इस्रायल और अरब देशों में बढ़ता सहयोग

सुरक्षा के लिए मित्रदेशों को जब चाहिये तब सहायता प्रदान करने के लिए इस्रायल तैयार

मनामा – इस्रायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट बहरीन की ऐतिहासिक यात्रा पर हैं। सोमवार रात प्रधानमंत्री बेनेट बहरीन दाखिल हुए और जल्द ही वे किंग हमाद बिन इशा अल खालिफा से मुलाकात करेंगे। अब्राहम समझौते में शामिल इस्रायल और अरब देशों का सहयोग औपचारिक स्तर पर रखने के बजाए इसे सामरिक स्तर तक बढ़ाने का प्रस्ताव बेनेट बहरीन के राष्ट्रप्रमुख के सामने रखेंगे। ईरान और ईरान से जुड़े आतंकी संगठनों के खतरे के विरोध में सहयोग बढ़ाने के लिए इस्रायल के प्रधानमंत्री बहरीन की यात्रा पर पहुँचे हैं, यह दावा इस्रायली माध्यम कर रहे हैं।

बहरीन के किंग हमाद बिन इसा अल खालिफा से मुलाकात करने से पहले, प्रधानमंत्री बेनेट ने स्थानीय अखबार को साक्षात्कार दिया। इस दौरान इस्रायली प्रधानमंत्री ने अपनी यात्रा का कारण स्पष्ट किया। ‘इस्रायल और बहरीन के सामने एक ही चुनौती है। तो फिर इसका एकजूट से सामना करने में दिक्कत क्या है? हम साथ मिलकर ईरान और ईरान समर्थक गुटों से दिन-रात संघर्ष करेंगे। इस क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता स्थापित करने के लिए, इस्रायल अपने मित्रदेशों को जब चाहिये तब सहायता प्रदान करने के लिए तैयार हैं’, यह ऐलान प्रधानमंत्री बेनेट ने किया।

अधिक पढे: https://worldwarthird.com/index.php/2022/02/15/israel-ready-provide-security-assistance-hindi/

इस्रायल-मोरोक्को के बीच ६० करोड़ डॉलर्स का रक्षा समझौता

जेरूसलम – इस्रायल के साथ अब्राहम समझौते में शामिल हुए यूएई, बहरीन के बाद अब मोरोक्को ने भी इस्रायल से रक्षा समझौता किया है। मोरोक्को ने हवाई सुरक्षा यंत्रणा की खरीद के लिए ‘इस्रायली एरोस्पेस इंडस्ट्रीज’ (आईएआई) के साथ ६० करोड़ डॉलर्स का रक्षा समझौता किया। मोरोक्को इस समझौते के तहत इस्रायल से बराक मिसाइल खरीद करेगा। पड़ोसी अल्जेरिया से बढ़ रहें खतरे की पृष्ठभूमि पर मोरोक्को ने इस यंत्रणा की खरीद करने की बात कही जा रही है।

इस्रायली समाचार चैनल ने साझा की हुई जानकारी के अनुसार मोरोक्को ‘आईएआई’ से ‘बराक-एमएक्स’ हवाई सुरक्षा यंत्रणा की खरीद करेगा। ‘बराक-एमएक्स’ का इस्तेमाल ड्रोन, हेलीकॉप्टर, विमान एवं मिसाइल के विरोध भी किया जा सकता है। ‘बराक-एमएक्स’ हवाई सुरक्षा यंत्रणा के तीन प्रकार हैं। इस यंत्रणा के ‘इंटरसेप्टर’ ३५, ७० एवं १५० किलोमीटर दूरी पर स्थित लक्ष्य को निशाना कर सकते हैं। साथ ही शत्रु के क्रूज और ज़मीन से ज़मीन पर हमला करनेवाले मिसाइल भी यह हवाई यंत्रणा नष्ट कर सकती है।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/success-in-counter-terrorism-campaign-due-to-cooperation-with-israel/

इस्रायली कंपनी बहरीन को ड्रोन विरोधी यंत्रणा, राड़ार प्रदान करेगी

जेरूसलम – बराक मिसाइल, हेरॉन ड्रोन्स एवं जंगी विमानों के निर्माण में शीर्ष स्थान की इस्रायली कंपनी, बहरीन को ड्रोन विरोधी यंत्रणा और राड़ार की आपूर्ति करेगी। ईरान के तट से मात्र २०० किलोमीटर दूरी पर स्थित बहरीन के लिए यह ड्रोन विरोधी यंत्रणा और राड़ार सहायक साबित होगी। अब्राहम समझौते के तहत इस्रायल और बहरीन में यह सहयोग स्थापित हो रहा है। पिछले हफ्ते में ही इस्रायल ने बहरीन में अपने नौसेना अधिकारी की तैनाती करने के ऐतिहासिक निर्णय का ऐलान किया था।

पिछले वर्ष ‘इस्रायल एरोस्पेस इंडस्ट्रीज्‌’ (आईएआई) इस इस्रायली कंपनी की बेल्जियम स्थित उप-कंपनी के साथ बहरीन ने समझौता किया। बहरीन ने इस्रायली कंपनी से किस ड्रोन विरोधी यंत्रणा की खरीद की, इसका ब्यौरा अभी सामने नहीं आया है। लेकिन, बहरीन ने ‘आईएआई’ के ‘बैटस्‌ जीआर १२’ राड़ार की खरीद की है। यह राड़ार यंत्रणा तटीय क्षेत्र के करीब संदिग्ध गतिविधियों का पता लगाती है। इस वजह से इस राड़ार यंत्रणा की जानकारी बहरीन की समुद्री सुरक्षा बढ़ानेवाली साबित होगी।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/israel-anti-drone-systems-baharain/

इस्रायल के सहयोग की वजह से आतंकवाद विरोधी मुहिम कामयाब – सुड़ान के सेनाप्रमुख का दावा

खार्तुम – इस्रायल से सहयोग बढ़ने से सुड़ान को आतंकवाद विरोधी मुहीम मे बड़ी सफलता हासिल हो रही है, यह दावा सुड़ान के सेनाप्रमुख जनरल अब्देल फताह बुऱ्हान ने किया। सुड़ान ने २०२० के अन्त में यूएई और बहरिन की तरह इस्रायल से अब्राहम समझौता करके सहयोग स्थापित किया था। इसके बाद सुड़ान में सैनिकी विद्रोह करके, लोकनियुक्त सरकार का तख्तापलट किया था। सेना की इस कार्रवाई के विरोध में सुड़ान में प्रदर्शन हो रहे हैं और इसके पीछे विदेशी हाथ होने के दावे सेना ने किए हैं।

सुड़ान किसी समय इस्रायल के कड़े शत्रुदेश के तौर पर जाना जा रहा था। लेकिन, अब्राहम समझौते के बाद दोनों देशों का सहयोग भारी मात्रा में बढ़ रहा है। रक्षा एवं खुफिया जानकारी का आदान-प्रदान करने के क्षेत्र में सुड़ान को इस्रायल द्वारा बड़ी सहायता प्रदान हो रही है। पिछले कुछ महीनों में सुड़ानी सैनिकी अफसरों ने कई बार इस्रायल की यात्रा करने की बात भी सामने आयी है। इस पृष्ठभूमि पर, सेनाप्रमुख जनरल अब्देल फताह बुऱ्हान ने किया दावा अहम है।

अधिक पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/success-in-counter-terrorism-campaign-due-to-cooperation-with-israel/

Related Post

Leave a Reply