Search results for “रशिया”

अमरीका रशिया तनाव बढ़ा (US Russia tensions escalate)

नाटो में युक्रैन का समावेश कोई भी देश रोक नहीं पाएगा – अमरिकी रक्षामंत्री का दावा किव्ह/वॉशिंग्टन – युक्रैन को नाटो में शामिल होने से कोई भी देश रोक नही सकता, यह वादा अमरीका के रक्षामंत्री लॉईड ऑस्टिन ने किया है। इस दौरान ऑस्टिन ने पूर्व युक्रैन का संघर्ष रशिया ने ही शुरू किया था, यह दावा करके इसकी शांति प्रक्रिया में रशिया ही बड़ा अड़ंगा होने का आरोप भी लगाया। युक्रैन का नाटो में

Russia-aggression

‘वेस्टर्न सहारा’ से संबंधित अमरीका के निर्णय पर रशिया की आलोचना मॉस्को/अल्जिअर्स – ‘वेस्टर्न सहारा’ पर मोरोक्को की संप्रभुता को मंजूरी देने का अमरीका का निर्णय एकतरफा है। अमरीका का यह ऐलान अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन करनेवाला है, ऐसी आलोचना रशिया के उप-विदेशमंत्री मिखाईल बोग्दानोव ने की है। रशिया के बाद मोरोक्को के पड़ोसी देश अल्जेरिया ने भी अमरीका के इस निर्णय की आलोचना की है।  आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/russia-criticism-of-america-decision-regarding-western-sahara/

रशिया आक्रामक मोड़ पर

रोमानिया में अमरिका ने ‘थाड’ तैनात करने पर रशिया ने जताई कडी आपत्ति मास्को/वॉशिंटन – ‘अस्थायी इस शब्द के अलावा लंबे समय तक चलेगा, ऐसा इस दुनिया में कुछ भी नही, इस मायने की एक रशियन पहेली है| इस वजह से अमरिका रोमानिया में कर रही थाड मिसाइल डिफेन्स की अस्थायी तैनाती यानी असल में क्या और किस लिए है, यह सवाल उपस्थित होते है| रोमानिया की मिसाइल यंत्रणाओं का

रशिया से जुडी महत्वपूर्ण गतिविधियां

सबसे अधिक सोने का भंडार रखने वाले देशों की सूची में रशिया की पांचवे स्थान पर छलांग – २,१०० टन सोने के साथ चीन को भी पीछे छोडा मॉस्को: अमरिका और युरोपीय देशों के प्रतिबंधों का सामना कर रहे रशिया ने पिछले वर्ष में ऐतिहासिक ‘सुनहरा’ मुकाम दर्ज किया है| वर्ष २०१८ में रशिया के सोने का भंडार २,१०० टन तक जा पहुंचा है| विदेशी मुद्रा भंडार में इस सोने

अमरिका और रशिया में बढ़ता तनाव

नाटो का युद्धाभ्यास और विस्तारवाद के विरोध में रशिया आक्रामक मॉस्को/ऑस्लो: नॉर्वे मेश रशिया के सीमा के समिप नाटोने बडी मात्रा मेश शुरू किये युद्धाभ्यास से रशिया तिलमिला उठा है| नाटो के इस युद्धाभ्यास के विरोध में रशियाने आक्रामक भुमिका अपनाई है| इस दौरान रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिनने नॉर्वे के नजदिकी क्षेत्र में स्वतंत्र अभ्यास करने का घोषित किया है इसीके साथ रशिया के शिर्ष नेताओं ने नाटो के विस्तारवाद

अमरिका सह पश्चिमी देश और रशिया में तनाव बढ़ने के आसार

रशिया की सीमा के पास युद्धाभ्यास के लिए नाटो के ४५ हजार सैनिकों की तैनाती भव्य युद्धाभ्यास में ‘इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेअर’ का भी समावेश ब्रुसेल्स/मॉस्को – ‘सेव्हिएत संघराज्य’ के विघटन के बाद का सबसे बड़े युद्धाभ्यास के तौर पर पहचाने जाने वाले ‘ऑपरेशन ट्रायटंड जंक्चर १८’ के लिए नाटो लगभग ४५ हजार सैनिक रशियन सीमा के पास उतरने वाले हैं, यह सामने आया है।रशियन सीमा से जुड़कर स्थित नोर्वे, स्वीडन, फ़िनलैंड,

रशिया की आक्रामक नीति

रशिया ईरान को सीरिया से बाहर नहीं निकाल सकता – इस्राइल में स्थित रशिया के राजदूत का विधान तेल अवीव: ‘जिस तरह से सीरिया में स्थित ईरान के अड्डों पर इस्राइल की तरफ से हो रहे हमलों को रशिया रोक नहीं सकता। उसी तरह से रशिया ईरान को सीरिया से बाहर नहीं निकाल सकता’, ऐसी टिप्पणी इस्राइल में स्थित रशियन राजदूत ‘एंटोली व्हिक्टोरोव्ह’ ने की है। साथ ही सीरिया के

रशिया के आक्रमक तेवर

रशिया सीरिया में स्थित ईरानी सेना को इस्राइल की सीमा से दूर रखने की तैयारी में – इस्राइली अधिकारियों का दावा जेरुसलेम – इस्राइल की सीमा के भूभाग से ईरान के लष्कर और ईरान समर्थक समूहों को दूर रखने की रशिया ने तैयारी शुरू की है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो इस्राइल यहाँ पर भीषण हमले करता रहेगा और इससे सीरिया का संघर्ष अधिक तीव्र हो जाएगा ऐसी चिंता रशिया

रशिया के आक्रामकता को ब्रिटन से कड़ा प्रतिउत्तर दिया जाएगा – ब्रिटिश रक्षामंत्री का इशारा लंदन : रशिया के राष्ट्राध्यक्ष ब्लादिमीर पुतिन ब्रिटेन, अमरिका एवं मित्र देशों के विरोध में लगातार आक्रामक भूमिका ले रहे हैं और उनके विरोध में ब्रिटन न झुककर कड़ा प्रत्युत्तर देगा, ऐसा इशारा ब्रिटेन के रक्षामंत्री गेव्हिन विल्यमसन ने दिया है। ब्रिटेन के संसद सदस्यों से रशिया नए शीतयुद्ध शुरू करने का एवं ब्रिटन उसके

चीन को

 ताइवान के मसले पर युरोपीय महासंघ का चीन को नया झटका वॉर्सा/तैपेई/बीजिंग – यूरोप के साथ संबंध मजबूत बनाने के लिए ताइवान ‘थ्री सीज् इनिशिएटिव्ह’ में सहभागी हो सकता है, ऐसा दावा पोलैंड के ताइवान में नियुक्त अधिकारी बार्तोस्झ रिस ने किया है। ‘ताइवान यह लोकतंत्रवादी देश होकर, उसकी अर्थव्यवस्था की भी तरक्की हो रही है। यह पृष्ठभूमि ताइवान को युरोपीय देशों का साझेदार बनाने के लिए उचित है’, इन