Featured Posts

चीन की आक्रामकता के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय समुदाय सक्रिय

चीन का खतरा बढ़ते समय, जापान-इंडोनेशिया रक्षा सहयोग समझौता ‘साऊथ चायना सी क्षेत्र मे ताकत का इस्तेमाल करके एकतरफ़ा बदलाव करने के लिए लगातार जारी कोशिशें चिंताजनक साबित होती हैं। जापान और इंडोनेशिया इन दोनों देशों को इस मामले में प्रतीत हो रही चिंता एकसमान है’, ऐसा जापान के विदेश मंत्रालय ने कहा है। दोनों देशों के विदेश मंत्री और रक्षा मंत्रियों में हुई ‘टू प्लस टू’ चर्चा के दौरान,

Bapu Always Protects His Children

– Abhishekhsinh Shah, Vile-Parle Even if humans have made significant progress scientifically, when nature shows us its power and fury, all efforts, human intelligence seems subliminal. Man feels relatively insignificant. And then he realizes that he is helpless without the support of that “One” – the Sadguru. Those who have unwavering faith in one’s Sadguru, facing a calamity, is an acknowledgement of his existence in one’s life. They get out

श्रीगुरु चरन सरोज रज

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने २४ फरवरी २००५ के पितृवचनम् में हनुमान चलिसा के ‘श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि’ इस चौपाई के बारे में बताया।  पहले सौ बीघा जमिन थी, लेकर आया था सौ बीघा, जाते समय बेचके कुछ भी नहीं रहा, ऐसा नहीं होना चाहिए। सौ बीघा लेके आये थे, दस हजार बीघा करके चले गये, ये मेरे जीवन का एम्स ऍण्ड ऑब्जेक्टीव होना चाहिए। तब जिंदगी

India-US-Ties

India-US cooperation scaling new heights while distrust increasing between India-China, claims US Admiral Aquilino Washington: – US Admiral John Aquilino made a very suggestive statement, ‘Military cooperation between India and the United States has reached unprecedented heights. Simultaneously, the trust between India and China has gone to an unbelievably low level.’  Read More: http://www.newscast-pratyaksha.com/english/indias-cooperation-us-reaching-new-heights/ Visit of the US Secretary of Defence concludes New Delhi: After holding discussions with Indian Defence

India-US-cooperation

भारत-चीन में अविश्‍वास बढ़ते समय, भारत का अमरीका के साथ सहयोग अधिक ऊँचाई को छू रहा है – अमरीका के ऍडमिरल ऍक्विलिनो का दावा वॉशिंग्टन – ‘भारत और अमरीका के बीच लष्करी सहयोग, पहले कभी नहीं था इतनी ऊँचाई पर पहुँचा है। उसी समय, भारत और चीन में अविश्वास, पहले कभी नहीं था इतने निचले स्तर पर गया है’, ऐसा सूचक बयान अमरीका के ऍडमिरल जॉन ऍक्विलिनो ने किया। जल्द

My Sadguru is my Saviour!

– Milindsinh Kasle, Thane Bapu is capable of taking care of the one who surrenders to him. I am deeply touched and overwhelmed, witnessing the extent of care and concern Bapu has for each of his Shraddhavan friends.   One can understand the depth of the word “experience” only when one puts pen to paper. One can never describe his divine interventions nor blessings. What we put on paper is

क्षीरसागर का मन्थन

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने २४ फरवरी २००५ के पितृवचनम् में ‘क्षीरसागर का मन्थन’ इस बारे में बताया। ये विमलचित्त सबको मिला है भाई। उसी का मंथन करना यही हमारी जीवन की इतिकर्तव्यता है, प्रमुख ध्येय है। एम्स ऍण्ड ऑबजेक्टीव जिसे हम लोग कहते हैं तो मोस्ट इम्पॉर्टंट एम्स ऍज वेल ऍज ऑब्जेक्टीव इज ओनली धिस। भाई, हमें अमृत पाना है यानी क्या पाना है? अमर नहीं होना है, कोई आदमी,

QUAD

Immediately after institutionalizing Quad with 1st #QuadSummit, its 4 members announce joint #NavalExercise with France in Bay of Bengal in April. This exercise points at first step towards expansion of Quad to #QuadPlus with 7+ nations keen to join. A serious warning to China. pic.twitter.com/8fKL9eBDhn — Samir Dattopadhye (@samirsinh189) March 16, 2021 QUAD cooperation to strengthen in the space sector, ISRO space projects with US, Japan and Australia Bengaluru: –

QUAD-India

अंतरिक्ष क्षेत्र में ‘क्वाड’ का सहयोग मज़बूत होगा – अमरीका, जापान, ऑस्ट्रेलिया की अंतरिक्ष संगठनों के साथ ‘इस्रो’ के प्रकल्प बंगलुरू – भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इस्रो) ‘क्वाड’ के अपने सहयोगी देशों के साथ अंतरिक्ष सहयोग का विस्तार कर रही हैं। भारत, अमरीका, जापान और ऑस्ट्रेलिया अलग अलग अंतरिक्ष प्रकल्पों पर काम कर रहे हैं। इसमें इस्रो और नासा के ‘निसार’ उपग्रह प्रकल्प का, जापान के साथ हो रही चांद

Bapu’s grace

– Ashwini Kedar Once a person surrenders at the Lotus Feet of Sadguru and offers the two coins –of Shraddha (faith) and Saburi (forbearance) – He would do anything for the devotee. It is then that the unachievable becomes possible! Then be it a job offer on campus through a strict short listing mechanism in the middle of recession and slowdown of the job market or the chaos of workforce