संस्था ने आय.टी. क्षेत्र में की हुई प्रगति के पीछे अनिरुध्द बापुजी के अथक परिश्रम, अभ्यास, दूरंदेशी तथा मार्गदर्शन

हरि ॐ,

आज दुनियाभर से अनगिनत श्रद्धावान “अनिरुद्ध टी.व्ही.” तथा मेरे फेसबुक पेज के माध्यम से हररोज़ प्रक्षेपित होनेवालीं विभिन्न उपासनाओं का आधार महसूस कर रहे हैं। उसी प्रकार, इस मुश्किल दौर में कई श्रद्धावान “अनिरुद्ध रेडिओ” का भी आधार ले रहे हैं और उसके लिए आय.टी. टीम की मन:पूर्वक प्रशंसा कर रहे हैं।

लेकिन इस उपलक्ष्य में एक महत्त्वपूर्ण बात पर मैं सभी श्रद्धावानों का ग़ौर फ़रमाना चाहता हूँ। जब सन २००३ में संस्था की ओर से ‘जगन्नाथ अष्टतीर्थधाम महोत्सव’ संपन्न हुआ, तब परमपूज्य सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धजी (बापुजी) ने एक सेमिनार लिया था। इस सेमिनार में बापुजी ने, इस उत्सव के प्लॅनिंग में कॉम्प्युटर का किस प्रकार उचित उपयोग किया जा सकता है, इसके बारे में मार्गदर्शन किया था और उसके अनुसार ही इस उत्सव का प्लॅनिंग किया गया। इसके लिए बापुजी ने ९ श्रद्धावानों का एक ग्रुप बनाया था और पहली ही बार हमारी इस आय.टी. टीम ने उस समय ‘वॉक-थ्रू’ का उपयोग किया था। यानी पूरे १७ साल पहले ही बापुजी ने, आनेवाले समय में कॉम्प्युटर की उपयुक्तता के महत्त्व के बारे में श्रद्धावानों को समझाकर बताया था, इसे भूलना नहीं चाहिए। उसके बाद भी, नित्य कामों में कॉम्प्युटर का इस्तेमाल किस प्रकार किया जा सकता है, इसके बारे में बापुजी ने समय समय पर मार्गदर्शन किया।

उस मार्गदर्शन के अनुसार, संस्था के ऑफिस में “आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर” बनने की शुरुआत हुई और समयानुसार इस आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर में विभिन्न बदलाव किये गए; वे भी बापुजी के मार्गदर्शन के अनुसार ही। आगे चलकर बापुजी ने विभिन्न विषयों पर सेमिनार्स लेकर, चुनिन्दा श्रद्धावानों को नये युग के कई नये विषयों से परिचित कराया। आज अपनी आय.टी. टिम वाकई प्रशंसनीय काम कर रही है, पर उसी के साथ ही आज हमारी संस्था में जो आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर और आय.टी. टीम कार्यरत है, उसके पीछे सद्गुरु बापुजी की दूरंदेशी और अभ्यास ही कारणीभूत हैं, इसकी हम सभी श्रद्धावानों को ठीक से दखल लेनी चाहिए। फिलहाल हमारीं “अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य”, “थर्ड वर्ल्ड वॉर”, “अनिरुद्धाज्‌ अकॅडमी ऑफ डिझास्टर मॅनेजमेंट”, तथा हमारी अपनी अन्य भी कई संस्थाओं की जानकारी देनेवालीं वेबसाइट्‍स, “डिजिटल रामनाम बही”, “अनिरुद्ध भजन म्युझिक”, “अनिरुद्ध टी.व्ही.” जैसे अ‍ॅन्ड्राईड / आय.ओ.एस्‌. अ‍ॅप्स, इनके जैसे, श्रद्धावानों के लिए बहुत ही उपयोगी साबित होनेवाले कई साधन, यह सब इन विभिन्न सेमिनार्स का ही फलित है। साथ ही, आपत्ति के दौर में हितकारक साबित होनेवाले “फायरचॅट” और “झेलो वॉकिटॉकी” इन जैसे अ‍ॅप्स से भी बापुजी ने ही परिचित कराया। सन २०१४ में, नववर्ष के उपलक्ष्य में लिखे हुए ’जस्ट स्टार्ट’ इस दै. प्रत्यक्ष के अग्रलेख में बापुजी ने हम सब श्रद्धावानों को, बदलते दौर के अनुसार नयी टेक्नॉलॉजी से मेल बिठाने की आवश्यकता प्रतिपादित करते समय, सोशल मीडिया की उपयुक्तता के बारे में समझाकर बताया था और उसका यथोचित इस्तेमाल अर्थात कौनसे पोस्ट अपलोड करने हैं और कौनसे नहीं, इसका सारासार विचार हर श्रद्धावान को करना चाहिए इस के बारे में भी मार्गदर्शन किया था।

इतना ही नहीं, बल्कि बापुजी ने सन २०१३ में उनके सांगली दौरे से पहले, व्हॉट्‍स अ‍ॅप की सहायता से, नियोजन करनेवाले विभिन्न ग्रुप्स में और उसी प्रकार अन्य श्रद्धावानों तक उचित जानकारी तथा अपडेट्स कम से कम समय में कैसे पहुँचाये जा सकते हैं, इसके बारे में भी मार्गदर्शन किया था और उसके अनुसार ही इस दौरे का नियोजन किया गया।

इन सब बातों का सारांश यही है कि संस्था ने आय.टी. क्षेत्र में की हुई इस सारी प्रगति को देखते हुए, उसके पीछे हमारे बापुजी के खुद के अथक परिश्रम, अभ्यास, दूरंदेशी तथा मार्गदर्शन ही कारणीभूत हैं, इस बात पर ग़ौर करना चाहिए। किसी भी श्रद्धावान को किसी विषय में महारत प्राप्त करनी हो, तो उसे कैसे प्रवास करना चाहिए, इसका यह एक उत्तम उदाहरण है।

साथ ही, आज कई श्रद्धावानों और हितैषियों से ऐसा पूछा जा रहा है कि ‘इस मुश्किल दौर में बापुजी क्या बताना चाहते हैं’ या फिर ‘क्या बापुजी हमें कुछ मार्गदर्शन करनेवाले हैं?’ इस संदर्भ में कुछ मीडिया ग्रुप स्नेहियों ने भी मेरे साथ संवाद किया। इस मामले में मैं इतना ही कहूँगा कि गत कई सालों से बापुजी इसके बारे में श्रद्धावानों को मार्गदर्शन करते ही आये हैं; और इसके बारे में जल्द ही अलग पोस्ट लिखने का मेरा विचार है।

————————————————————————

हरि ॐ,

आज जगभरातून असंख्य श्रद्धावान “अनिरुद्ध टी.व्ही.” व माझ्या फेसबुक पेजच्या माध्यमातून रोज प्रक्षेपित होणार्‍या विविध उपासनांचा आधार अनुभवत आहेत. त्याचप्रमाणे या कठीण काळात अनेक श्रद्धावान “अनिरुद्ध रेडिओचाही” आधार घेत आहेत व त्यासाठी आय.टी. टीमचे मनापासून कौतूक करत आहेत.

परंतु ह्या निमित्ताने मला एक महत्त्वाची गोष्ट सर्व श्रद्धावानांच्या निदर्शनास आणून द्यायची आहे. जेव्हा २००३ साली संस्थेतर्फे “जगन्नाथ अष्टतीर्थधाम महोत्सव” संपन्न झाला तेव्हा परमपूज्य सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धांनी (बापूंनी) एक सेमिनार घेतला होता. ह्या सेमिनार मध्ये बापूंनी या उत्सवाच्या प्लॅनिंग संदर्भामध्ये कॉम्प्युटरचा कशाप्रकारे उचित उपयोग करता येईल, या विषयी मार्गदर्शन केले होते व त्यानुसार या उत्सवाचे प्लॅनिंग केले गेले. यासाठी बापूंनी ९ श्रद्धावानांचा एक ग्रुप केला होता व प्रथमच आपल्या ह्या आय.टी. टीमने त्यावेळेस वॉक-थ्रूचा उपयोग केला. म्हणजेच तब्बल १७ वर्षांपूर्वीच बापूंनी पुढील काळासाठी कॉम्प्युटरच्या उपयुक्ततेचे महत्व श्रद्धावानांना पटवून दिले हे विसरून चालणार नाही. त्यानंतरही नित्य कामांमध्ये कॉम्प्युटरचा उपयोग कशाप्रकारे करायचा याविषयी बापूंनी वेळोवेळी मार्गदर्शन केले.

त्या मार्गदर्शनास अनुसरून संस्थेच्या ऑफिस मध्ये “आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर” तयार होण्यास सुरुवात झाली व काळानुसार या आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर मध्ये विविध बदल करण्यात आले; तेही बापूंच्या मार्गदर्शनानुसारच. पुढे बापूंनी विविध विषयांवर सेमिनार्स घेऊन मोजक्या श्रद्धावानांना नवीन युगाच्या अनेक नव्या विषयांची ओळख करून दिली. आज आपली आय. टी. टीम खरोखरच कौतूकास्पद काम करत आहे, पण त्याचबरोबर आपल्या संस्थेमध्ये जे आय.टी. इन्फ्रास्ट्रक्चर व आय.टी. टीम कार्यरत आहे त्यामागे सद्गुरु बापूंची दूरदृष्टी व अभ्यास हेच कारणीभूत आहेत, याची आपण सर्व श्रद्धावानांनी नीट दखल घ्यायला हवी. सध्या आपल्या “अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य”, “थर्ड वर्ल्ड वॉर”, “अनिरुद्धाज्‌ अकॅडमी ऑफ डिझास्टर मॅनेजमेंट”, ह्या व इतर आपल्या अनेक संस्थांसंदर्भात माहिती देणार्‍या वेबसाइट्‍स, “डिजिटल रामनाम वही”, “अनिरुद्ध भजन म्युझिक”, “अनिरुद्ध टी.व्ही.” अशी अ‍ॅन्ड्राईड / आय.ओ.एस्‌. अ‍ॅप्स, ही व अशी अनेक, श्रद्धावानांना अत्यंत उपयोगी ठरणारी साधने हे ह्या विविध सेमिनार्सचेच फलित आहे. त्याचप्रमाणे आपत्ती काळात हितकारक ठरणार्‍या “फायरचॅट” व “झेलो वॉकिटॉकी” अशा अ‍ॅप्सची ओळख बापूंनीच करून दिली. २०१४ साली नववर्षानिमित्त लिहिलेल्या ’जस्ट स्टार्ट’ या दै.प्रत्यक्ष मधील अग्रलेखात बापूंनी आम्हा सर्व श्रद्धावानांना बदलत्या काळानुसार नवीन टेक्नॉलॉजीशी जुळवून घेण्याची आवश्यकता प्रतिपादन करताना, सोशल मीडियाची उपयुक्तता समजावून सांगितली होती व त्याचा यथोचित वापर म्हणजेच कुठले पोस्ट टाकावे व कुठले पोस्ट टाकू नये हा सारासार विचार प्रत्येक श्रद्धावानाने करायला हवा ह्याविषयी आम्हा सर्व श्रद्धावानांना मार्गदर्शन केले होते.

एवढेच नाही, तर बापूंनी २०१३ साली त्यांच्या सांगली दौर्‍याच्या आधी, व्हॉट्‍स अ‍ॅपच्या सहाय्याने, नियोजन करणार्‍या विविध ग्रुप्समध्ये व त्याचप्रमाणे इतर श्रद्धावानांपर्यंत उचित माहिती व अपडेट्स कमीत कमी वेळात पोहोचेल यासाठीही मार्गदर्शन केले व त्यानुसारच ह्या दौर्‍याचे नियोजन केले गेले.

ह्या सगळ्याचा सारांश हाच, की संस्थेने आय.टी. क्षेत्रात केलेली ही सर्व प्रगती पाहता, त्यामागे आपल्या बापूंचे स्वत:चे अथक परिश्रम, अभ्यास, दूरदृष्टी व मार्गदर्शन हेच कारणीभूत आहेत, हे लक्षात घ्यायला हवे. कोणाही श्रद्धावानाला एखाद्या विषयात प्राविण्य मिळवायचे असल्यास, त्याने प्रवास कसा करावा याचे हे एक उत्तम उदाहरण आहे.

त्याचप्रमाणे आज अनेक श्रद्धावानांकडून किंवा हितचिंतकांकडून अशी विचारणा करण्यात येत आहे, की या कठीण काळामध्ये बापू काय सांगू इच्छितात, किंवा बापू आम्हाला काही मार्गदर्शन करतील का? ह्या संदर्भात काही मीडिया ग्रुप स्नेहींनीही माझ्याशी संवाद साधला. ह्या बाबतीत मी एवढेच म्हणेन, की मागची अनेक वर्षे बापू या विषयी श्रद्धावानांना मार्गदर्शन करतच आले आहेत; व ह्याविषयी लवकरच वेगळी पोस्ट टाकण्याचा माझा विचार आहे.

।। हरि ॐ ।। श्रीराम ।। अंबज्ञ ।।
।। नाथसंविध्‌ ।।

Related Post

Leave a Reply