Search results for “भारत”

“अल्फा टू ओमेगा” न्यूज़लेटर – अप्रैल २०१८

       अप्रैल २०१८ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान सिंह, मार्च २००६ में बापूजीने (डॉ. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी) तृतीय महायुद्ध से संबंधित लेखमाला की शृंखला दैनिक प्रत्यक्ष में आरंभ की। प्रथम लेख में ही बापू कहते हैं, “पिछले सौ वर्षों में अर्थात तथाकथित वैज्ञानिक काल के इतिहास को यदि हम देखते हैं तब भी विविध सत्तासंघर्ष का सही कारण एवं उनका परिणाम स्पष्टरूप में हमारे समझ में आ जाता है।

tww

Hari Om, The past 3-4 years have seen conflicts developing worldwide and worsening by the day, rather by the hour. Nations across the globe have more or less been polarized and now in the year 2018, ongoing conflict has come to be an everyday affair in several parts of the world and that indeed is the reality. Horrific human brutality stomps wild and defiant on the lands of Syria, Libya,

परमपूज्य सद्गुरू श्री अनिरुद्ध बापूंनी त्यांच्या २० फेब्रुवारी २०१४ च्या मराठी प्रवचनात ‘ आचमन म्हणजे त्रिविक्रमाचं स्मरण आणि सन्मान आहे ‘ याबाबत सांगितले. तुम्ही एक प्रयोग सगळ्यांनी करुन बघा. व्यवस्थित शास्त्रशुद्धपणे पंचधातूच्या एका तांब्याच्या पळीतून तुम्ही तेवढच पाणी घ्यायचं, हातावर नीट घ्यायचं आणि प्यायचं. तुम्हाला जाणवेल ते पाणी पिण्याची क्रिया अशी घडते, आपल्या मसल्सच्या, ह्या pharyngeal musclesच्या contraction reactions मुळे संपूर्ण घसा आणि तोंड व्यवस्थित ओलं होतं. जे काम एक

चीन का खतरा

‘डोकलाम’ मे चीन से लष्करी मूलभूत सुविधा का निर्माण – रक्षामंत्री सीतारामन की लोकसभा मे जानकारी नई दिल्ली : ‘डोकलाम’ में चीन हेलीपॅड के साथ बड़ी तादाद में लष्करी मूलभूत सुविधा निर्माण कर रहा है और चीनने फिर एक बार इस भाग में सैनिकों की तैनाती बढ़ाने की जानकारी रक्षामंत्री निर्मला सीतारामन ने लोकसभा में दी है। तथा पाकिस्तान में चीन के गतिविधियों पर भी बारीकी से नजर होकर सुरक्षा

सब श्रद्धावानों के लिये माँ जगदंबा का आशीर्वाद

माझ्या श्रद्धावान मित्रांनो व बालकांनो! सध्याची जागतिक परिस्थिती दिवसेंदिवस अधिकच बिकट होत चालली आहे. ह्या वर्षामध्ये भारतवर्षाचे व भारतधर्माचे शत्रू अतिशय जोर करू पाहत आहेत. भारतवर्ष सर्व शत्रूंशी यशस्वी मुकाबला करेल ह्याविषयी संशयच नाही. परंतु ह्यापुढील अडीच हजार वर्षांचा काळ सर्व स्तरांवर विचित्र व विलक्षण वळणे घेणाराच असणार आहे. श्रद्धावानांना ह्या काळात स्वतःचे हित साधून, भारतवर्षाचे व भारतधर्माचे हित साधत, जीवनातील आपदा दूर करण्यासाठी माझ्या मनात जगदंबेच्या व दत्तगुरुंच्या प्रार्थनेनंतर

सब श्रद्धावानों के लिये माँ जगदंबा का आशीर्वाद

मेरे श्रद्धावान मित्रों और बालकों! वर्तमान जागतिक परिस्थिति दिनबदिन अधिक ही बिकट बनती जा रही है। इस साल भारतवर्ष के तथा भारतधर्म के शत्रु अधिक जोर लगाने की कोशिश कर रहे हैं। भारतवर्ष सारे शत्रुओं का यशस्वी रूप से मुकाबला करेगा इस में संदेह ही नहीं है। लेकिन इसके बाद का ढाई हजार वर्ष का समय सभी स्तरों पर विचित्र एवं विलक्षण मोड लेने वाला ही होगा। श्रद्धावानों को इस

परमपूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने ३ सितंबर २०१५ के पितृवचनम् में ‘दिन में कम से कम चौबीस मिनट तो उपासना करनी ही चाहिए’ इस बारे में बताया। एक चीज बोलता हूँ कि बड़े प्यार के साथ। वेद हैं चार, अठारह पुराण हैं, तेईस उपपुराण हैं, एक सौ आठ उपनिषद हैं, गीता है, रामायण है, महाभारत है, अपने ही सारे ग्रंथ हैं और बहुत सारे ग्रंथ हैं। इस भारत में

श्रीलंका का चीन के साथ मुक्त व्यापार करार दूर जाने के संकेत कोलंबो / बीजिंग: श्रीलंका में इस हफ्ते के आखिर में स्थानीय स्वराज्य संस्था के चुनाव हो रहे हैं। जिसमें चीन के प्रभाव का मुद्दा अग्रणी पर होने के संकेत मिले हैं। इस पृष्ठभूमि पर श्रीलंका सरकार ने चीन के साथ होने वाला मुक्त व्यापार करार दूर पर धकेलने का प्रयत्न शुरू किया है। चीन में श्रीलंका के राजदूत

अमरिका एवं पाकिस्तान की मित्रता खत्म- पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा असिफ इस्लामाबाद: अमरिका ने पाकिस्तान को दिए जाने वाले लगभग दो अब्ज डॉलर्स की सहायता रोकने के बाद पाकिस्तान हडबडाया है। पाकिस्तान से आने वाली प्रतिक्रिया में भी यह हड़बड़ाहट दिखाई दे रही है। अमरिका ने पाकिस्तान की अर्थसहाय्यता रोकने के समय अमरिका एवं पाकिस्तान की दोस्ती खत्म हो गई है। अमरिका ने पाकिस्तान को हमेशा धोखा दिया है

परमपूज्य सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने ३० नवंबर २०१७ के पितृवचनम् में ‘४ सेवाओं का उपहार’ इस बारे में बताया। हर साल, हर दिन, हर पल हर एक श्रद्धावान के मन में, हर एक इन्सान के मन में ये विचार रहता है कि मैं जिस स्थिति में हूं, उस स्थिति से मैं और कैसे आगे चला जाऊं, मेरा विकास कैसा हो जाये, मुझे सुख कैसा प्राप्त हो जाये, मेरे दुख