Search results for “ जल”

Bhaktibhav Chaitanya

    ‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण   जनवरी २०१९ संपादक की कलम से   हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा,   सभी श्रद्धावान नवम्बर और दिसम्बर महीने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे क्योंकि यह महीने अपने साथ श्री अनिरुद्ध पूर्णिमा और सच्चिदानन्द उत्सव लेकर आए जोकि सभी श्रद्धावानों के लिए हर्षोल्लास के शिखर हैं। श्री ‘सच्चिदानन्द उत्सव’ श्रद्धावानों के लिए “भक्तिभाव” का प्रतीक है जो

मोखाडा में भक्तिपूर्ण सेवा

  ‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण   नवम्बर २०१८ संपादक की कलम से   हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा, दिवाली…यानी साल का वह महीना जब सभी उत्सव की तैयारियों में मगन रहते हैं। तकरीबन दो हफ्ते इस उत्सव का रंग चढा रहता है। नए कपडे, स्वादिष्ट व्यंजन…दिवाली मानो एक सांस्कृतिक सम्मेलन ही है! अत्यंत आनंदादायी वातावरण का अनुभव। एक संस्था के रूप में हमेशा सेवा को प्राथमिकता

'अल्फा टू ओमेगा' न्युजलेटर - जुलाई २०१८

  ‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण   जुलाई २०१८ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान सिंह/वीरा मॉनसून का मौसम आ गया है और इस साल इसी मॉनसून के मौसम में फुटबॉल विश्व कप का आयोजन होने के कारण सभी की भावनाएँ खेल से जुड़ गईं हैं। जैसा कि देखने में आ रहा है लोग खुले मैदान में बारिश में खेलना ज्यादा पसंद कर रहे हैं। वास्तव में बारिश में खेल

Aniruddha Bapu told in his Pitruvachanam dated 14 Jan 2016 about, 'Panchamukha-Hanumat-kavacham Explanation - 03 (Brahmajal)’.

परमपूज्य सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने ०९ मार्च २०१७ के पितृवचनम् में ‘पंचमुखहनुमत्कवचम् विवेचन – ०३ ( ब्रह्मजल )’ इस बारे में बताया।   मूलाधार चक्र में कौन है? गणेशजी हैं, स्वाधिष्ठान चक्र में कौन हैं, प्रजापति ब्रह्मा हैं। स्वाधिष्ठान चक्र किसके साथ जुडा हुआ है? जल के साथ। मूलाधार चक्र पृथ्वी तत्व के साथ जुडा हुआ है। स्वाधिष्ठान चक्र जलतत्व के साथ जुडा हुआ है। और ये जल क्या

सीआरपीएफ़ के जवान शहीद होने पर ‘जेएनयू’ में जल्लोष

६ अप्रैल २०१० को छत्तिसगढ़ के दांतेवाडा ज़िले में माओवादियों ने बुज़दिल हमला किया और इस हमले में ‘सीआरपीएफ़’ के ७६ जवान शहीद हो गये। इस घटना के बाद देशभर में ग़ुस्से की तीव्र लहर दौड़ उठी थी। वहीं, ‘जेएनयू’ में इस हमले के बाद जल्लोष शुरू हुआ था। ‘इंडिया मुर्दाबाद, माओवाद ज़िंदाबाद’ के नारे यहाँ के कुछ छात्र दे रहे थे। माओवादियों को मिली इस क़ामयाबी के जल्लोष के

Pravachan, God, vedic, prayer, Lord, devotion, faith, teachings, Bapu, Aniruddha Bapu, Sadguru, discourse, Bandra, Mumbai, Maharashtra, India, New English school, IES, Indian Education Society, भक्ती, विश्वास, Aniruddha Bapu, अनिरुद्ध बापू, Bapu, बापू, Anirudhasinh, अनिरुद्धसिंह, अनिरुद्ध जोशी, Aniruddha Joshi, Dr. aniruddha Joshi , डॉ. आनिरुद्ध जोशी, सद्‍गुरु अनिरुद्ध, सद्‍गुरु अनिरुद्ध बापू, God, Lord, Bandra, Mumbai, Maharashtra, India, सद्‌गुरू अनिरुध्द बापू, सुन्दरकाण्ड, गंगाजी, बहनेवाली, महीने, नदिया, जीवन-नदी , बरसात, वर्षा, आसरा, ‘असजल मूल’ , electromagnetic, सूक्ष्म, चौपाई, भगवान, मनुष्य, जगह, नाम, भगवतभक्ती, विदयुतचुंबकिय शक्ती, सुर्यप्रकाश, श्रद्धा, पानी, हिमालाय, धूप, सुखाअकाल, सायन्स, कंपन, शब्द, मंत्र, इलेक्ट्रोनिक, प्रकाश, मन, श्लोक, जप, सदियोंसे, पवित्र, space, electonic space, wave, sun, sunlight, electric current, traveling, small, bhagwan, bhakti, shraddha, sundarkand, river, rain, water, ice, science, vibration, present, word, electricity

सजल मूल जिन्ह सरितन्ह नाहीं … (Sajal Mool Jinha Saritanha Naahi …) गंगाजी जैसी बारह महीने बहनेवाली नदियों का मूल सजल होने के कारण वे कभी नहीं सूखतीं। इसी तरह भगवान का नाम जिस मानव की जीवन-नदी का मूल होता है, उसका जीवन कभी नहीं सूखता। वहीं, जिन्हें केवल बरसात का ही आसरा है, वे वर्षा के बीत जाने पर फिर तुरंत ही सूख जाती हैं। भगवान से विमुख होकर

aniruddha bapu, bapu, aniruddha, samirdada, trivikram, indra, अनिरुद्ध, बापू, इंद्र, त्रिविक्रम, अनिरुद्ध बापू,water, holy water, Hindu, Mumbai, Maharashtra, India

श्री त्रिविक्रम जलाचे त्रिविध देहांवरील कार्य ( Trivikram Jal makes Trividh Deha Competent & Potent) परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापुंनी गुरूवार दिनांक ६ मार्च २०१४ रोजी च्या मराठी प्रवचनात श्री हरिगुरुग्राम येथे श्री त्रिविक्रम जल (Trivikram Jal) मानवाच्या त्रिविध देहाला कसे समर्थ बनवते हे स्पष्ट केले. जे आपण ह्या व्हिडिओमध्ये पाहू शकतो. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

अन्न व जल सेवन करण्यासंबंधी मार्गदर्शन (Guideline regarding eating food & drinking Water) - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 20 February 2014

परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापुंनी ( Aniruddha Bapu ) गुरूवार दिनांक २० फेब्रुवारी २०१४ रोजी च्या मराठी प्रवचनात श्री हरिगुरुग्राम येथे केवळ अन्नग्रहणापूर्वीच नव्हे तर जेवताना कमीतकमी एक तरी घास भगवंताचे नाम घेऊन घ्यावा. श्रध्दावानाच्या जीवनात त्रिविक्रमाचा अल्गोरिदम स्थूल पातळीवर पिण्याच्या पाण्यामधून कार्य करतो, म्ह्णूनच दिवसभरात उचित प्रमाणात व घोट घोट पाणी प्यावे. अन्नग्रहण आणि पाणी पिण्याविषयी बापुंनी केलेले मार्गदर्शन आपण या व्हिडीओत पाहू शकतो. ॥ हरि ॐ ॥

त्रिविक्रम जल पर आधारित सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू का प्रवचन

गुरुवार, 6 मार्च 2014 को परमपूज्य बापू ने ‘ त्रिविक्रम जल ’ इस विषय पर प्रवचन किया। हिन्दी प्रवचन में भी बापू ने इस सन्दर्भ में संक्षेप में जानकारी दी। इस ‘त्रिविक्रम जल’ विषय पर आधारित मराठी प्रवचन का हिन्दी भाषान्तर यहाँ पर संक्षेप में दे रहा हूँ, जिससे कि सभी बहुभाषिक श्रद्धावानों के लिए इस विषय को समझने में आसानी होगी। — ‘हरि ॐ’। ‘श्रीगुरुक्षेत्रम् मंत्र’ यह हम सब लोगों

जलाचा अध्यात्मिक इतिहास

परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापुंनी गुरूवार दिनांक २० फ़ेब्रुवारी २०१४ रोजी च्या मराठी प्रवचनात श्री हरिगुरुग्राम येथे त्रिविक्रमाचा प्रतिनिधि असणाऱ्या जलाचा अध्यात्मिक इतिहास काय आहे, हे सांगीतले. बापूंनी पुढील व्हिडिओमध्ये हा मुद्दा स्पष्ट केला आहे.