ईरान के आक्रामक तेवर

पूर्व राष्ट्राध्यक्ष रफसंजानी की बेटी को पांच साल की सज़ा सुनाकर ईरान ने प्रदर्शनकारियों को दिया नेतृत्व – विश्लेषकों का दावा

ईरान के

तेहरान – ईरान में लगभग पिछले चार महीनों से हुकूमत के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों का समर्थन करने पर पूर्व राष्ट्राध्यक्ष अकबर रफसंजानी की बेटी को ईरान ने पांच साल की सज़ा सुनाई है। तथा ईशनिंदा और ईश्वर द्रोह का आरोप लगाकर ईरान ने तीन प्रदर्शनकारियों को फांसी सुनाई है। यह प्रदर्शन ईरान की सरकार को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुँचा पाए हैं, ऐसा बयान ईरान के सर्वोच्च नेता आयातुल्ला खामेनी ने किया है। लेकिन, पूर्व राष्ट्राध्यक्ष की बेटी को सज़ा सुनाकर ईरानी हुकूमत ने बिना नेतृत्व के इन प्रदर्शनों को स्वयं ही इसकी शक्ल बनाई है, यह दावा विश्लेषक कर रहे हैं।  

ईरानी हुकूमत ने गिरफ्तार किए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सज़ा देने की कार्रवाई तीव्र की है। अब तक १०० से अधिक लोगों को फांसी सुनाई गई है और इनमें फुटबॉल खिलाड़ी एवं कुछ कलाकारों का भी समावेश है। इसी बीच ईरान की हुकूमत ने कुछ ही दिन पहले जानीमानी सिने अभिनेत्री की रिहाई की थी। लेकिन, मंगलवार को ईरानी यंत्रणा ने फैज़ेह हाशेमी को पांच साल की सज़ा सुनाकर सनसनी निर्माण की। फैज़ेह ईरान के पूर्व राष्ट्राध्यक्ष अकबर रफसंजानी की बेटी है।

कासेम सुलेमानी की हत्या का प्रतिशोध ईरान लेकर ही रहेगा – ‘आईआरजीसी’ के मेजर जनरल हुसैन सलामी

तेहरान – ‘पूर्व मेडिटेरियन क्षेत्र से पूर्व अफ़गानिस्तान तक का क्षेत्र अपने नियंत्रण में लाने की साज़िश ईरान के शत्रुओं ने बनाई थी। लेकिन, लेफ्टनंट जनरल कासेम सुलेमानी ने इन सभी साज़िशों को नाकाम किया। ऐसे कासेम सुलेमानी की हत्या करके बड़ी गलती करनेवालों को ईरान कभी भी मांफ नहीं करेगा। आज नहीं तो कल सुलेमानी की हत्या का प्रतिशोध लिया जाएगा’, ऐसी दहाड़ ईरान के ‘इस्लामिक रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ कोअर’ (आईआरजीसी) के प्रमुख मेजर जनरल हुसैन सलामी ने लगाई हैं। 

‘आईआरजीसी’३ जनवरी, २०२० को अमरीका ने इराक के बगदाद में ड्रोन हमला करके लेफ्टनंट जनरल कासेम सुलेमानी को ढ़ेर किया था। इसके तीन वर्ष बीते हैं और आज भी ईरान की हुकूमत सुलेमानी की हत्या का प्रतिशोध लेने की धमकियां दे रही हैं। रविवार को ईरान के केरमान शहर में आयोजित समारोह में ‘आईआरजीसी’ प्रमुख मेजर जनरल हुसैन सलानी ने सुलेमानी के बलिदान की सराहना करके उन्होंने ईरान का गौरव बढ़ाया, यह दावा किया। ईरान के शत्रुओं को पूर्व मेडिटेरियन क्षेत्र से अफ़गानिस्तान के पूर्व के क्षेत्र तक का इलाका अपने नियंत्रण में लाना था। लेकिन, सुलेमानी ने यह साज़िश नाकाम करदी, ऐसा मेजर जनरल हुसैन सलामी ने कहा। ईरान के महान सेनानी सुलेमानी की हत्या करके शत्रु ने काफी बड़ी गलती की हैं। इसका प्रतिशोध लिए बिना ईरान शांत नहीं बैठेगा, ऐसी धमकी मेजर जनरल हुसैन सलामी ने दी।

ईरान की सरकार ने दो प्रदर्शनकारियों को फांसी चढ़ाया – ईरान के अल्पसंख्यांकों ने किया प्रदर्शनकारियों पर जारी कार्रवाई रोकने का आवाहन

ईरान के

तेहरान – हिज़ाब सख्ति विरोधी जारी प्रदर्शनों के बीच में रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ के सैनिकों की हत्या करने का आरोप लगाकर ईरान ने दो प्रदर्शनकारियों को फांसी दी है। साथ ही अमरीका और यूरोपिय महासंघ ने प्रतिबंध लगाए सैन्य अधिकारी को ईरान के पुलिस प्रमुख पद पर नियुक्ती की है। इसके ज़रिये ईरान की सरकार प्रदर्शनकारियों के खिलाफ जारी कार्रवाई बंद नहीं करेंगे, ऐसे स्पष्ट संकेत दे रही हैं। लेकिन, ईरान की हुकूमत प्रदर्शनकारियों पर जारी कार्रवाई तुरंत रोक दे, नहीं तो नए प्रदर्शन भड़केंगे, ऐसी चेतावनी ईरान के अल्पसंख्यांक धार्मिक नेता ने दी है। 

ईरान में हिज़ाब सख्ति विरोधी शुरू हुए प्रदर्शन पिछले ११३ दिनों से लगातार जारी हैं। ईरान की सरकार ने माध्यमों पर पाबंदी लागने की वजह से यहां के प्रदर्शनों की पुरी जानकारी विस्व के सामने आने में समय जा रहा हैं। लेकिन, सोशल मीडिया के माध्यम से ईरान के प्रदर्शनों की जानकारी प्रसिद्ध हो रही हैं। पिछले महीने ईरान की सरकार ने सार्वजनिक स्तर पर प्रदर्शन करने पर पाबंदी लगाने के बावजूद ईरान के ८० से भी धिक शहरों के सड़कों पर हिज़ाब सख्ति विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं। 

इन प्रदर्शनों में अबतक कम से कम ६०० लोग मारे गए हैं और २५ हज़ार से भी अधिक की गिरफ्तारी होने का दावा किया गजा रहा हैं। साथ ही ईरान की सरकार ने गिरफ्तार प्रदर्शनकारियों पर आरोप तय करके उन्हे फांसी चढ़ाने की प्रक्रिया तेज़ की हैं। कुछ दिन पहले रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ के सैनिक पर हमला करने के मामले में ईरान की अदालत ने मोहम्मद महदी करामी और सईद मोहम्मद हुसैनी को फांसी सुनाई और इसपर शनिवार को अमल भी किया गया।

ईरान ने किया इस्रायली नौसैनिक अड्डे को लक्ष्य करने वाले ड्रोन हमलों का युद्धाभ्यास

जेरूसलम – ईरान की नौसेना ने इस्रायल के दक्षिणी ओर के ‘इलाट’ नौसेना अड्डा और विध्वंसकों की प्रतिकृति बनाकर इसपर ड्रोन हमले करने का युद्धाभ्यास किया। पिछले हफ्ते ईरान के रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ के युद्धाभ्यास में ऐसे मॉक ड्रील किए गए थे, ऐसी जानकारी इस्रायली अखबार ने प्रदान की। इसके ज़रिये ईरान ने इस्रायल को धमकाया हैं, ऐसा दावा इस्रायली अखबार कर रहे हैं। 

नौसैनिक अड्डेपिछले हफ्ते होर्मुझ की खाड़ी में ईरान के रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ के ‘झोल्फकार १४०१’ नामक युद्धाभ्यास का आयोजन हुआ था। ईरान के रिवोल्युशनरी गार्डस्‌‍ ने इसके फोटो प्रसिद्ध किए थे। इस युद्धाभ्यास में ईरान ने मिसाइल्स के साथ ड्रोन्स का भी भारी संख्या में इस्तेमाल किया था। इसी युद्धाभ्यास में ईरान ने ‘अबाबिल-५’ नामक आत्मघाती ड्रोन का इस्तेमाल करके ‘हेंगम’ वर्ग के जहाज़ की प्रतिकृति नष्ट की थी। यह जहाज़ इस्रायल के इलाट नौसैनिक अड्डे पर तैनात होने का चित्र ईरान ने खड़ा किया था।

Read full Articles: www.newscast-pratyaksha.com/hindi/

Related Post

Leave a Reply