खाड़ी क्षेत्र से जुडी महत्वपूर्ण गतिविधियां

रशियन राष्ट्राध्यक्ष ईरान पहुँचे

तेहरान – युक्रेन युद्ध की तीव्रता बढती जा रही है और रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन मंगलवार को ईरान की राजधानी तेहरान पहुंचे। ईंधन तथा आर्थिक सहयोग पर राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ईरान के राष्ट्राध्यक्ष इब्राहिम रईसी के साथ चर्चा करेंगे। पिछले सप्ताह ही अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने खाडी राष्ट्रों का दौरा करके रशिया एवं ईरान के खिलाफ आघाडी मजबूत करने की दिशा में कदम बढाए थे। तत्पश्चात रशियन राष्ट्राध्यक्ष का यह ईरान दौरा अमेरिका के खाडी में राजनैतिकता को भेदने के लिए की गई है, ऐसा दावा पश्चिमी माध्यमों ने किया है।

पिछले महीने में तुर्कमेनिस्तान की राजधानी अश्गाबात में आयोजित कैस्पियन क्षेत्र के राष्ट्रों की बैठक में रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन और ईरान के राष्ट्राध्यक्ष इब्राहिम रईसी की मुलाकात हुई थी। युक्रेन में युद्ध छिडने के बाद रशियन राष्ट्राध्यक्ष का यह पहला विदेश दौरा है। पर रशियन राष्ट्राध्यक्ष सोविएत मित्रराष्ट्रों के अर्थात रशिया के प्रभावक्षेत्र के राष्ट्रों के दौरे पर होने का दावा पश्चिमी माध्यमों ने किया था। ऐसी स्थिति में राष्ट्राध्यक्ष पुतिन मंगलवार को जब तेहरान में दाखल हुए तब इन्हीं पश्चिमी माध्यमों ने रशियन राष्ट्राध्यक्ष का पहला विदेश दौरा होने की बात प्रसिद्ध की थी।

फ्रान्स का युएई के साथ ईंधन सहयोग करार

पैरिस – ‘संयुक्त अरब अमिरात-युएई’ के सर्वेसर्वा शेख मोहम्मद बिन ज़ाएद अल-नह्यान ने फ्रान्स का दौरान करके राष्ट्राध्यक्ष इमैन्युअल मैक्रॉन से भेंट की। उनके इस दौरे में फ्रान्स और युएई में ईंधन सहयोग करार संपन्न हुआ। युक्रेन के युद्ध के कारण ईंधन कमी का सामना करनेवाले फ्रान्स के लिए यह करार दिलासा देनेवाला होने का दावा किया जाता है। तो शेख मोहम्मद बिन ज़ाएद और राष्ट्राध्यक्ष मैक्रॉन की यह भेंट अमेरिका के लिए इशारा होने की बात अमेरिकन विश्लेषकों ने कही है।

ईंधन, कुदरती ईंधनवायु आपूर्ति निश्चित करने के बारे में सोमवार को फ्रान्स और युएई में ऊर्जा सहयोग करार संपन्न हुआ। फ्रेंच ईंधन कंपनी ‘टोटल एनर्जीज्‌’ और युएई की राष्ट्रीय ईंधन कंपनी ‘एडीएनओसी’ के अधिकारियों ने इस करार पर हस्ताक्षर किए। अंतर्राष्ट्रीय समूदाय, विशेषकर फ्रान्स की ईंधन सुरक्षा का समर्थन करने के लिए युएई निहायत उत्सुक होने की बात शेख मोहम्मद ने इस करार के बाद कही है। तो हाल के आव्हानात्मक दौर में युएई के साथ किए गए इस करार का अपने राष्ट्र के लिए नीतिपूर्ण महत्व होने की बात फ्रेंच विदेश मंत्री ब्रुनो ली मेर ने कही।

अमरीका खाड़ी देशों में दखलअन्दाज़ी करना छोड़ दें – चीन के विदेशमंत्री वँग ई

बीजिंग – ‘अमरीका और पश्चिमी देशों ने पुरानी आदतें छोड़ देनी चाहिए। हर पार खाड़ीदेशों के अन्दरूनी मामलों में दखलअन्दाज़ी करना तथा पश्चिमी देशों की मर्ज़ी के अनुसार खाड़ीक्षेत्र में बदलाव करवाना बन्द कर देना चाहिए’, ऐसी तीखी आलोचना चीन के विदेशमंत्री वँग ई ने की। अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन के सऊदी अरब दौरे की पृष्ठभूमि पर चीन के विदेशमंत्री ने यह टिप्पणी की हुई दिख रही है।

पिछले हफ़्ते अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ने सऊदी अरब का दौरा किया था। सऊदी समेत अन्य अरब-खाड़ी देशों के नेताओं के साथ भी बायडेन की बैठक हुई थी। उसमें खाड़ीक्षेत्र के ख़तरों के सन्दर्भ में चर्चा संपन्न हुई थी। अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष के इस खाड़ीदौरे को लक्ष्य करके चीन के विदेशमंत्री ने आलोचना की। सिरियन विदेशमंत्री फैसल मेकदाद के साथ वर्च्युअल चर्चा करने के बाद विदेशमंत्री वँग ई ने अमरीका पर निशाना साधा।

ईरान को परमाणु हथियार विकसित करने से रोकने पर अमेरिका-सऊदी अरब सहमत

  • – सऊदी के साथ सहयोग को ‘रीसेट’ करने की अमेरिका की कोशिश
    – अमेरिका ने सऊदी से ईंधन आपूर्ति बढ़ाने की मांग की
    – यूएस-सऊदी में 13 समझौतों पर हस्ताक्षर

जेद्दाह – अरब-खाडी देशों के साथ तनावग्रस्त बने संबंधों तनावमुक्त बनाने हेतु अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन बिन सलमान से भेंट की। तथा खाडी मित्रराष्ट्रों की चिंता का कारण बने ईरान के बारे में अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ने सौदी को विश्वास दिलाने की कोशिश की। ईरान को परमाणु सज्जता से रोकने पर अमेरिका और सौदी सहमत होने की बात वाईट हाऊस ने घोषित की। इस दौरान, बायडेन ने इस दौरे में युक्रेन युद्ध की पृष्ठभूमि पर सौदी एवं ईंधन उत्पादक अरब राष्ट्रों से ईंधन का उत्पादन बढाने की अपेक्षा व्यक्त की।

परमाणु हथियारराष्ट्राध्यक्ष बायडेन इस्रायल के दो दिन के दौरे के बाद शुक्रवार को देर से सौदी अरेबिया के जेद्दाह में दाखल हुए। पिछला डेढ़ साल अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ने सौदी के खिलाफ ली हुई भूमिका की पृष्ठभूमि पर बायडेन के इस दौरे की ओर सारे विश्व का ध्यान लगा हुआ था। विशेषकर राष्ट्राध्यक्ष बायडेन और सौदी के क्राऊन प्रिन्स मोहम्मद बिन सलमान की मुलाकात को बहुत अहमियत मिली थी। इसी तरह शुक्रवार को जेद्दाह में दाखल होने के बाद क्राऊन प्रिन्स और राष्ट्राध्यक्ष बायडेन ने एक-दूसरे हाथ नहीं मिलाया, इस ओर पश्चिमी माध्यमों नें ध्यान आकर्षित किया।

Read full Articles: www.newscast-pratyaksha.com/hindi/

Related Post

Leave a Reply