की सीमा में से इस्रायल पर दो रॉकेट हमले हुए। उसके बाद इस्रायल के लष्कर ने लेबनान की सीमा में तोपें दागकर प्रत्युत्तर दिया। आतंकवादियों ने किए इन रॉकेट हमलों के लिए लेबनान ज़िम्मेदार होने का आरोप इस्रायल ने किया। उसी के साथ, लेबनान का संकट इस्रायल के लिए ख़तरा नहीं बनने देंगे, ऐसी घोषणा इस्रायल

श्रीशब्दध्यानयोग-०२

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने १५ अक्टूबर २०१५ के पितृवचनम् में ‘श्रीशब्दध्यानयोग- ०२’ इस बारे में बताया। सो, बड़े प्यार से हमें, गुरुवार से पहला demonstration होगा, हम सीख जाएँगे, demonstration होगा यानी क्या, हमें सीखने के लिए होगा, राईट, हम सीखेंगे। Most probably हम लोगों को पुस्तिका भी मिल जाएगी। तो चक्र यहाँ होगा, उसकी प्रतिमा होगी, वो प्रतिमा हम लोग स्क्रिन पर भी display कर सकते हैं, राईट, ओ.के.।

अफगानिस्तान से जुडी गतिविधियां

अफ़गानिस्तान में तालिबान के साथ लड़ रहा पाकिस्तानी सेना अधिकारी गिरफ्तार काबुल – पाकिस्तान का तालिबान के साथ संबंध ना जोड़ें, ऐसा बयान पाकिस्तान के विदेशमंत्री ने कुछ दिन पहले ही किया था। लेकिन, तालिबान के पक्ष में लड़ रहे पाकिस्तानी लष्करी अधिकारी को हिरासत में लेकर अफ़गानिस्तान ने पाकिस्तान की पोल खोली है। अफ़गानिस्तान में दाखिल होने से पहले इस पाकिस्तानी अधिकारी ने यह बात भी कबूली है कि, वह

श्रीशब्दध्यानयोग - ०१

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने १५ अक्टूबर २०१५ के पितृवचनम् में ‘श्रीशब्दध्यानयोग- ०१’ इस बारे में बताया। तो हमारा मूल निवास कहाँ था, हम लोग नहीं जान सकते, ओ.के., ये एक बात है। दूसरी बात क्या होती है, बहुत बार हम लोगों का कुलदैवत कौनसा है, यह भी हमें मालूम नहीं होता। हमारा ग्रामदैवत कौन सा है, हमें मालूम नहीं रहता। ये वास्तुदेवता भी होती है डेफिनेटली। ये सब क्या है?