Search results for “अग्नि”

अग्नि और जल

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ३० जून २००५ के पितृवचनम् में ‘अग्नि और जल’ इस बारे में बताया। जल, यह जो हमारा शरीर है, यह शरीर दिखता है तो, क्या पानी दिखता है शरीर में कहीं? बाहर से नहीं दिखता। हर कोई जो सायन्स का स्टुडण्ड है, जानता है कि शरीर का कितना हिस्सा पानी है? ७०% वॉटर है इस शरीर में। पृथ्वी पर कितना पानी है और कितनी जमीन है?

अग्नि का महत्त्व (The Importance of Agni)

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने २० अप्रैल २०१७ के प्रवचन में ‘अग्नि के महत्त्व(The Importance of Agni)’ के बारे में बताया।   हम लोगों ने, जिन लोगों ने ग्रंथ पढ़े हुए हैं, जानते हैं कि तीन प्रकार के अग्नि हमारे शरीर में, देह में होते हैं। कौन से, कौन से? जाठराग्नि, प्राणाग्नि और ज्ञानाग्नि। जाठराग्नि यानी सिर्फ जठर में यानी पेट में रहनेवाला अग्नि नहीं, जिसे हमें भूख लगती हैं।

सम अग्नि - भाग २ (Balanced Agni - Part 2) - Aniruddha Bapu‬ ‪Marathi‬ Discourse 16 April 2015

सम अग्नि – भाग २ (Balanced Agni – Part 2) मानवाला शौर्य म्हणजेच तेज अग्निपासून मिळते. अग्नि सम असेल तेव्हाच मानवाला शौर्य प्राप्त होते. सम अग्निमुळेच उचित अवस्थान्तर होते. सर्व प्रकारचे चांगले बदल घडवून आणण्याची ताकद जातवेदामध्ये आहे आणि जातवेदच अग्निचे (Agni) समत्व राखतो. जातवेद आणि सम – अग्नि यांतील संबंधाबाबत सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १६ एप्रिल २०१५ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥ हरि ॐ ॥

सम अग्नि - भाग १ (Balanced Agni - Part 1) - Aniruddha Bapu‬ ‪Marathi‬ Discourse 16 April 2015

सम अग्नि – भाग १ (Balanced Agni – Part 1) यज्ञाची सुरुवात ऐरणीमन्थनाने अग्नि (Agni) प्रज्वलित करून होते. यज्ञातील असो की देहातील असो, अग्निचे सम असणे आवश्यक असते. अग्नि सम नसेल, जर उग्र आणि मन्द अशा स्वरूपाचा असेल, तर तो विषम अग्नि देहात नानाविध व्याधि निर्माण करतो. सम- अग्नि असणे महत्त्वाचे का आहे, याबाबत सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या १६ एप्रिल २०१५ रोजीच्या प्रवचनात सांगितले, जे आपण या व्हिडियोत पाहू शकता. ॥

माँ दुर्गा , Mother Durga

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्धजी ने ३१ मार्च २०१६ के पितृवचनम् में ‘माँ दुर्गा हमारी प्रार्थनाओं का उत्तर देती हैं’ इस बारे में बताया। मुझे अच्छा लगता है हमें, कोई भी सीधा ऐसा बैठा है, तो मुझे अ़च्छा नहीं लगता, वो काम करता रहे बस, बस, बस। I am myself workaholic and I want everyone be is workaholic absolutely. काम करते रहिए यार, शान से जियेंगे। So improve your english. ये अध्यात्मिक

मणिपुर चक्र और यज्ञपुरुष महाविष्णु

सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने २० अप्रैल २०१७ के प्रवचन में ‘मणिपुर चक्र और यज्ञपुरुष महाविष्णु (Manipur Chakra And Yagyapurusha Mahavishnu)’ इस बारे में बताया।   so, स्वाधिष्ठानचक्र का बीज था ‘ॐ वं’, अभी हम लोग देखनेवाले हैं मणिपुर चक्र। स्वाधिष्ठानचक्र का बीज ‘वं’ ये बेसिक वरूण का है यानी वृष्टिदाता का हैं, राईट। अभी ये जो चक्र है मणिपुर चक्र, ये मणिपुर चक्र बहोत अजीब चक्र है, बहोत ही,

स्मरण (The constant remembrance of The God)

सद्गुरू श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २० जून २०१३ च्या मराठी प्रवचनात ‘स्मरण(The constant remembrance of The God)’ याबाबत सांगितले. बघा! आपल्याला दोन्ही प्रकारच्या जाणीवा होत असतात. एक जाणीव असते की अरे, अरे ही गोष्ट मला करायलाच पाहिजे. त्याचबरोबर त्याचवेळेस दुसरी जाणीव असते की नाही ही गोष्ट मी करता कामा नये, हा विचार नाही जाणीव असते बरोबर. अगदी साधं उदाहरण घ्यायचं झालं तर बघा आपण जिन्यावरुन पायर्‍या उतरतो, पायर्‍या उतरताना आपलं लक्ष नाही आहे,

श्रद्धावानांच्या जीवनातील हनुमानचलिसाचे महत्त्व - भाग २

सद्गुरू श्री श्रीअनिरुद्धांनी त्यांच्या २० जून २०१३ च्या मराठी प्रवचनात ‘श्रद्धावानांच्या जीवनातील हनुमानचलिसाचे महत्त्व – भाग २’ (The Significance of Hanuman Chalisa in Shraddhavan’s Life – Part 2)’ याबाबत सांगितले.   असा हा महिना दोन पौर्णिमांच्या मध्ये बसलेला. ह्या महिन्यामध्ये कोणाचं स्मरण करायचं आहे? हनुमानचालिसाचं स्मरण करायचं आहे. म्हणजे हनुमानचालिसातल्या हनुमंताच्या चरित्राचं स्मरण करायचं आहे. तुमच्या लक्षात आलं, आम्ही अनेक जण करतो. पण खरच सांगतो तुम्हाला राजानों, एकशे आठ (हनुमानचालिसा) मध्ये करताना

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – अप्रैल २०१९

  अप्रैल २०१९ संपादक की कलम से   हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा, हमारे देश में और हमारे आस पास के मौसम में तेजी से बदलाव हो रहे हैं। गर्मी की शुरुआत हो चुकी है और वह अपनी चरम सीमा की ओर बढ़ रही है। हम सब ने पिछले महीने में ही होली मना कर सर्दी से विदाई ली सभी श्रद्धावान मित्रों ने होलीपूर्णिमा उत्सव और महाशिवरात्रि उत्सव में

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – फरवरी २०१९

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण   फरवरी २०१९ संपादक की कलम से हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा, सद्गुरु श्री अनिरुद्ध की कृपा से, हमारा यह वर्ष भक्तिभावच्चैतन्य और वर्धमान व्रतधीराज के आनंदमय वातावरण में आरम्भ हुआ। यह व्रत, सदगुरु के मार्गदर्शन के अनुसार मार्गशीर्ष में किया जाता है। श्रद्धावान बड़े ही प्रेम से इस व्रत का पालन करते हैं, जिससे हमारे जीवन में सकारात्मकता के साथ साथ