How Radhaji destroys the ego in oneself, explains Aniruddha Bapu

RadhajiOne of the names of Radhaji is ‘Krishnakala’. While explaining (in Hindi discourse dated 06 October 2005) the metaphysical meaning behind this name, initially, Sadguru Aniruddha dispels the fear of ‘Amavasya’ (new moon day) from our minds. Later, Bapu explains how this name, ‘Krishnakala’, is related to the ego in ‘me’ and how Radhaji destroys this undesired vice.

राधाजी का एक नाम ‘कृष्णकला’ भी है। इस नाम के पीछे के आध्यात्मिक अर्थ की व्याख्या बताते हुए, सद्गुरू अनिरुद्ध हमारे मन से ‘अमावस्या’ के भय को दूर करते हैं। उसके बाद बापू बताते हैं कि कैसे यह नाम, ‘कृष्णकला’, मेरे अहंकार से संबंधित है और कैसे राधाजी इस अवांछित विकार को – अहंकार को नष्ट कर देती हैं।

|| हरि: ॐ || ||श्रीराम || || अंबज्ञ ||

॥ नाथसंविध् ॥

Related Post

Leave a Reply