Search results for “अफगानिस्तान”

आतंकवादी संगठन 'आयएस' के हमलें और गतिविधियां बढ़ी

अमरिका, यूरोप में दावानल शुरू करें – ‘आयएस’ ने समर्थकों को उकसाया वॉशिंगटन: ‘पश्‍चिमी देशों को दर्द देना है तो अमरिका, फ्रान्स, ब्रिटेन और जर्मनी में जंगल में आग लगा दो| इससे शुरू होनेवाले दावानल का दर्द वह बर्दाश्त नही होगा’, यह कहकर ‘आयएस’ ने अमरिका और यूरोप के अपने समर्थकों को उकसाया है| अमरिका के कैलिफोर्निया के जंगलों में दावानल भडकने से पहले ‘आयएस’ ने यह आदेश दिए थे| ‘अल कायदा’, ‘आयएस’, ‘तालिबान’ एवं दुनिया भर के आतंकी संगठनों

भारत की रक्षाविषयक तैय्यारी

अमरिकी ‘अपाचे हेलिकॉप्टर’ भारतीय वायुसेना में शामिल नई दिल्ली: अमरिका ने भारत को पहला ‘अपाचे गार्डियन एएच-६४ ई (आई)’ यह हेलिकॉप्टर हस्तांतरित किया है| वर्ष २०१५ के सितंबर महीने में भारत ने अमरिका की बोईंग कंपनी के साथ समझौता करके २२ अपाचे हेलिकॉप्टर्स खरीद ने के लिए समझौता किया था| इसमें से पहला हेलिकॉप्टर बोईंग कंपनीने भारतीय वायुसेना के हाथ सौंप दिया है| अमरिका के एरिझोना राज्य में बोईंग की

दुनिया भर में आतंकवाद का धोखा बढ़ा

तालिबान ने अफगानिस्तान में युद्ध विराम करने की मांग ठुकराई काबुल – अफगानिस्तान में सभी वांशिक समुदाय और गुटों के प्रतिनिधि होनेवाले ‘लोया जिरगा’ ने तालिबान के सामने युद्ध विराम का प्रस्ताव रखा था| लेकिन, तालिबान ने यह प्रस्ताव ठुकराया है| अमरिका ने अफगानिस्तान से पूरी सेना पीछे हटाए बिना युद्ध विराम को तैयार नही होंगे, यह ऐलान तालिबान ने किया है| इस वजह से अफगानिस्तान में युद्धविराम की संभावना

भारत की ओर से रक्षाविषयक तैय्यारी पर जोर

स्वदेशी सेंसर्स देश की लष्करी तकनीक में बदलाव करेंगे – ‘डीआरडीओ’ प्रमुख नई दिल्ली: पाकिस्तान के सैनिक और आतंकियों की सीमा क्षेत्र में बढ रही घुसपैठ एवं लद्दाख से अरूणाचल के सीमा तक चीन की लष्करी गतिविधियों में बढोतरी होने की पृष्ठभुमि पर भारत ने अपने रक्षा बल को आधुनिक और अद्ययावत करने के लिए विशेष महत्व दिया है| इस के लिए भारतीय रक्षा बल सीमा पर ‘लेझर फेंसिंग’ का

अमरीका और भारत का पाकिस्तान पर बढ़ता दबाव

अमरिका से अरबों डॉलर्स लूटकर भी पाकिस्तान ने अमरिका के लिए कुछ नही किया – राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प   वॉशिंगटन/इस्लामाबाद – अमरिका से अरबो डॉलर्स ऐंठने के बाद भी पाकिस्तान ने अमरिका के लिये अल्प मात्रा में भी काम किया नही है। उल्टा अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान की सेना की अकैडमी के पास पूरी तरह सुख में रह रहा था, इन कडे शब्दों में अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड

‘साउथ चाइना सी’ और ‘वेस्टर्न पसिफ़िक’ में शुरू हुआ चीन का हवाई अभ्यास मतलब युद्ध की रिहर्सल – चीनी हवाई दल की घोषणा बीजिंग: “’साउथ चाइना सी’ और ‘वेस्टर्न पसिफ़िक’ समुद्री क्षेत्र में चीन की वायुसेना ने शुरु किया हुआ अभ्यास मतलब आगे आने वाले युद्ध की रिहर्सल है”, ऐसी घोषणा चीन के वायुसेना ने की है। दो दिनों पहले अमरिकी नौसेना की विनाशिका ने चीन के निर्माण किए कृत्रिम

अमरिका एवं पाकिस्तान की मित्रता खत्म- पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा असिफ इस्लामाबाद: अमरिका ने पाकिस्तान को दिए जाने वाले लगभग दो अब्ज डॉलर्स की सहायता रोकने के बाद पाकिस्तान हडबडाया है। पाकिस्तान से आने वाली प्रतिक्रिया में भी यह हड़बड़ाहट दिखाई दे रही है। अमरिका ने पाकिस्तान की अर्थसहाय्यता रोकने के समय अमरिका एवं पाकिस्तान की दोस्ती खत्म हो गई है। अमरिका ने पाकिस्तान को हमेशा धोखा दिया है

युक्रेन का विस्फोट - भाग २

मगर ’सोविएत रशिया’ से स्वतंत्र हुए युक्रेन को रशिया के प्रभाव से निकालने की जरुरत ही क्यों थी? इसका उत्तर ढूंढने के लिए फिरसे थोडा पीछे जाना पडेगा। सन १९९७ में अमेरिका के एक प्रभावशाली राजनीतिक माने जानेवाले जिबिग्नोव ब्रिजेन्स्की की एक किताब प्रसिद्ध हुई। किताब का नाम था, ’द ग्रैंड चेसबोर्ड: अमेरिकन प्रायमसी ऐण्ड इट्स जिओस्ट्रैटेजिक इम्पेरेटिवज्’, इस किताब में उन्होंने ‘युरेशिया’(युरोप व रशिया) को शतरंज की बिसात कहकर,

 ​ अमेरीका ने इराक युद्ध जीत लिया, ऐसी गर्जना राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सन २०११ के दिसम्बर मास में की थी। अमेरीका ने इराक से नौं साल बाद सेना को वापस बुलाया था। ४५०० सैनिकों का बलिदान और अरबों डॉलर खर्च करके अमेरीका ने उन नौं सालों में क्या हासिल किया? इस प्रश्न का ‘विजय’ ही एकमात्र उत्तर था। अर्थात अमेरीकी राष्टपति जिसे विजय कहते थे, क्या वह विजय है,