खाड़ी क्षेत्र में तुर्की का आक्रामक रुख

लीबिया को लष्करी सहायता प्रदान होगा – तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन का ऐलान

वॉशिंग्टन – ‘लीबियन हितसंबंधों की सुरक्षा के लिए लीबिया की संयुक्त सरकार को सभी तरह से लष्करी सहायता प्रदान करने के लिए तुर्की तैयार है’, यह ऐलान तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ने किया है| लीबिया की संयुक्त सरकार के प्रधानमंत्री ‘फएझ अल सराज’ से भेंट करने के बाद तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने यह ऐलान किया| सरकार के विरोध में बगावत करनेवाले जनरल खलिफा हफ्तार ने राजधानी त्रिपोली के लिए अंतिम संघर्ष शुरू होने का इशारा देने के बाद तुर्की ने यह भूमिका अपनाई है| कतार ने भी लीबिया की संयुक्त सरकार को अपना समर्थन घोषित किया है|

लीबिया की संयुक्त सरकार को बचाने के लिए आगे आए तुर्की ने वहां शुरू संघर्ष में उतरने की तैयारी पहले से ही रखी थी| पिछले महीने में लीबिया की संयुक्त सरकार और तुर्की के बीच विशेष लष्करी और रक्षा सहयोग के लिए समझौता हुआ था| इस समझौते के तहेत लीबिया की बिनती पर तुर्की अपने उत्तर अफ्रीकी मित्रदेश को पुरी तरह से सागरी, लष्करी एवं हवाई सहयोग प्रदान कर सकता है, यह बात तुर्की की सरकार ने रखी थी|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/military-cooperation-will-be-provided-to-libiya-says-erdogan/

ऑटोमन साम्राज्य ने अर्मेनिया में नरसंहार किया – अमरिकी सिनेट में पारित विधेयक पर तुर्की ने व्यक्त किया क्रोध

वॉशिंग्टन/अंकारा – बीसवीं सदी के शुरू में ऑटोमन तुर्क साम्राज्य ने लाखों अर्मेनियन लोगों की हत्या यानी नरसंहार किया था, यह बात अमरिकी सिनेट ने सहमति से स्वीकारी है| यह सत्य की जीत होने की प्रतिक्रिया अर्मेनियन सरकार ने दर्ज की है| वही, इस निर्णय की वजह से अमरिका और तुर्की के संबंधों में और भी तनाव बना है और तुर्की ने इस मामले में अमरिकी राजदूत को समन्स दिया है|

गुरूवार के दिन अमरिकी सिनेट में पेश किया गया अर्मेनियन वंशसंहार से संबंधित विधेयक किसी भी विरोध के बिना ही पारित किया गया| सिनेट में रिपब्लिकन और डेमोक्रैटस् इन दोनों दलों के सिनेटर्स ने ऑटोमन साम्राज्य ने अर्मेनियन नागरिकों का नरसंहार किया था, इस मुद्दे पर मुहर लगाई है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/ottoman-empire-massacred-armenia/

इस्लामी देश पश्‍चिमी देशों के विरोध में एक हो – तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन का बयान

इस्तंबूल – ‘पश्‍चिमी साम्राज्यवादी हमारे बीच दरार बनाकर इस्लामी जगत पर राज करने की कोशिश कर रहे है| पर जागतिक जनसंख्या में एक चौथाई होनेवाले इस्लामधर्मिय एक हुए और उन्होंने अपने सांस्कृतिक एवं राजनीतिक प्रभाव का प्रयोग किया तो इस्लामी संस्कृति को उचित स्थान प्राप्त होगा’, यह संदेशा तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ने दिया है| इस्रायल और पश्‍चिमी देशों ने इस्लामधर्मियों के विरोध में शुरू किए अत्याचारों के विरोध में सीर्फ तुर्की ही आवाज उठा रहा है, यह दावा भी राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने किया है|

तुर्की में दुनिया भर के इस्लामधर्मी देशों की ‘ऑर्गनायझेशन ऑफ इस्लामिक को-ऑपरेशन’ (ओआयसी) की बैठक का आयोजन किया गया| इस दौरान बोलते सम तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने इस्रायल और पश्‍चिमी देशों पर जोरदार हमला किया| इस्लामी देशों की संस्कृति खतम करने के लिए पश्‍चिमी देश काम कर रहे है, यह आरोप भी एर्दोगन ने किया| ‘इस्लामी देशों में दरार बनाकर हमपर राज करने का पश्‍चिमी देशों का प्लैन है| इसके लिए पश्‍चिमी देश हमारे घरों में घुसंकर अंदरुनि व्यवस्था तबाह करने की कोशिश कर रहे है| पश्‍चिमी देशों के इस खतरे के विरोध में बुढे-बच्चे एक होना होगा’, यह निवेदन एर्दोगन ने किया|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/islamic-countries-unite-against-westerners-erdogan/

तुर्की के विरोध में प्रतिबंध लगाने पर अमरिका को तुर्की में बनाए लष्करी अड्डे खाली करने होंगे – तुर्की के विदेशमंत्री ने दिए संकेत

अंकारा – रशिया से ‘एस-४००’ हवाई सुरक्षा यंत्रणा की खरीद कर रहे तुर्की के विरोध में प्रतिबंध लगाने की तैयारी अमरिका ने की है| पर, यदि अमरिका ने तुर्की के विरोध में प्रतिबंध लगाए तो अमरिका को ‘इन्सर्लिक’ और ‘कुरेसिक’ में बने हवाई अड्डे बंद करने होंगे, यह संकेत तुर्की ने दिए है| तुर्की के विदेशमंत्री मेवूत कावूसोग्लू ने यह चेतावनी जारी की है और इससे दोनों देशों के संबंधों पर गंभीर असर हो सकता है|

अमरिका और तुर्की के बीच बनी दरार बढ रही है और पिछले कुछ महीनों से तुर्की ने अमरिका के विरोध में आक्रामक भूमिका अपनाई दिखाई दे रही है| रशिया से ‘एस-४००’ हवाई सुरक्षा यंत्रणा खरीद ने पर तुर्की को अमरिका के कडे प्रतिबंधों का सामना करना होगा, यह इशारा अमरिका ने दिया था| पर, तुर्की ने अब अमरिका के धमकाने का हमारे निर्णय पर असर नही होगा, यह घोषित किया है| ऐसे में ही अमरिका का समर्थन प्राप्त करनेवाले सीरिया के कुर्दों पर तुर्की में हमलें शुरू किए है और इन हमलों की वजह से अमरिका नाराज है| नाटो के बारे में भी तुर्की ने अडियलता दिखाई है और इस वजह से नाटो की रशिया के विरोध में यूरोपिय देशों में तैनाती रोकी गई है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/u-s-must-evacuate-military-bases-built-turkey-sanctions/

Related Post

Leave a Reply