अमरीका चीन संबधों में तनातनी बढ़ी

‘साउथ चाइना सी’ में बाहरी लोग हस्तक्षेप ना करें – चीन के विदेशमंत्री द्वारा अमरिका को चेतावनी

बैंकॉक: साउथ चाइना सी का मुद्दा यह चीन और आसियान देशों का प्रश्न है| बाहरी देशों को इस मामले में अपनी नाक घुसेड़ने की आवश्यकता नहीं है| इस सागरी क्षेत्र का भाग ना होनेवाले देश चीन और आसियान देशों में अविश्वास निर्माण करने का प्रयत्न ना करें, ऐसी चेतावनी चीन के विदेशमंत्री वैंग ई ने दी है| चीन के विदेशमंत्री ने किसी का भी नाम नहीं लिया है, फिर भी अमरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया की साउथ चाइना सी में शुरू गश्त के विरोध में विदेशमंत्री ई ने यह चेतावनी देने की बात दिखाई दे रही है|

थाईलैंड में आग्नेय एशियाई देशों की ‘आसियान’ बैठक शुरू है| इस बैठक में बोलते हुए चीन के विदेशमंत्री वैंग ई ने साउथ चाइना सी का प्रश्न सुलझाने के लिए चीन के प्रयत्न सुरू होने की बात कही है| साउथ चाइना सी के विवाद पर चीन ने तैयार किए ‘कोड ऑफ कंडक्ट’ अर्थात नियमों पर संबंधित देशों की जल्द ही बैठक होनेवाली है, ऐसा आश्वासन चीन के विदेशमंत्री ई ने दिया है| तथा यह विवाद साउथ चाइना सी के क्षेत्र से संबंधित देशों का होने की बात विदेशमंत्री ई ने कही है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/outsiders-should-not-poke-nose-south-china-sea/

हॉंगकॉंग के प्रदर्शनों में अमरिका का हाथ – चीन ने लगाया गंभीर आरोप

हॉंगकॉंग: चीन के विरोध में प्रदर्शन कर रहे ४४ प्रदर्शनकारियों को मंगलवार के दिन हॉंगकॉंग में गिरफ्तार किया गया| उन्हें कैद में रखनेवाले पुलिस ठाने के बाहर हजारों प्रदर्शनकारियों ने बडी नारेबाजी करके चीन का निषेध किया| ‘चीन हमें डराने की कोशिश कर रहा है, लेकिन, हमारे प्रदर्शन इसके आगे भी जारी रहेंगे’, यह इशारा इन प्रदर्शनकारियों ने दिया है| इसके साथ ही ५ अगस्त से इससे भी बडे प्रदर्शन करने का इशारा देकर प्रदर्शनकारियों ने यह भी घोषित किया है की, हम चीन के दमन के आगे झुकेंगे नही| इसी बीच चीन ने हॉंगकॉंग के प्रदर्शनों के पीछे अमरिका का हाथ होने का आरोप किया है|

पिछले महीने से हॉंगकॉंग में चीन के विरोध में शुरू हुए प्रदर्शन अभी शांत हुए नही है| बल्कि यह प्रदर्शन अधिक से अधिक तीव्र हो रहे है| मंगलवार के दिन प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई करके हॉंगकॉंग के प्रशासन ने करीबन ४४ लोगों को गिरफ्त में लिया था| इन सभीयों पर पुलिस पर हमला करना, घातक हथियार रखना और अव्यवस्था फैलाने का आरोप रखा गया है| अपने सहयोगीयों पर हुई गिरफ्तारी की कार्रवाई के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस थाने के बाहर डेरा जमाया था|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-hand-hongkong-agitation-serious-accusation-china/

ऑस्ट्रेलिया में बनाए नौसेना अड्डे का विस्तार करने के लिए अमरिका की तैयारी

कैनबरा/वॉशिंगटन – साउथ चाइना सी में शुरू चीन की हरकतें नियंत्रित करने के लिए अमरिका ने इंडो-पैसिफिक में रक्षा सज्जता पर अधिक ध्यान केंद्रित किया है| इसी के तहेत ऑस्ट्रेलिया के ‘डार्विन’ में बनाए नौसेना अड्डे का विस्तार करने की योजना अमरिका ने बनाई है| उसके लिए लगभग २१ करोड़ डॉलर्स का प्रावधान होने की बात अमरिकी संसद में प्रस्तुत किए एक प्रस्ताव से सामने आ रही है| इस संदर्भ में खबर को ऑस्ट्रेलिया के विदेशमंत्री मारिस पेन ने समर्थन दिया है|

साउथ चाइना सी के सागरी क्षेत्र में १०० से अधिक कृत्रिम द्वीपों का निर्माण करके वहां के ३० से अधिक द्वीपों का लष्करीकरण करने के बाद चीन ने इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में अपनी गतिविधियां तेज की है| इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में ‘डीप वाटर पोर्ट’ अथवा ‘डीप वाटर साइट’ विकसित करने की घोषणा चीन ने हालही में की थी| इसके लिए चीन ने आग्नेय एशिया के कंबोडिया में डीप वाटर पोर्ट निर्माण करने की जानकारी सामने आ रही है| उस समय पैसिफिक क्षेत्र में फीजी, पापुआ न्यू गिनिया और वनौतू इन ऑस्ट्रेलिया के पड़ोसी देशों में लष्करी अड्डे निर्माण करने के संकेत भी चीन ने दिए थे|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-preparing-to-expand-naval-base-in-australia/

अमरिकी युद्धपोत की गश्त के बाद तैवान की खाडी के निकट चीन का युद्धाभ्यास

बीजिंग/तैपेई: मिसाइलों से सज्जित अमरिका की ‘यूएसएस एंटीटैम’ युद्धपोत ने तैवान की खाड़ी क्षेत्र में गश्त करने के बाद चीन बौखला गया है| इसी बीच चीन ने तैवान की खाड़ी क्षेत्र के पास युद्धाभ्यास भी आयोजित किया है| इस युद्धाभ्यास में चीन की नौसेना ने युद्धपोत से लाइव फायरिंग का अभ्यास किया है| तथा चीन के जे-२० स्टेल्थ विमानों ने तैवान के हवाई सीमा के पास गश्ती की है| दौरान चीन के इस युद्धाभ्यास पर अपनी कड़ी नजर होने की घोषणा तैवान के रक्षा मंत्रालय ने की है|

तैवान के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता शिह शुन-वेन ने दिए जानकारी के अनुसार सोमवार से चीन के नौसेना और वायुसेना का युद्धाभ्यास शुरू हुआ है| यह युद्धाभ्यास शुक्रवार तक चलने वाला है और इस युद्धाभ्यास में चीन अपने सार्वभौम भूभाग के रक्षा का अभ्यास करने की जानकारी चीन के नौसेना अधिकारी ने दी है| विध्वंसक के साथ चीन के गश्ती नौका भी इस युद्धाभ्यास में शामिल हुई हैं|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/china-holds-military-exercises-taiwanese-gulf/

 

Related Post

Leave a Reply