Search results for “पुण्य”

श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌

सद्‍गुरु बापू अपने अग्रलेखों एवं प्रवचनों में से श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌ इस स्थान के महत्व के बारे में हमें बताते ही रहते हैं। इसी श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌ तीर्थक्षेत्र से संबंधित कार्य के सिलसिले मे आज दिनांक १३ अक्तूबर २०१७ को धुळे, जळगाव और नंदुरबार जिले के कुछ चुनिंदा श्रद्धावान सेवकों के साथ हॅपी होम स्थित मेरे कार्यालय में मिटींग हुई। इस मिटींग में महाधर्मवर्मन् योगीद्रसिंह और महाधर्मवर्मन् विशाखावीरा इनके साथ

श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌

सद्‍गुरु बापू आपल्या अग्रलेखांमधून व प्रवचनातून श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌ या स्थानाचे महत्व आपल्याला सांगतच असतात. ह्याच श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌ या तीर्थक्षेत्राच्या कामासंदर्भात आज दिनांक १३ ऑक्टोबर २०१७ रोजी धूळे, जळगाव व नंदुरबार जिल्ह्यातील काही मोजक्या श्रद्धावान सेवकांबरोबर हॅपी होम येथील माझ्या कार्यालयात मिटींग झाली. या मिटींगमध्ये महाधर्मवर्मन योगिंद्रसिंह व महाधर्मवर्मन विशाखावीरा यांच्याबरोबर संस्थेचे CEO सुनीलसिंह मंत्री व महेशसिंह झांट्ये हेही उपस्थित होते. यात, ‘सद्‍गुरु बापूंनी श्री सद्‌गुरु पुण्यक्षेत्रम्‌ या तीर्थक्षेत्राच्या

ॐ जनन्यै नम:

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०३ मार्च २००५ के पितृवचनम् में ‘ॐ जनन्यै नम:(Om Jananyai Namah)’ इस बारे में बताया। ॐ जनन्यै नम:। जननी, यानी जन्म देने वाली, यानी माँ, माता। जो सबकी माता हैं, जो सबका जनन करती हैं ऐसी राधाजी को मेरा प्रणाम रहे। ‘जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी।’ ऋषिवर कहते हैं कि जननी और जन्मभूमि, यानी मुझे जन्म देने वाली मेरी माता और मेरी जन्मभूमि जो है, मेरा देश

श्रीशब्दध्यानयोग - ०१

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने १५ अक्टूबर २०१५ के पितृवचनम् में ‘श्रीशब्दध्यानयोग- ०१’ इस बारे में बताया। तो हमारा मूल निवास कहाँ था, हम लोग नहीं जान सकते, ओ.के., ये एक बात है। दूसरी बात क्या होती है, बहुत बार हम लोगों का कुलदैवत कौनसा है, यह भी हमें मालूम नहीं होता। हमारा ग्रामदैवत कौन सा है, हमें मालूम नहीं रहता। ये वास्तुदेवता भी होती है डेफिनेटली। ये सब क्या है?

जीवन में अनुशासन का महत्त्व - भाग ५

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ०७ अक्टूबर २०१० के पितृवचनम् में ‘जीवन में अनुशासन का महत्त्व’ इस बारे में बताया। ये कुम्हार है बेसिकली। ये सद्‌गुरु कैसा होता है? he is potter, कुम्हार है। हर इन्सान का जो मिट्टी का गोला है, मिट्टी का, उसे इस कालचक्र के नेमी पर रखकर उसे उचित शेप भी देता है, आकार भी देता है उचित। वो भी कैसे? अपना हाथ उस पर, उसके बाहर

अग्नि का महत्त्व (The Importance of Agni)

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने २० अप्रैल २०१७ के प्रवचन में ‘अग्नि के महत्त्व(The Importance of Agni)’ के बारे में बताया।   हम लोगों ने, जिन लोगों ने ग्रंथ पढ़े हुए हैं, जानते हैं कि तीन प्रकार के अग्नि हमारे शरीर में, देह में होते हैं। कौन से, कौन से? जाठराग्नि, प्राणाग्नि और ज्ञानाग्नि। जाठराग्नि यानी सिर्फ जठर में यानी पेट में रहनेवाला अग्नि नहीं, जिसे हमें भूख लगती हैं।

श्रद्धावानांच्या जीवनातील हनुमान चलिसाचे महत्त्व  (The Significance of Hanuman Chalisa in Shraddhavan's Life)

सद्गुरू श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २० जून २०१३ च्या मराठी प्रवचनात ‘श्रद्धावानांच्या जीवनातील हनुमानचलिसाचे महत्त्व’ (The Significance of Hanuman Chalisa in Shraddhavan’s Life)’ याबाबत सांगितले. तर असा हा हठयोग तुमच्या जाणिवा शुद्ध करणारा तुम्हाला सहजपणे दिलेला आहे तो तुलसीदासजींनी, आलं लक्षामध्ये. हनुमानचलीसा हे असं स्तोत्र आहे कि कुठलीही आसनं, वेडेवाकडे चाळे, आचरटपणा न करता जेव्हा तुम्ही हनुमंताचं स्मरण करीत हनुमानचलिसाचं पठण करता, त्यातली जी एक एक ओळ आहे, ती ओळ आठवायला बघता, तेव्हा-तेव्हा

Bapu’s grace

अगदी लहानपणापासून प्रत्येकाला काही करायचे असते आणि काही बनायचे असते, म्हणजेच काहीतरी बदलायचे असते. हा हवा असणारा बदल ही त्या त्या मानवासाठी त्याच्या अपेक्षित प्रगतीची पाऊलवाट असते. अगदी दहा वर्षाच्या बालकापासून ते सत्तर वर्षाच्या वृद्धावस्थेत येऊन पोहोचलेल्या प्रौढापर्यंत प्रत्येकाला आहे त्या स्थितीत, आपण आणखी काही चांगले करायला हवे होते, मिळवायला हवे होते असे वाटतच राहते. मानवाची ही स्वत:च्या परिस्थितीत अधिक चांगले बदल घडवून आणण्याची इच्छाच त्याच्या विकासाला कारणीभूत ठरते. परंतु

त्रिविक्रम मठ स्थापना

आई जगदंबा व सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धांच्या कृपाशिर्वादाने, श्रावणी सोमवारच्या मंगल दिनी, म्हणजेच दिनांक ३ सप्टेंबर २०१८ रोजी, पुणे व वडोदरा येथे स्थापन होणार्‍या त्रिविक्रम मठासाठी शंख, ताम्हन, पीतांबर, तीर्थपात्र व तसबिरी श्रीअनिरुद्ध गुरुक्षेत्रम्‌ येथून देण्यात आल्या. अत्यंत भक्तिमय, प्रसन्न व जल्लोषपूर्ण वातावरणात, संस्थेचे महाधर्मवर्मन डॉ. योगींद्रसिंह व डॉ. विशाखावीरा जोशी यांच्या हस्ते या आध्यात्मिक गोष्टी त्रिविक्रम मठासाठी श्रद्धावानांकडे सुपूर्द करण्यात आल्या. ह्या सोहळ्यादरम्यान पुण्याहून सुमारे ६५ श्रद्धावान व वडोदरा येथून सुमारे

खोजिए और आपको मिल जायेगा (Search and you will get)

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने ९ अक्तूंबर २०१४ के प्रवचन में ‘खोजिए और आपको मिल जायेगा’ इस बारे में बताया।   उसने हमें क्या नही दिया, सब कुछ दिया है। तो पहले खोजो। खुद को सर्च करो पहले, मेरे पास क्या है? मेरे पास क्या क्षमता है? What are my capacities? उन्हें ढुंडो जरा। बहुत सारे लोग जीवन के अंत तक जान नही सकते कि मेरे पास क्या खास है?