Videos

Aniruddha Bapu

स्वत:च्या खांद्यावर स्वत:चेच डोके असू द्या (Think On Your Own) उचित माहिती अवश्य गोळा करावी, पण निर्णय मात्र स्वत:च्या बुद्धीचाच वापर करून घ्यावा. सद्गुरुतत्त्वाला शरण जाऊन मानवाने स्वत:चे हित साधायला हवे. खोटा अहं उत्पन्न न होण्यासाठी आणि जीवनविकास साधण्यासाठी स्वत:च्या खांद्यावर स्वत:चेच डोके असू द्या म्हणजेच विचारपूर्वक प्रत्येक पाऊल टाका, याबद्दल परम पूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १६ ऑक्टोबर २०१४ रोजीच्या मराठी प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥

जसे कर्म तसे फल  (You Reap What You Sow) - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 16 Oct 2014

जसे कर्म तसे फल (You Reap What You Sow) प्रत्येकाने स्वत:च्या हिताचा विचार स्वत: करायला हवा. प्रत्यक्षपणे मी माझे हित काय करू शकतो याचा विचार करावा. लोकांनी जसे माझ्याशी वागावे असे मला वाटते तसे मला लोकांशी वागले पाहिजे. जसे कर्म तसे फल, याबद्दल परम पूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १६ ऑक्टोबर २०१४ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

पत्थर में से अनावश्यक हिस्से को तराशने से मूर्ति बनती है (Carving Unnecessary Parts From A Stone Converts It Into A Statue) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

पत्थर में से अनावश्यक हिस्से को तराशने से मूर्ति बनती है (Carving Unnecessary Parts From A Stone Converts It Into A Statue) किसी मनुष्य का, किसी आदत का या किसी तत्त्व का गुलाम नहीं बनना चाहिए। नियमों का पालन अवश्य करें, लेकिन ‘नियमों के लिए इन्सान नहीं है बल्कि इन्सान के लिए नियम है’ इस बात को न भूलें। मानव को चाहिए कि उसने स्वयं ही मन पर जो दूसरों

अपने जीवन को दूसरों के मत से आकार मत दीजिए ( Don't Shape Your Life By Others’ Opinions ) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

अपने जीवन को दूसरों के मत से आकार मत दीजिए ( Don’t Shape Your Life By Others’ Opinions ) सज्जनों से, आप्तमित्रों से मार्गदर्शन अवश्य लें, लेकिन औरों की राय से स्वयं को मत ढालिए। मेरा जीवन मुझे अपने हिसाब से जीना चाहिए, अपने मत से उसे बनाना चाहिए, यह मानव ध्यान में रखें। अपनी जिंदगी को स्वयं ही आकार देना चाहिए, इस बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध

दूसरों की राय से स्वयं के बारे में निर्णय मत कीजिए (Don't Judge Yourself By Others' Opinions) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

दूसरों की राय से स्वयं के बारे में निर्णय मत कीजिए | Don’t Judge Yourself By Others’ Opinions अन्य लोगों से, उनकी राय से मानव को अपना जीवन नहीं बनाना चाहिए। दूसरों के साथ प्यार से पेश आना, परिजनों के प्रति रहने वालीं अपनी जिम्मेदारियॉं निभाना, आप्तमित्रों से राय लेना यह आवश्यक है, लेकिन स्वयं को दूसरों के हिसाब से ढालना यह मानव के लिए नुकसानदेह होता है। दूसरों की

नकारात्मक विचारों पर काबू रखें (Overcome Negative Thoughts) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

नकारात्मक विचारों पर काबू रखें ( Overcome Negative Thoughts ) हमेशा अपना दुखडा रोते रहने से बच्चों पर भी इस बात का नकारात्मक परिणाम होता है। पॅरेंट्स के द्वारा किया जानेवाला नकारात्मक आचरण और उनकी नकारात्मक सोच बच्चों के मन पर बुरा परिणाम करते हैं। मानव स्वयं ही स्वयं का आधार बनकर जीवन में सकारात्मक सोच रखे, इस बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने ०९ अक्टूबर

अपनी कुशलताओं को खोजो ( Discover Your Skills ) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

अपनी कुशलताओं को खोजो ( Discover Your Skills ) मानव को चाहिए कि वह पहले स्वयं की खोज करे। भगवान के द्वारा मानव को दिये गये अच्छे गुणों की खोज मानव को करनी चाहिए। स्वयं में रहने वालीं सकारात्मक बातों को, क्षमताओं को खोजकर भक्ति करके बढाना चाहिए इस बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने ०९ अक्टूबर २०१४ के हिंदी प्रवचन में बताया, जो आप इस

समय को बरबाद नहीं करना चाहिए ( Don't Waste Your Time ) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

समय को बरबाद नहीं करना चाहिए ( Don’t Waste Your Time ) जो मानव समय का उचित उपयोग नहीं करता, वही निकम्मा है। समय का उपयोग विकास के लिए करना चाहिए, अपनी क्षमता को बढाना चाहिए। समय का उचित उपयोग करने के बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने ०९ अक्टूबर २०१४ के हिंदी प्रवचन में बताया, जो आप इस व्हिडियो में देख सकते हैं l ॥

मैं हूँ यह एहसास (The Realisation Of I Am) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

मैं हूँ यह एहसास ( The Realisation Of I Am ) हर एक मानव के पास ‘मैं हूं’ यह एहसास रहता ही है और उसके इस एहसास के कारण ही उसके लिए दुनिया का होना मायने रखता है। यदि यह एहसास ही न हो, तब बाकी की बातें बेमतलब साबित हो जाती हैं। मनुष्य के ‘मैं हूं’ इस एहसास के बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने

मनुष्याची कृती ही त्या कृतीच्या परिणामांवर अवलंबून असते ( Action taken by man varies according to its outcomes )  - Aniruddha Bapu Marathi Discourse 16 Oct 2014

मनुष्याची कृती ही त्या कृतीच्या परिणामांवर अवलंबून असते ( Action taken by man varies according to its outcomes ) मनुष्याची कोणतीही कृती ही त्याला त्याचे ताबडतोब आणि भविष्य काळात जाणवणारे परिणाम यावर अवलंबून असते. हाच नियम तो भगवंताबाबतीतही लावतो याबद्दल परमपूज्य सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १६ ऑक्टोबर २०१४ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥