श्रीत्रिविक्रम भक्तिभाव चैतन्य का सहज, सुंदर और उत्स्फूर्त आविष्कार

स्वयंभगवान श्रीत्रिविक्रम के सार्वभौम मंत्रगजर के कारण हमारे मन में भक्तिभाव चैतन्य सहजता से प्रवाहित होता है। सद्गुरु श्रीअनिरुद्धजी ने हमें इस गजर के ताल पर डोलने के लिए कहा है। इस व्हिडियो में दिखायी देनेवाले इस बालक का सहज प्रतिसाद (Natural Reaction), यह उस मंत्रगजर के साथ डोलने का है। उसे डोलने के लिए कहा नहीं गया था। इसीसे यह स्पष्ट होता है कि बापू के कहेनुसार हर एक जीव की Natural Reaction ‘डोलना’ या ‘ताल देना’ यही होती है। इस बालक को देखकर हम यह सीख सकते हैं कि इस मंत्रगजर की सहायता से भक्तिभाव चैतन्य में किस तरह समरस होना है। इस बालक का मंत्रगजर के ताल पर डोलना यह श्रीत्रिविक्रम भक्तिभाव चैतन्य का सहज, सुंदर और उत्स्फूर्त ऐसा आविष्कार है।


स्वयंभगवान श्रीत्रिविक्रमाच्या सार्वभौम मंत्रगजरामुळे आमच्या मनात भक्तिभाव चैतन्य सहजपणे प्रवाहित होते. सद्गुरु श्रीअनिरुद्धांनी आम्हाला या गजरावर डोलण्यास सांगितले आहे. व्हिडियोतील या बाळाचा सहज प्रतिसाद (Natural Reaction) हा या मंत्रगजरासह डोलण्याचा आहे. त्याला डोलण्यास सांगावे लागले नाही. यातूनच स्पष्ट होते की बापूंनी सांगितल्याप्रमाणे प्रत्येक जिवाची Natural Reaction ही डोलणे किंवा ठेका धरणे हीच असते. या बाळाकडे बघून आपण शिकू शकतो की या मंत्रगजराच्या सहाय्याने भक्तिभाव चैतन्यामध्ये कसे समरस व्हायचे. या बाळाचे मंत्रगजरासह डोलणे हा श्रीत्रिविक्रम भक्तिभाव चैतन्याचा सहज, सुंदर आणि उत्स्फूर्त असा आविष्कार आहे.

॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

Related Post

Leave a Reply