Search results for “विजय”

सरस्वती पूजन (दशहरा/विजयादशमी)

हरि ॐ, दिनांक १० अक्तूबर २०१९ को किये हुए पितृवचन में सद्‌गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ‘या कुन्देन्दुतुषारहारधवला’ इस प्रार्थना के बारे में बताते हुए, दशहरे के दिन घर में सरस्वती पूजन कैसे किया जाता है इसकी जानकारी मेरे ब्लॉग में दी जायेगी, ऐसा कहा था। उसके अनुसार इस पूजन की जानकारी दे रहा हूँ। पूजन सामग्री १) हल्दी, कुंकुम, अक्षता २) निरांजन ३) नारियल – २ ४) गुड़-खोपरे का नैवेद्य

सरस्वती पूजन (दसरा/विजयादशमी)

हरि ॐ, दिनांक १० ऑक्टोबर २०१९ रोजी झालेल्या पितृवचनात सद्‌गुरु श्री अनिरुद्धांनी ’या कुन्देन्दुतुषारहारधवला’ या प्रार्थनेबद्दल सांगताना दसर्‍याच्या दिवशी घरी सरस्वती पूजन कसे केले जाते याची माहिती माझ्या ब्लॉगवरून देण्यात येईल असे सांगितले होते. त्याप्रमाणे या पूजनाची माहिती खाली देत आहे.    पूजन साहित्य  १) हळद, कुंकू, अक्षता २) निरांजन ३) नारळ – २ ४) गुळ-खोबर्‍याचा नैवेद्य ५) फूले, सोने (आपट्याची पाने) ६) सरस्वती – पुस्तके आणि चित्र ७) सुपारी

दसरा विजयोपासनेसंबंधी सूचना

हरी ॐ, यावर्षी दसरा मंगळवार दि. ०८.१०.२०१९ रोजी आहे. दरवर्षी दसऱ्याच्या दिवशी श्रीहरिगुरुग्राम येथे विजयोपासना घेण्यात येते. पण यावर्षी पासून दसऱ्याची विजयोपासना ही जवळच्या गुरुवारी घेण्यात येणार आहे. यानुसार यावर्षी दसऱ्याची विजयोपासना गुरुवार दि. १०.१०.२०१९ रोजी संध्याकाळी ७.३० वा. श्रीहरिगुरुग्राम येथे घेण्यात येईल याची कृपया श्रद्धावानांनानी नोंद घ्यावी. सुनिलसिंह मंत्री मुख्य कार्यकारी अधिकारी

मृत्यु पर विजय

आज के दौर में दुनिया भर में घटित हो रहीं घटनाओं को देखकर आम आदमी का मानवता पर का विश्वास ही उठने लगता है। हिंसा, ख़ुदगर्ज़ी, दांभिकता, मक़्क़ारी, झूठापन ये अवगुण ही मानो इस कलियुग में दुनिया का उसूल बन रहे हैं। जो इन्सान नेकी से जीने की कोशिश करते हैं, उन्हें दक़ियानुसी क़रार दिया जाता है। जहाँ देखो, वहाँ निराशाजनक दृष्य ही दिखायी देता है। ऐसी निराश परिस्थिति में

दसर्‍याच्या दिवशी करावयाचे श्रीमहासरस्वती व श्रीसरस्वती पूजन (dussehra puja)

विजयादशमी म्हणजेच दसर्‍याच्या दिवशी सद्‌गुरु अनिरुध्द बापूंनी सांगितल्याप्रमाणे श्रध्दावानांनी श्रीमहासरस्वती व श्रीसरस्वतीचे पूजन करणे श्रेयस्कर असते. ते कसे करावे व का करावे ह्याची माहिती स्वत: बापूंनी गेल्या वर्षी प्रवचनामध्ये सांगितल्याप्रमाणे खाली देत आहे. पूजनासाठी एका दगडी पाटीवरच श्रीमहासरस्वती व श्रीसरस्वती च्या खाली दिलेल्या प्रतिमा प्रेमाने काढाव्यात व त्यांचे मन:पूर्वक पूजन करावे. ही दोन्ही चित्रं बाजू-बाजूला काढायची असतात. आपल्या जीवनाचे भाग्य आपण घडवतो. पण त्यासाठी लागणारी उर्जा ह्या प्रतिकांमधून आपल्याला मिळते.

आहार, निद्रा, भय, मैथुन, जग, कार्यशक्ती, अंबज्ञ, भगवंत, शांती, अशांती, विहार, आचार, विचार, परिणाम, अंत, राग, गाडी, ब्रेक, मूर्खपणा, अंबज्ञता, मन, गुणधर्म, शारिरिक आरोग्य, मानसिक आरोग्य, विचारांची तीव्रता, चरण, control, car, break, affect, road, angry, bhay, आध्यात्मिक आरोग्य, भय, निर्भय, सुख, काम, क्रोध

विनाशकारी मनोवृत्तींवर विजय मिळवण्यासाठी भगवंताचे सहाय्य कसे मिळवावे (How To Attain The Help From God To Overcome Destructive Emotions) आहार, निद्रा, भय आणि मैथुन या चारही गोष्टी सर्व जिवांसाठी समसमान असतात, म्हणूनच या चार गोष्टींची काळजी माणसाला घ्यावी लागते. काम, क्रोध वगैरे वृत्तींवर नियन्त्रण मिळवणे माणसासाठी कठीण असते. पण जो अंबज्ञ असतो, त्याला मनावर उचित नियन्त्रण मिळवण्यासाठी भगवंताकडून सहाय्य मिळतेच. विनाशकारी मनोवृत्तींवर विजय मिळवण्यासाठी भगवंताचे सहाय्य कसे मिळवावे, या संदर्भात

भारत के

भारत के स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत ‘आयएनएस विक्रांत’ के समुद्री परीक्षण शुरू नई दिल्ली – भारत की स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत ‘आयएनएस विक्रांत’ के अंतिम चरण के समुद्री परीक्षण शुरू हुए हैं। यह परीक्षण पूरे होने के बाद ‘आयएनएस विक्रांत’ भारतीय नौसेना के बेड़े में दाखिल होगी। इस युद्धपोत के यह परीक्षण कुछ महीने पहले ही शुरू होने की उम्मीद थी। लेकिन, इस स्वदेशी विमान वाहक युद्धपोत का निर्माणकार्य तय

इस्रायल से जुडी महत्त्वपूर्ण खबरें

स्रायल की नई सरकार द्वारा हमास पर हुई पहली कार्रवाई जेरूसलम – हमास के आतंकियों ने मंगलवार के दिन इस्रायल के सरहदी क्षेत्र में बलून बम के हमले किए। इसके प्रत्युत्तर में इस्रायल के लड़ाकू विमानों ने हमास के ठिकानों पर कार्रवाई की। दो दिन पहले ही इस्रायल का नियंत्रण स्वीकारने के बाद नफ्ताली बेनेट और येर लैपीड़ के सरकार की गाज़ा पर यह पहली कार्रवाई थी। सत्ता परिवर्तन के

अहंकार हमारा सबसे बड़ा शत्रु है

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०५ मई २००५ के पितृवचनम् में ‘अहंकार हमारा सबसे बड़ा शत्रु है’ इस बारे में बताया।   ये महाप्रज्ञा है और दूसरा है महाप्राण, जो उनका पुत्र है, हनुमानजी, वो भी सर्वमंगल है, क्योंकि उनका नाम ही हनुमंत है यानी ‘हं’कार है। ‘अहं’ में जो ‘अ’ है उसे निकाल दो तो हंकार हो गया। मैं बार-बार कहता हूँ अहंकार है यानी हनुमानजी नहीं हैं, हंकार नहीं