Search results for “युक्रेन”

युक्रेन का विस्फोट - भाग २

मगर ’सोविएत रशिया’ से स्वतंत्र हुए युक्रेन को रशिया के प्रभाव से निकालने की जरुरत ही क्यों थी? इसका उत्तर ढूंढने के लिए फिरसे थोडा पीछे जाना पडेगा। सन १९९७ में अमेरिका के एक प्रभावशाली राजनीतिक माने जानेवाले जिबिग्नोव ब्रिजेन्स्की की एक किताब प्रसिद्ध हुई। किताब का नाम था, ’द ग्रैंड चेसबोर्ड: अमेरिकन प्रायमसी ऐण्ड इट्स जिओस्ट्रैटेजिक इम्पेरेटिवज्’, इस किताब में उन्होंने ‘युरेशिया’(युरोप व रशिया) को शतरंज की बिसात कहकर,

युक्रेन का विस्फोट - भाग १

’युक्रेन की समस्या की वजह से तीसरा विश्वयुद्ध भडक सकता है।’ – लिओनाईड क्रैवचुक, युक्रेन के स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेता एवं देश के पहले राष्ट्रपति पहले और दूसरे विश्वयुद्ध के कारणों पर गौर करें तो क्रैवचुक की बात खोखली नहीं लगती। विश्वयुद्ध हो या विश्व में लंबे अरसे तक चलनेवाले अनेक संघर्ष; इनमें से अधिकतम की शुरुआत कुछ विचित्र तथा उस संघर्ष से सीधे संबंध रखनेवाली घंटनाओं से नहीं

खाड़ी क्षेत्र

रशियन राष्ट्राध्यक्ष ईरान पहुँचे तेहरान – युक्रेन युद्ध की तीव्रता बढती जा रही है और रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन मंगलवार को ईरान की राजधानी तेहरान पहुंचे। ईंधन तथा आर्थिक सहयोग पर राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ईरान के राष्ट्राध्यक्ष इब्राहिम रईसी के साथ चर्चा करेंगे। पिछले सप्ताह ही अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन ने खाडी राष्ट्रों का दौरा करके रशिया एवं ईरान के खिलाफ आघाडी मजबूत करने की दिशा में कदम बढाए

भारत और चीन

सेनाप्रमुख के लद्दाख दौरे द्वारा चीन को संदेश लडाख – नए सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने लद्दाख के चीन से सटे सीमाभाग का दौरा करके यहाँ की सुरक्षा का जायज़ा लिया। कुछ ही दिन पहले सेना प्रमुख ने यह आरोप किया था कि चीन को सीमा विवाद का हल निकालने में दिलचस्पी नहीं है और सीमा विवाद को धधकता रखने की नीति चीन ने अपनाई है। उस पृष्ठभूमि पर,

अर्थव्यवस्था

ईंधन मार्केट की स्थिरता के लिए रशिया के संदर्भ में ‘ओपेक प्लस’ की भूमिका महत्त्वपूर्ण – सऊदी अरब का बयान रियाध – ईंधन मार्केट में अगर उचित स्थिरता रखनी है, तो सऊदी अरब और रशिया ने एक साथ आकर स्थापन किए ‘ओपेक प्लस’ इस गुट की भूमिका अहम है, इसे ध्यान में रखना होगा, ऐसा सऊदी अरब ने डटकर कहा है। मंगलवार को सऊदी अरब के मंत्रिमंडल की बैठक संपन्न

परिणाम

तीसरा विश्‍वयुद्ध शुरू हुआ तो परमाणु हथियारों का इस्तेमाल होगा किव/मास्को – तीसरा विश्‍वयुद्ध शुरू हुआ तो इसमें परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जाएगा और यह युद्ध अतिभंयकर संहार करेगा, ऐसा दहलानेवाला इशारा रशिया के विदेशमंत्री सर्जेई लैवरोव ने दिया। रशिया ने अपनी नौसेना की परमाणु पनडुब्बी के समावेश के साथ युद्धाभ्यास शुरू करके यह इशारा खोखला ना होने की बात भी दिखाई। इसके अलावा यूक्रैन को हथियारों की आपूर्ति

रशिया के आक्रमक तेवर

रशिया सीरिया में स्थित ईरानी सेना को इस्राइल की सीमा से दूर रखने की तैयारी में – इस्राइली अधिकारियों का दावा जेरुसलेम – इस्राइल की सीमा के भूभाग से ईरान के लष्कर और ईरान समर्थक समूहों को दूर रखने की रशिया ने तैयारी शुरू की है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो इस्राइल यहाँ पर भीषण हमले करता रहेगा और इससे सीरिया का संघर्ष अधिक तीव्र हो जाएगा ऐसी चिंता रशिया

“अल्फा टू ओमेगा” न्यूज़लेटर – अप्रैल २०१८

       अप्रैल २०१८ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान सिंह, मार्च २००६ में बापूजीने (डॉ. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी) तृतीय महायुद्ध से संबंधित लेखमाला की शृंखला दैनिक प्रत्यक्ष में आरंभ की। प्रथम लेख में ही बापू कहते हैं, “पिछले सौ वर्षों में अर्थात तथाकथित वैज्ञानिक काल के इतिहास को यदि हम देखते हैं तब भी विविध सत्तासंघर्ष का सही कारण एवं उनका परिणाम स्पष्टरूप में हमारे समझ में आ जाता है।

tww

Hari Om, The past 3-4 years have seen conflicts developing worldwide and worsening by the day, rather by the hour. Nations across the globe have more or less been polarized and now in the year 2018, ongoing conflict has come to be an everyday affair in several parts of the world and that indeed is the reality. Horrific human brutality stomps wild and defiant on the lands of Syria, Libya,