Search results for “यूरोप”

ईरान परमाणु समझौता और जुडी ख़बरें

ईरान के परमाणु समझौते को रशिया कमज़ोर ना करे – अमरीका एवं यूरोपिय देशों का बयान वॉशिंग्टन/तेहरान/मास्को – यूक्रैन के संघर्ष के कारण पश्‍चिमी देशों ने रशिया पर लगाए प्रतिबंध ईरान के परमाणु समझौते के लिए बाधा बन सकते हैं, ऐसा इशारा रशिया ने कुछ दिन पहले दिया था| साथ ही, यह प्रतिबंध रशिया और ईरान के सहयोग को नुकसान पहुँचानेवाले साबित नहीं होंगे, इसकी पश्‍चिमी देश गारंटी दें, यह

परिणाम

तीसरा विश्‍वयुद्ध शुरू हुआ तो परमाणु हथियारों का इस्तेमाल होगा किव/मास्को – तीसरा विश्‍वयुद्ध शुरू हुआ तो इसमें परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जाएगा और यह युद्ध अतिभंयकर संहार करेगा, ऐसा दहलानेवाला इशारा रशिया के विदेशमंत्री सर्जेई लैवरोव ने दिया। रशिया ने अपनी नौसेना की परमाणु पनडुब्बी के समावेश के साथ युद्धाभ्यास शुरू करके यह इशारा खोखला ना होने की बात भी दिखाई। इसके अलावा यूक्रैन को हथियारों की आपूर्ति

भारत का

श्रीलंका ने भारत से की एक अरब डॉलर्स सहायता की माँग कोलंबो – आर्थिक संकट से घिरे श्रीलंका ने भारत से और एक अरब डॉलर्स के आर्थिक सहायता की माँग की। चीन के विदेशमंत्री के श्रीलंका के दौरे के बाद भारत से की हुई माँग ध्यान आकर्षित कर रही है। श्रीलंका को काफी बडी आर्थिक सहायता प्रदान करने की तैयारी चीन ने दिखाई थी। लेकिन, श्रीलंका के नेतृत्व ने चीन

कोरोना संक्रमण

ओमिक्रॉन का फैलाव यह कोरोना महामारी का सबसे बुरा दौर साबित हो सकता है – उद्योजक बिल गेट्स की चेतावनी वॉशिंग्टन – कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट का फैलाव यह इस महामारी का सबसे बुरा दौर साबित हो सकता है, ऐसी चेतावनी अमरिकी उद्योजक बिल गेट्स ने दी। ओमिक्रॉन का संक्रमण इतनी तेज़ी के साथ बढ़ रहा है कि जल्द ही दुनिया के सभी देशों में उसका फैलाव हुआ दिखेगा, ऐसी

खतरा

रशिया के यूक्रैन पर हमला करने से तीसरा विश्‍वयुद्ध छिड़ जाएगा – यूक्रैन के मंत्री का इशारा किव/मास्को – रशिया का यूक्रैन पर हमला सिर्फ यूक्रैन तक ही सीमित नहीं रहेगा, बल्कि इससे व्यापक संघर्ष शुरू होगा और तीसरा विश्‍वयुद्ध छिड़ सकता है, यूक्रैन के मंत्री ने यह चेतावनी दी है| मौजूदा भूराजनीतिक स्थिति पर सोचा जाए तो ऐसा होना मुमकिन है, ऐसा इशारा यूक्रैन की ‘वेटरन्स मिनिस्टर’ युलिआ लैपुटिना

अमरीका रशिया तनाव बढ़ा (US Russia tensions escalate)

नाटो में युक्रैन का समावेश कोई भी देश रोक नहीं पाएगा – अमरिकी रक्षामंत्री का दावा किव्ह/वॉशिंग्टन – युक्रैन को नाटो में शामिल होने से कोई भी देश रोक नही सकता, यह वादा अमरीका के रक्षामंत्री लॉईड ऑस्टिन ने किया है। इस दौरान ऑस्टिन ने पूर्व युक्रैन का संघर्ष रशिया ने ही शुरू किया था, यह दावा करके इसकी शांति प्रक्रिया में रशिया ही बड़ा अड़ंगा होने का आरोप भी लगाया। युक्रैन का नाटो में

चीन को

 ताइवान के मसले पर युरोपीय महासंघ का चीन को नया झटका वॉर्सा/तैपेई/बीजिंग – यूरोप के साथ संबंध मजबूत बनाने के लिए ताइवान ‘थ्री सीज् इनिशिएटिव्ह’ में सहभागी हो सकता है, ऐसा दावा पोलैंड के ताइवान में नियुक्त अधिकारी बार्तोस्झ रिस ने किया है। ‘ताइवान यह लोकतंत्रवादी देश होकर, उसकी अर्थव्यवस्था की भी तरक्की हो रही है। यह पृष्ठभूमि ताइवान को युरोपीय देशों का साझेदार बनाने के लिए उचित है’, इन

चीन के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आक्रामक

चीन की ‘बीआरआय’ योजना में मानव अधिकारों का उल्लंघन – अंतरराष्ट्रीय अभ्यासगुट का आरोप लंदन/बीजिंग – चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग की महत्वाकांक्षी योजना ‘बेल्ट ऐण्ड रोड इनिशिएटिव’ (बीआरआय) में मानव अधिकारों का बड़ी मात्रा में उल्लंघन होने का आरोप अंतरराष्ट्रीय अभ्यासगुट ने लगाया है। बीते सात वर्षों के दौरान चीन की हुकूमत ने विश्‍वभर में शुरू किए प्रकल्पों से मानव अधिकारों का उल्लंघन करने के ६७९ मामले सामने आने

इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में सैनिकी गतिविधियां तेज

अमरीका इंडो-पैसिफिक की तैनाती बरकरार रखेगी – राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन का ऐलान वॉशिंग्टन – इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में की गई तैनाती अमरीका बरकरार रखेगी। यह तैनाती इस क्षेत्र के संघर्ष के लिए नहीं है, बल्कि संघर्ष टालने के लिए है। ऐसा ऐलान अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने किया। चीन के राष्ट्राध्यक्ष जिनपिंग को हमने अमरीका की इस नीति की पूरी जानकारी प्रदान की है, यह बात बायडेन ने स्पष्ट की।

india-economy-budget

बजट २०२१-२२ नई दिल्ली – विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर, इसके लिए बड़े पैमाने पर सरकारी खर्चे का प्रावधान करने वाला २०२१-२२ साल का बजट केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने प्रस्तुत किया। कोरोना के संकट के कारण धीमी हुई विकास की प्रक्रिया को गतिमान बनाने के लिए किए हुए साहसिक फैसले, यह इस बजट की सबसे बड़ी विशेषता मानी जाती है। स्वास्थ्य, बुनियादी सुविधा, कृषि, रक्षा इन क्षेत्रों के