Search results for “तीन कदम”

त्रिविक्रम एकसाथ तीन कदम चलते हैं  (Trivikram walks 3 steps at a time) - Aniruddha Bapu

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध ने ६ मार्च २०१४ के पितृवचनम् में ‘त्रिविक्रम एकसाथ तीन कदम चलते हैं’ इस बारे में बताया। जल जो है इस पृथ्वी पर, पृथ्वी के अंतरिक्ष में हो या पृथ्वी पर हो, कुए में हो या नदी में हो या सागर में हो, आपके बदन में हो, कहीं भी हो, ये जल जितना बना पहले, उतना ही है। करोडों करोडों साल पहले जितना जल बना, वही, उतना

Indian-Navy

वायुसेना ने किया ‘आकाश’ और ‘इग्ला’ का परीक्षण मुंबई – भारतीय वायुसेना ने आंध्र प्रदेश के सूर्यालंका एअरफोर्स स्टेशन से स्वदेशी ‘आकाश’ और रशियन निर्माण के ‘इग्ला’ मिसाइलों का परीक्षण किया। वायुसेना के अड्डे पर २३ नवंबर से २ दिसंबर के दौरान युद्धाभ्यास का आयोजन हुआ। इस दौरान इन मिसाइलों का परीक्षण किए जाने की बात कही जा रही है। इन मिसाइलों के परीक्षण के समय उप-वायुसेना प्रमुख एअर मार्शल

गुरुक्षेत्रम् मन्त्राचे श्रद्धावानाच्या जीवनातील महत्त्व - भाग ११

सद्गुरू श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या ०८ एप्रिल २०१० च्या मराठी प्रवचनात ‘गुरुक्षेत्रम् मन्त्राचे श्रद्धावानाच्या जीवनातील महत्त्व’ याबाबत सांगितले.    श्रीगुरुक्षेत्रम्‌ मध्ये काय आहे? ह्या त्रिविक्रमाचं निलयं आहे, आलय नाही, गृह नाही, तर निलयं आहे. ह्या मंत्राच्या जपाने, ह्या मंत्राचा स्वीकार करून आम्ही कुठे राहायला जातो? त्या सद्‍गुरुतत्त्वाच्या निलयं मध्ये म्हणजे अंतरगृहामध्ये, सिम्पल, समजलं आणि कसे? तर विच्चे, बेस्ट होऊन. आम्ही ह्या मंत्राचा स्वीकार केला याचा अर्थ आम्ही पन्नास टक्के बेस्ट झालेलो

नामस्पर्श

हरि ॐ, श्रीराम, अंबज्ञ, नाथसंविध्‌, नाथसंविध्‌, नाथसंविध्‌. हम यह जो मंत्रगजर करते हैं – ‘रामा रामा आत्मारामा….’, वह कहाँ जाकर पहुँचता हैं? क्या हवा में घूमता रहता है इधर कहाँ? या पूरे ब्रह्मांड में या हवा में जाकर पहुँचता है? कहाँ जाता होगा? There is a definite place, where it goes….where it reaches….where it is absorbed….where it is pulled. Only one place. कौनसी जगह हैं वह? त्रिविक्रमनिलयम श्रीगुरुक्षेत्रम्‌॥ हम लोग

"नित्य उपासना" और "हरिगुरु गुणसंकीर्तन" का अनन्यसाधारण महत्व - (The importance of "Daily Prayers" & "Hariguru Gunasankirtan") - Aniruddha Bapu Pitruvachanam 31st Dec 2015

नये साल का स्वागत करते समय, ३१ दिसंबर २०१५, गुरुवार के दिन सद्‌गुरु बापू ने अपने पितृवचन में, अगले साल याने २०१६ साल में “नित्य उपासना” (daily prayers) और “हरिगुरु गुणसंकीर्तन” के अनन्यसाधारण महत्व को विशद किया था। इस पितृवचन का महत्वपूर्ण भाग संक्षिप्त रूप में मेरे श्रद्धावान मित्रों के लिए इस पोस्ट के द्वारा मैं दे रहा हूँ। “अभी २०१६ साल चंद घण्टों में शुरु होनेवाला है । हर

गुरुवार पितृवचनम् - १० डिसेंबर २०१५

गुरुवार, दि. १० दिसम्बर २०१५ को श्रीहरिगुरुग्राम में परमपूज्य बापू ने एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण विषय पर पितृवचन दिया। श्रद्धावानों के लिए बहुत ही श्रद्धा का स्थान रहनेवाला त्रिविक्रम “श्रीश्वासम” में निश्चित रूप में कैसे कार्य करता है और मानव का अभ्युदय करानेवालीं ‘कार्यक्षमता’, ‘कार्यशक्ति’ और ‘कार्यबल’ इन तीन मूलभूत ज़रूरतों की आपूर्ति कैसे करता है, इस बारे में बापू ने किया हुआ पितृवचन संक्षिप्त रूप में मेरे श्रद्धावान मित्रों

त्रिविक्रम जल पर आधारित सद्गुरु श्री अनिरुद्ध बापू का प्रवचन

गुरुवार, 6 मार्च 2014 को परमपूज्य बापू ने ‘ त्रिविक्रम जल ’ इस विषय पर प्रवचन किया। हिन्दी प्रवचन में भी बापू ने इस सन्दर्भ में संक्षेप में जानकारी दी। इस ‘त्रिविक्रम जल’ विषय पर आधारित मराठी प्रवचन का हिन्दी भाषान्तर यहाँ पर संक्षेप में दे रहा हूँ, जिससे कि सभी बहुभाषिक श्रद्धावानों के लिए इस विषय को समझने में आसानी होगी। — ‘हरि ॐ’। ‘श्रीगुरुक्षेत्रम् मंत्र’ यह हम सब लोगों

कोरोना प्रतिबंध

प्रतिबंध शिथिल करने के संकेत देकर चीन की कम्युनिस्ट हुकूमत ने प्रदर्शनकारियों पर की कार्रवाई – हाँगकाँग की जनता ने प्रदर्शनों का किया समर्थन बीजिंग/शांघाय – ‘ज़ीरो कोविड पॉलिसी’ के विरोधकों को काबू में करने के लिए चीन की कम्युनिस्ट हुकूमत ने तेज़ी से कदम उठाना शुरू किया है। लगातार चार दिनों से हो रहे इन प्रदर्शनों को रोकने के लिए चीन ने राजधानी बीजिंग समेत बड़े शहरों में सुरक्षा

परमाणु संघर्ष का बढ़ता खतरा

परमाणु युद्ध में किसी की भी जीत नहीं होगी – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन  संयुक्त राष्ट्र – परमाणु युद्ध कभी भी छिड़ना नहीं चाहिये, क्योंकि इस युद्ध में किसी की भी जीत नहीं होगी, इसका अहसास रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन ने कराया। सोमवार से न्यूयॉर्क में शुरू हुए परमाणु हथियारों के प्रसार बंदी समझौते संबंधित बैठक की पृष्ठभूमि पर पुतिन ने एक खत जारी किया। इसमें उन्होंने परमाणु

ईरान से जुड़ा खतरा बढ़ने लगा

परमाणु कार्यक्रम पर तनाव बढ़ने की स्थिति में अमरीका और ईरान के युद्धपोत आमने-सामने वॉशिंग्टन/तेहरान – ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर जारी बातचीत स्थगित होने से अमरीका और ईरान के बीच तनाव बढ़ रहा है और इसी दौरान दोनों देशों के युद्धपोत खतरनाक तरिके से आमने-सामने आने की घटना सामने आयी है। अमरीका के ‘फिफ्थ फ्लीट’ ने इस घटना की जानकारी प्रदान की है। इसके अनुसार अमरिकी युद्धपोत होर्मूझ की