Search results for “समय”

समय, times, साथ चलो, काल, भगवान, जीवन, क्षमा, Sadguru Shree Aniruddha

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ३१ मार्च २०१६ के पितृवचनम् में ‘समय के साथ चलो’ इस बारे में बताया। कईं लोगों को देखता हूँ, तो बस पढ़ते ही रहते हैं, कभी भी देखो खेलते रहते हैं मोबाईल पर, नहीं तो पढ़ते रहते हैं। इससे कुछ नहीं मिलता, ध्यान में रखिए। ये हमारे जो समय भगवान ने दिया हुआ है वो सिर्फ गिना-चुना है। कोई नहीं आज अगर सोचता है, कोई भी

समयोग

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ३० जून २००५ के पितृवचनम् में ‘समयोग’ इस बारे में बताया। योग जो है, भगवान, उस भगवती शक्ति और भक्त तीनों का एक समवान हिस्से में आना, एक ही ट्रान्ससेक्शन में, एक ही समय, एक ही पल, तीनों आनंद जो होते हैं, उसे योग कहते हैं। भगवान तो हमेशा आनंदस्वरूप हैं। भगवती जो हैं, वो तो आल्हादिनी स्वरूप हैं, आनन्दप्रदायक, उत्पन्न करनेवाली हैं। खुद आनन्दस्वरूप भगवान,

​भूमाता को प्रणाम करते समय की प्रार्थना

हरि ॐ दिनांक २७ जून २०१९ के गुरुवार के पितृवचन में सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध बापु ने, भूमाता को प्रणाम करने का महत्त्व हम सबको बताया। ”यह भूमाता विष्णुजी की शक्ति है ऐसी हमारी धारणा है, यह हमारी संस्कृति है। सुबह जाग जाने पर ज़मीन पर कदम रखने से पहले भूमाता को प्रणाम करने से, दिन की शुरुआत मंगलमयी तथा पवित्रता से, अंबज्ञता से भरी होती है।” ऐसा बापु ने कहा। भूमाता

Aniruddha Bapu told in his Pitruvachanam dated 18 Feb 2016 that 'Happiness is found along the way (आनन्द यह पथ पर प्रवास करते समय मिलता है )'

परमपूज्य सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने १८ फ़रवरी २०१६ के पितृवचनम् में ‘आनन्द यह पथ पर प्रवास करते समय मिलता है’ इस बारे में बताया। अनिरुद्ध बापू ने पितृवचन के दौरान यह बताया कि यह जानना बहुत जरुरी है, हर एक बडे इन्सान के लिए भी, जो हर दिन इम्तेहान देता रहता है, किसी ना किसी चीज में और हर बच्चे के लिए भी, जो पढाई में इम्तिहान दे

समय को बरबाद नहीं करना चाहिए ( Don't Waste Your Time ) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 09 Oct 2014

समय को बरबाद नहीं करना चाहिए ( Don’t Waste Your Time ) जो मानव समय का उचित उपयोग नहीं करता, वही निकम्मा है। समय का उपयोग विकास के लिए करना चाहिए, अपनी क्षमता को बढाना चाहिए। समय का उचित उपयोग करने के बारे में परम पूज्य सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने अपने ०९ अक्टूबर २०१४ के हिंदी प्रवचन में बताया, जो आप इस व्हिडियो में देख सकते हैं l ॥

आक्रामकता बढ़ी

रशिया कभी भी यूक्रैन पर हमला कर सकती है – अमरिकी विदेशमंत्री एंथनी ब्लिंकन का इशारा किव्ह/मास्को – रशिया अगले कुछ ही दिनों में कभी भी यूक्रैन पर हमला कर सकती है, यह इशारा अमरीका के विदेशमंत्री एंथनी ब्लिंकन ने दिया है। रशिया के सामने मतभेद दूर करने के लिए राजनीतिक चर्चा का विकल्पा मौजूद है, यह दावा भी ब्लिंकन ने किया। विदेशमंत्री ब्लिंकन फिलहाल यूक्रैन के दौरे पर हैं

कोरोना संक्रमण

ओमिक्रॉन का फैलाव यह कोरोना महामारी का सबसे बुरा दौर साबित हो सकता है – उद्योजक बिल गेट्स की चेतावनी वॉशिंग्टन – कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट का फैलाव यह इस महामारी का सबसे बुरा दौर साबित हो सकता है, ऐसी चेतावनी अमरिकी उद्योजक बिल गेट्स ने दी। ओमिक्रॉन का संक्रमण इतनी तेज़ी के साथ बढ़ रहा है कि जल्द ही दुनिया के सभी देशों में उसका फैलाव हुआ दिखेगा, ऐसी

खाड़ी क्षेत्र में तनाव

ईरान की इंधन, क्षेपणास्त्रों की तस्करी पर अमेरिकन नौसेना की बड़ी कार्रवाई वॉशिंग्टन – अमरीका की नौसेना ने ईरान की इंधन और क्षेपणास्त्रों की तस्करी पर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की। ईरान ने यमन के हाउथी बागियों के लिए अवैध रूप से निर्यात किये हुए डेढ़ सौ से अधिक क्षेपणास्त्र कब्जे में लेने की बात अमरीका के विधि विभाग ने घोषित की। वियना में ईरान के साथ परमाणु

Mahavishnu

|| Om Asankhyeyaaya Namah || In this pravachan, Sadguru Aniruddha has explained the meaning of this name of the Mahavishnu. ‘Asankhyey’ primarily means beyond sankhyaa or all numbers, i.e. infinite. However, with very interesting examples, Sadguru Bapu explains the fact that the existence of numbers depends on direction and time, which is one of the mathematical theories of the ‘Sankhya Shastra’. || ॐ असंख्येयाय नमः ||  इस प्रवचन में सद्गुरु

तालिबान हुकूमत

सिस्तान-बलोचिस्तान की सीमा पर ईरान की सेना की तालिबान से मुठभेड़ तेहरान/काबुल – ईरान के रिव्होल्युशनरी गार्ड्स के जवान और अफगानिस्तान स्थित तालिबान के आतंकवादियों के बीच बुधवार को मुठभेड़ हुई। सिस्तान-बलोचिस्तान की सीमा पर हुई इस मुठभेड़ में तालिबान के आतंकवादी मारे जाने की तथा तालिबान ने ईरान की लष्करी चौकियों पर कब्ज़ा करने की खबरें प्रकाशित हुईं थीं। उसकी पुष्टि नहीं हुई है । लेकिन यह मुठभेड़ गलतफ़हमी