Current Affairs

Celebrations inside JNU after Dantewada Massacre of CRPF personnel

On 6th April 2010, Maoists carried out a cold-blooded attack in Dantewada district in the state of Chattisgarh, which resulted in the death of 76 CRPF personnel. Amidst angry reactions from across the country condemning this incident, there were reports that some students of JNU held celebrations inside the JNU campus. The students shouted slogans of ‘India Murdabad’ (Down with India) and ‘Maowad Zindabad’ (Long live Maoism) to celebrate this

Smriti Irani

‘जेएनयू के विवाद के कारण देश की प्रतिमा को ठेस पहुँची है। इसका पर्यटन क्षेत्र पर विपरित परिणाम हुआ है’ ऐसा खेद केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री महेश शर्मा ने ज़ाहिर किया है। देश की प्रतिमा को ठेस पहुँचानेवाली जवाहरलाल नेहरू युनिव्हर्सिटी का विवाद निश्चित रूप में कब और कैसे शुरू हुआ इसका विस्मरण ही हो जाये, इतनी तेज़ी से घटनाचक्र घूमने लगा है। जेएनयू’ मसले के बारे में अधिक जानकारी के

JNU

सन २०१४ के अक्तूबर महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमरीका के दौरे पर गये थे। वह नवरात्रि का दौर था और प्रधानमंत्री मोदी नवरात्रि के दौरान अनशन रखते है, इसलिए अमरीका में दी गयी दावत में भारतीय प्रधानमंत्री के लिए विशेष व्यवस्था की गयी थी, इसकी जानकारी प्रसारमाध्यमों द्वारा दी जा रही थी। लेकिन इसके बाद ‘जेएनयू’ में ‘महिषासुर शहादत दिन’ यानी महिषासुर का बलिदान दिवस मनाया गया। महिषासुर यह

JNU, जेएनयू

‘जेएनयू’ में चल रहे देशद्रोही कारनामों के पीछे ‘ज़मात-उल-दवा’ का प्रमुख हफ़ीज़ सईद का हाथ है, ऐसा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंग ने कहा था। सईद के ट्वीटर अकाऊंट पर से ‘जेएनयू’ में चल रहे भारतविरोधी प्रदर्शनों का समर्थन किया गया था। साथ ही, पाक़िस्तान सरकार भी ‘जेएनयू’ के इन प्रदर्शनों की सहायता करें, ऐसी माँग सईद ने इस ट्वीटर अकाऊंट के ज़रिये की थी। लेकिन यह ट्वीटर अकाऊंट हफ़ीज़ सईद

Smriti Irani

केंद्रीय मनुष्यबलविकास मंत्री स्मृती इराणी ने ‘जेएनयू’ के सिलसिले में संसद में उपस्थित किये गए प्रश्नों का बहुत ही प्रभावी रूप से जवाब दिया। अफ़ज़ल गुरु को बचाव का पूरा मौक़ा दिया जाने के बाद, सर्वोच्च न्यायालय ने उसे फ़ाँसी की सज़ा सुनायी। उसके बाद उसे बार बार माफ़ी के लिए आवेदन करने का भी मौक़ा दिया गया। उसके बाद ही, उसे सुनायी गयी फ़ाँसी की सज़ा पर अमल किया

सीआरपीएफ़ के जवान शहीद होने पर ‘जेएनयू’ में जल्लोष

६ अप्रैल २०१० को छत्तिसगढ़ के दांतेवाडा ज़िले में माओवादियों ने बुज़दिल हमला किया और इस हमले में ‘सीआरपीएफ़’ के ७६ जवान शहीद हो गये। इस घटना के बाद देशभर में ग़ुस्से की तीव्र लहर दौड़ उठी थी। वहीं, ‘जेएनयू’ में इस हमले के बाद जल्लोष शुरू हुआ था। ‘इंडिया मुर्दाबाद, माओवाद ज़िंदाबाद’ के नारे यहाँ के कुछ छात्र दे रहे थे। माओवादियों को मिली इस क़ामयाबी के जल्लोष के

JNU

देशद्रोह के आरोप के तहत दिल्ली पुलीस द्वारा ग़िरफ़्तार किये गये छात्रनेता कन्हैया कुमार को अंतरिम ज़मानत पर रिहा किया गया। उसकी रिहाई के बाद ‘जेएनयू’ में जल्लोष मनाया जा रहा है। लगभग सभी वृत्तवाहिनियों (चॅनल्स) पर ‘कन्हैया’ के इंटरव्यू प्रसारित किये जा रहे हैं। इस छात्रनेता को कुछ लोग ‘राजनीतिक नायक’ के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं, ऐसे आरोप हो रहे हैं। उसी समय ‘जेएनयू’ यह देश को

‘जेएनयू’ के आदिवासी छात्रों की प्रतिक्रिया

‘जेएनयू’ में महिषासुर का समर्थन करनेवाले संगठन और उनके प्रतिनिधि ‘हम ग़रीबों का, पिछड़ीं जातियों-जनजातियों का प्रतिनिधित्व करते हैं’ ऐसा दावा करते रहते हैं। लेकिन उसमें अंशमात्र भी सच्चाई नहीं है, यह स्पष्ट हो चुका है। ‘महिषासुर शहादत दिन’ के कार्यक्रम का पोस्टर देखकर ग़ुस्सा हुए ‘जेएनयू’ के आदिवासी छात्रों ने उसपर सख़्त ऐतराज़ जताया। आदिवासी छात्रों ने इस कार्यक्रम के विरोध में प्रकाशित किये पत्रक की शुरुआत ही –

कर्जो का महासागर

कर्ज न चुकाने के कारण आम आदमी को बहोतसी तकलीफें उठानी पडती है। कर्ज चाहे कितनाही छोटा या बडा हो, सामान्य किसान अकाल के कारण उसका बोझ उठा नहीं पाता। कभी कबार एक लाख के कर्जे के लिए किसानोंको पाच-दस लाखकी जमीन गिरवी रखनी पडती है और अगर वह किसान उस कर्जे की किश्तीया नहीं भर पाया तो उसकी जमीन जप्त हो जाती है। इस कर्जे के कारण कई किसानोंको खुदकुशी करनी पडी

India’s Solar Power Program - Double-standards of WTO & US

The increasing ‘Green House’ gas emissions are responsible for deteriorating of atmosphere on the earth. We all are experiencing the undergoing changes in the nature’s cycle due to ‘global warming’. Researchers are also associating the melting of ice on both the poles, the extreme climatic changes in the seasons, increasing natural calamities such as floods, storms, etc. with the global warming. Hence for more than last one and a half