Search results for “तालिबान”

तालिबान हुकूमत

सिस्तान-बलोचिस्तान की सीमा पर ईरान की सेना की तालिबान से मुठभेड़ तेहरान/काबुल – ईरान के रिव्होल्युशनरी गार्ड्स के जवान और अफगानिस्तान स्थित तालिबान के आतंकवादियों के बीच बुधवार को मुठभेड़ हुई। सिस्तान-बलोचिस्तान की सीमा पर हुई इस मुठभेड़ में तालिबान के आतंकवादी मारे जाने की तथा तालिबान ने ईरान की लष्करी चौकियों पर कब्ज़ा करने की खबरें प्रकाशित हुईं थीं। उसकी पुष्टि नहीं हुई है । लेकिन यह मुठभेड़ गलतफ़हमी

अफगानिस्तान के  तालिबानी हुकूमत पर बढ़ता दबाव

अफ़गानिस्तान में विश्‍वासघात करनेवाले पाकिस्तान पर अमरीका ने उठाई कुल्हाड़ी – सिनेट में पाकिस्तान विरोधी विधेयक पेश वॉशिंग्टन – अमरिकी सिनेट में, तालिबान के साथ पाकिस्तान पर भी सख्त कार्रवाई करने का प्रावधान करनेवाला विधेयक पेश किया गया है। करीबन २२ सिनेटर्स ने यह विधेयक पेश किया है और जल्द ही इसपर निर्णय होने की उम्मीद है। तालिबान पर प्रतिबंधों लगाने के साथ ही, आज तक तालिबान का समर्थन कर

हुकूमत

सार्वजनिक माफी का ऐलान करनेवाली तालिबान का क्रूर चेहरा विश्‍व के सामने आया काबुल – पाकिस्तान की सहायता से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी छवि चमकाने की कोशिश कर रही तालिबान ने अफ़गान सेना और विरोधियों के लिए सार्वजनिक माफी का ऐलान किया था। हमें शरण आनेवालों पर किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं करेंगे, यह कहकर तालिबान ने उनमें आया हुआ बदलाव दिखाने की कोशिश की। लेकिन, बीते चौबीस घंटों

Taliban and Afghanistan

नाटो की वापसी के बाद तालिबान अफ़गानियों का कतलेआम करेगी – अमरीका के पूर्व राष्ट्राध्यक्ष बुश का इशारा बर्लिन – ‘नाटो सेना की वापसी के बाद तालिबान अफ़गान जनता का कत्लेआम करेगी। अफ़गानी महिलाओं और लड़कियों को शब्दों में बयान करना मुमकिन नहीं होगा, इतनी भयंकर यातनाएँ भुगतनी पड़ेंगी’, ऐसा इशारा अमरीका के पूर्व राष्ट्राध्यक्ष जॉर्ज बुश ने दिया है। इससे पहले अमरीका की पूर्व विदेशमंत्री कॉन्डोलिसा राईस और हिलरी

us-taliban

अमरिका-तालिबान शांति समझौते की कसौटी जल्द ही होगी – भारतीय विदेशमंत्री एस.जयशंकर नई दिल्ली – ‘पीछले १८ वर्षों में अफगानिस्तान में जो कुछ पाया, उसके लिए खतरा ना बनने दे, यही भारत का अमरिका और पश्‍चिमी देशों के लिए संदेशा रहेगा’, ऐसा बयान भारतीय विदेशमंत्री एस.जयशंकर ने किया है| अमरिका और तालिबान के बीच हुए शांति समझौते पर बातचीत करते समय जयशंकर ने उचित शब्दों में भारत की भूमिका रखी|

पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ी

पाकिस्तान और तालिबान एक-दूसरे के साथ डबल गेम खेल रहे हैं – पाकिस्तान के पत्रकार का दावा वॉशिंग्टन – पाकिस्तान और अफगानिस्तान के तालिबान का एक-दूसरे पर विश्वास नहीं रहा है। वे दोनों भी एक-दूसरे के साथ ‘डबल गेम’ खेल रहे हैं, ऐसा पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार हमिद मीर ने कहा है। एक अमरिकी अखबार के लिए लिखे लेख में मीर ने इस डबल गेम की मिसालें भी दी हैं।

अफगानिस्तान से जुडी गतिविधियां

अफ़गानिस्तान में तालिबान के साथ लड़ रहा पाकिस्तानी सेना अधिकारी गिरफ्तार काबुल – पाकिस्तान का तालिबान के साथ संबंध ना जोड़ें, ऐसा बयान पाकिस्तान के विदेशमंत्री ने कुछ दिन पहले ही किया था। लेकिन, तालिबान के पक्ष में लड़ रहे पाकिस्तानी लष्करी अधिकारी को हिरासत में लेकर अफ़गानिस्तान ने पाकिस्तान की पोल खोली है। अफ़गानिस्तान में दाखिल होने से पहले इस पाकिस्तानी अधिकारी ने यह बात भी कबूली है कि, वह

अमरीका की अफगाणिस्तान से सेनावापसी की घोषणा और भारत

अफ़गानिस्तान में उद्देश्‍य पूरा होने का बयान करके अमरीका के राष्ट्राध्यक्ष ने किया सेना की वापसी का ऐलान वॉशिंग्टन/काबुल – ‘अफ़गानिस्तान की एकजुट के लिए अमरीका ने अपने सैनिक इस देश में तैनात नहीं किए थे। ओसामा बिन लादेन को खत्म करना और अफ़गानिस्तान में स्थित आतंकियों के आश्रय स्थान नष्ट करना, इन दोनों उद्देश्‍यों के लिए अमरीका की सेना ने अफ़गानिस्तान में कदम रखा था। यह दोनों उद्देश्‍य प्राप्त

Afghanistan

अफ़गान सेना की कार्रवाई में ४४ तालिबानी ढ़ेर काबुल – अफ़गान सेना ने नांगरहार और फराह प्रांत में कार्रवाई करके ४४ तालिबानी आतंकियों को मार गिराया है। कतार में अफ़गान सरकार और तालिबान की चर्चा शुरू होने के लिए महज़ कुछ ही दिन शेष हैं। ऐसी स्थिति में भी अफ़गान सेना और तालिबान के बीच जारी संघर्ष की तीव्रता बढ़ रही है। ऐसे में अफ़गान सेना की तालिबान के खिलाफ

Afghanistan

अफ़गानिस्तान में मौजुदा वर्ष के पहले छह महीनों में हुई हिंसा में १,२०० से अधिक लोग ढ़ेर – संयुक्त राष्ट्रसंघ की रपट काबुल/संयुक्त राष्ट्रसंघ – वर्ष २०२० के पहले छह महीनों के दौरान अफ़गानिस्तान में हिंसा में मारे गए हुए एवं घायल हुए लोगों की संख्या ३,५०० से अधिक होने का दावा संयुक्त राष्ट्रसंघ की रपट में किया गया है। यह रपट जारी करके अफ़गानिस्तान में बढ़ रही हिंसा पर