Sangita Vartak

protective shield

– Aruna Dangle A sensitive body part such as an eye; a child unknowingly plays with it and it proves costly. His parents get immensely disturbed and feel their child might lose his eyesight. However, the ever-loving grace of one’s Sadguru cures the ailment. My family and I began following Bapu in the year 1999. We used to go to the Upasana Kendra near our home. We have experienced our

Seva Ghadli

– Madhavi Tilve The efforts I put in were as insignificant as standing up from rest Sleep is one such thing which, if one gives in, can make them lose track of time. Therefore, one needs someone who can rouse one from it and who else can do it, but one’s Sadguru? Our Sadguru lovingly accepts the responsibility of getting his children to do the right thing at the appropriate time. However, one

Tujhiya Charani

– Rupaliveera Daware, Bangalore   In our journey of life, we tend to gather experiences of the principle that is the Sadguru (Sadgurutatva). We tend to get closer to our Sadguru while savouring these experiences. Also, we tend to understand the ever-pervasive power of our Sadguru. We tend to realize that nothing is oblivious to him, not even a seemingly trivial thought. While we might be physically thousands of miles away from our Sadguru, we begin to

सद्‍गुरु श्रीअनिरुध्द का संवाद

२३ जुलाई २०२१ अर्थात गुरुपूर्णिमा के पावन पर्व पर सद्‍गुरु श्रीअनिरुध्द ने सभी श्रद्धावान मित्रों के साथ संवाद किया था। उस संवाद का व्हिडिओ यहां देख सकते है।  || हरि: ॐ || ||श्रीराम || || अंबज्ञ || ॥ नाथसंविध् ॥

कनेक्टिव्हिटी की दुनिया

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ३१ मार्च २०१६ के पितृवचनम् में ‘यह कनेक्टिव्हिटी की दुनिया है’ इस बारे में बताया। ये जमाना है मोबाईल्स का, नेट का, ट्वीटर, फेसबुक, वॉट्सऍप और ब्लॉग। ट्विटर, फेसबुक, वॉट्सऍप और ब्लॉग ये चार स्तंभ हैं। चंद नाम अलग हो जायेंगे आगे चलके, उनमें बहोत सारे सुधराव आ जायेंगे, बहुत चेन्जेस हो जायेंगे, but they have come to stay. ये जो चार प्रमुख स्तंभ हैं, ये

श्रीशब्दध्यानयोग-०२

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने १५ अक्टूबर २०१५ के पितृवचनम् में ‘श्रीशब्दध्यानयोग- ०२’ इस बारे में बताया। सो, बड़े प्यार से हमें, गुरुवार से पहला demonstration होगा, हम सीख जाएँगे, demonstration होगा यानी क्या, हमें सीखने के लिए होगा, राईट, हम सीखेंगे। Most probably हम लोगों को पुस्तिका भी मिल जाएगी। तो चक्र यहाँ होगा, उसकी प्रतिमा होगी, वो प्रतिमा हम लोग स्क्रिन पर भी display कर सकते हैं, राईट, ओ.के.।

क्षीरसागर का मन्थन

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने २४ फरवरी २००५ के पितृवचनम् में ‘क्षीरसागर का मन्थन’ इस बारे में बताया। ये विमलचित्त सबको मिला है भाई। उसी का मंथन करना यही हमारी जीवन की इतिकर्तव्यता है, प्रमुख ध्येय है। एम्स ऍण्ड ऑबजेक्टीव जिसे हम लोग कहते हैं तो मोस्ट इम्पॉर्टंट एम्स ऍज वेल ऍज ऑब्जेक्टीव इज ओनली धिस। भाई, हमें अमृत पाना है यानी क्या पाना है? अमर नहीं होना है, कोई आदमी,

हर एक इन्सान के पास एक क्षीरसागर होता है

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने २४ फरवरी २००५ के पितृवचनम् में ‘हर एक इन्सान के पास एक क्षीरसागर होता है’ इस बारे में बताया। हलाहल कहाँ उत्पन्न हुआ था? भाई देखो, क्षीरसागर में। जो परमपवित्र है, जिसमें अपवित्रता बिलकुल नहीं है, ऐसे क्षीरसागर में, जहाँ भगवान का निवास है, ऐसी जगह में भी जब बुरी प्रवृत्तियों की सहाय्यता ली जाती है, तो हलाहल पहले उत्पन्न होता है, यह जान लो भाई।

अहंकार हमारा सबसे बड़ा शत्रु है

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०५ मई २००५ के पितृवचनम् में ‘अहंकार हमारा सबसे बड़ा शत्रु है’ इस बारे में बताया।   ये महाप्रज्ञा है और दूसरा है महाप्राण, जो उनका पुत्र है, हनुमानजी, वो भी सर्वमंगल है, क्योंकि उनका नाम ही हनुमंत है यानी ‘हं’कार है। ‘अहं’ में जो ‘अ’ है उसे निकाल दो तो हंकार हो गया। मैं बार-बार कहता हूँ अहंकार है यानी हनुमानजी नहीं हैं, हंकार नहीं