परमाणु संघर्ष का बढ़ता खतरा

परमाणु युद्ध में किसी की भी जीत नहीं होगी – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन 

संयुक्त राष्ट्र – परमाणु युद्ध कभी भी छिड़ना नहीं चाहिये, क्योंकि इस युद्ध में किसी की भी जीत नहीं होगी, इसका अहसास रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन ने कराया। सोमवार से न्यूयॉर्क में शुरू हुए परमाणु हथियारों के प्रसार बंदी समझौते संबंधित बैठक की पृष्ठभूमि पर पुतिन ने एक खत जारी किया। इसमें उन्होंने परमाणु हथियारों के प्रसार पर रोक लगाने संबंधी समझौते का ज़िक्र करके रशिया इसका पालन कर रही है, यह बात रेखांकित की। फरवरी में यूक्रेन अभियान शुरू करने से पहले एवं बाद में पुतिन ने परमाणु युद्ध शुरू हो सकता है, ऐसी चेतावनी दी थी। यूक्रेन संघर्ष शुरू होने के बाद उन्होंने रशिया की ‘न्यूक्लियर फोर्सेस’ को अलर्ट पर रहने के आदेश भी दिए थे। 

सोमवार से शुरू हुई इस बैठक के दौरान संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव समेत अधिकांश पश्चिमी देशों ने रशिया के परमाणु हथियार और यूक्रेन संघर्ष का ज़िक्र किया। यूक्रेन युद्ध के बीच में रशिया ने लगातार परमाणु हमले की धमकी देने से परमाणु हथियारों से होनेवाला खतरा अधिक बढ़ा है, यह दावा अमरिका और मित्रदेशों ने किया। इन देशों ने रशिया से लगातार हो रहे बयान गैर-ज़िम्मेदाराना होने की आलोचना भी की। इस पृष्ठबूमि पर रशिया के राष्ट्राध्यक्ष ने खत में कराया अहसास भी ध्यान आकर्षित कर रहा है।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव का इशारा – मानवता परमाणु विनाश से एक कदम दूरी पर है 

संयुक्त राष्ट्र – यूक्रेन का युद्ध और एशिया एवं खाड़ी में उभरते परमाणु खतरों की पृष्ठभूमि पर एक भूल मानवता को परमाणु संहार की ओर पहुंचा सकती है, ऐसी चेतावनी संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने दी। सोमवार से न्यूयॉर्क में ‘न्यूक्लियर नॉनप्रोलिफरेशन ट्रीटि’ के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय बैठक शुरू हुई है। इस बैठक की शुरूआत करते हुए संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव ने परमाणु विनाश पर चेतावनी देकर परमाणु हथियारों के बढ़ते खतरों का अहसास कराया। पिछले साल स्वीडिश अध्ययन मंड़ल ‘सिप्री’ ने जारी की हुई रपट में विश्व के नौं परमाणु देशों ने तैनात किए एटमी हथियारों की संख्या बढ़ने की जानकारी सामने लायी थी। इस पृष्ठभूमि पर हुई यह बैठक और महासचिव का इशारा ध्यान आकर्षित करता है।

धरती पर परमाणु हथियारों की संख्या कम करने के लिए परमाणु हथियार प्रसार बंदी समझौते का प्रावधान किया गया था। लेकिन, इस समझौते पर विश्व के सभी देशों ने अब तक हस्ताक्षर नहीं किए हैं।

ईरान ने परमाणु बम बनाने की तकनीक प्राप्त की है – ईरान के परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रमुख का ऐलान

तेहरान – ‘ईरान ने परमाणु बम बनाने की तकनीक प्राप्त की है। लेकिन, परमाणु बम बनाने की ईरान की योजना नहीं है’, यह ऐलान ईरान के परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रमुख ने किया। तीन हफ्ते पहले ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयातुल्ला खामेनी के वरिष्ठ सलाहकार कमाल खराज़ी ने भी दावा किया था कि, हमारे देश ने परमाणु बम बनाने की क्षमता हासिल की है। परमाणु बम के निर्माण के लिए युरेनियम का संवर्धन मुमकिन होने का बयान खराज़ी ने किया था। इसी बीच अमरीका के साथ परमाणु समझौते पर बातचीत नाकामयाब होने के बाद ईरान एक ही महीने में दूसरी बार यह चेतावनी दे रहा है। 

पिछले हफ्ते इस्रायल ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम की गतिविधियों पर ध्यान आकर्षित किया था। ईरान का परमाणु कार्यक्रम खतरनाक मोड़ पर होने की आलोचना रक्षामंत्री बेनी गांत्ज़ ने की थी। साथ ही परमाणु बम के निर्माण की कोशिश में जुटे ईरान के परमाणु प्रकल्प और संबंधित ठिकानों पर हमले करने की कड़ी चेतावनी इस्रायली रक्षामंत्री ने दी थी। ईरान के परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रमुख मोहम्मद इस्लामी ने स्थानीय वृत्तसंस्था से बोलते समय इस्रायल के आरोपों का जवाब दिया। 

ईरान इस्फाहन में नए परमाणु ‘रिएक्टर’ का निर्माण करेगा – बायडेन प्रशासन की चिंता बढ़ी 

वॉशिंग्टन/तेहरान – नातांझ परमाणु प्रकल्प पर हमले के बाद सावधान हुआ ईरान इस्फाहन में नए स्वदेशी परमाणु ‘रिएक्टर’ का निर्माण कर रहा है। ईरान के परमाणु ऊर्जा संस्था के प्रमुख ने संबंधित ऐलान किया। कुछ दिन पहले ईरान ने इस्फाहन परमाणु प्रकल्प में अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा आयोग द्वारा लगाए गए सीसीटीवी कैमेरे हटाए थे। इसके बाद परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रमुख ने इसकी आलोचना की थी और ईरान का परमाणु कार्यक्रम काफी तेज़ी से बढ़ने का दावा किया था। इस पृष्ठभूमि पर इस प्रकल्प में नए रिएक्टर का निर्माण करने के ईरान के ऐलान से परमाणु समझौता करने पर कायम रही अमरीका के बायडेन प्रशासन की चिंता बढ़ी है। 

ईरान परमाणु बम का निर्माण कर सकता है, ऐसी चेतावनी ईरान के सर्वोच्च नेता आयातुल्ला खामेनी के वरिष्ठ सलाहकार ने कुछ दिन पहले ही दी थी। परमाणु बम का निर्माण करने के लिए आवश्यक तकनीक और सामान ईरान ने प्राप्त किया है, यह दावा खामेनी के सलाहकार ने किया था। इसके बाद ईरान के परमाणु कार्यक्रम की गति पर अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा आयोग ने चिंता जतायी थी।

Read full Articles: www.newscast-pratyaksha.com/hindi/

 

Related Post

Leave a Reply