Hindi

ताइवान मसले से जुडी गतिविधियों में तेजी

साउथ चाइना सी में चीन को प्रत्युत्तर देने के लिए ताइवान ने पनडुब्बी तैनात की तैपई/बीजिंग – ताइवान पर हमला करने के लिए चीन द्वारा बनाई जानेवालीं योजनाएँ और उसके लिए जारी आक्रामक हरकतों की पृष्ठभूमि पर, ताइवान ने ‘साऊथ चाइना सी’ में पनडुब्बी तैनात की है। ताइवान के रक्षा विभाग ने जारी की रिपोर्ट से यह बात सामने आई। ताइवान में अपनी पनडुब्बी ‘स्प्रार्टले आयलंड’ के पास के ‘तायपिंग

भारत रक्षा क्षेत्र

चीन को चेतावनी देने के लिए लद्दाख की एलएसी पर भारतीय सेना का युद्धाभ्यास लडाख – पूर्वी लद्दाख में १४ हज़ार फीट की ऊंचाई पर युद्धाभ्यास करके भारतीय सेना ने चीन को अपनी क्षमता का एहसास करा दिया। लद्दाख की एलएसी पर भारतीय सेना को चुनौती देने की तैयारी कर रहे चीन ने, अपने जवानों के लिए ‘मोबाईल ऑक्सिजन गिअर्स’ यानी प्राणवायु का सप्लाई करनेवाली यंत्रणा तैयार की है। पिछले साल लद्दाख

गतिविधियां

इराक और सिरिया में लष्करी कार्रवाई तीव्र करने का तुर्की का फ़ैसला – तुर्की की संसद की मंजुरी अंकारा – जल्द ही सिरिया और इराक में सेना की घुसपैंठ करवाकर लष्करी कार्रवाई तीव्र करने की घोषणा तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप तय्यीप एर्दोगन ने की थी। मंगलवार को तुर्की की संसद ने एर्दोगन के इस फैसले को मंजुरी दी। इससे अगले दो साल एर्दोगन सिरिया और इराक में हमले करवा सकते

अमरीका रशिया तनाव बढ़ा (US Russia tensions escalate)

नाटो में युक्रैन का समावेश कोई भी देश रोक नहीं पाएगा – अमरिकी रक्षामंत्री का दावा किव्ह/वॉशिंग्टन – युक्रैन को नाटो में शामिल होने से कोई भी देश रोक नही सकता, यह वादा अमरीका के रक्षामंत्री लॉईड ऑस्टिन ने किया है। इस दौरान ऑस्टिन ने पूर्व युक्रैन का संघर्ष रशिया ने ही शुरू किया था, यह दावा करके इसकी शांति प्रक्रिया में रशिया ही बड़ा अड़ंगा होने का आरोप भी लगाया। युक्रैन का नाटो में

भारतीय अर्थव्यवस्था  से जुडी महत्वपूर्ण गतिविधियां

प्रधानमंत्री के हाथों १०० लाख करोड़ की ‘गतिशक्ति’ योजना का शुभारंभ – पूरे देश में राष्ट्रीय राजमार्ग और कनेक्टिविटी प्रकल्पों के माध्यम से अर्थव्यवस्था को बल प्रदान होगा देश में योजना बनाकर बुनियादी सुविधाओं का विकास करके कनेक्टिविटी बढ़ाने की १०० लाख करोड़ रुपए की योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार के दिन किया। ‘पीएम गतिशक्ति नैशनल मास्टर प्लैन’ के तहत देश में बुनियादी सुविधाओं का बड़ा नेटवर्क