तुर्की-सीरिया-यूरोप तनाव

सीरिया और घुसपैठी शरणार्थियों के मुद्दे पर यूरोपिय महासंघ और नाटो का तुर्की के साथ बना विवाद हुआ तीव्र

ब्रुसेल्स – यूरोपिय देशों ने सीरिया के मुद्दे पर अपनी सहायता नही की तो यूरोप में शरणार्थियों के झुंड छोडेंगे, यह धमकी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने दी थी| तभी तुर्की का ऐसे ब्लैकमेलिंग करना बर्दाश्त नही करेंगे, यह इशारा यूरोपिय देशों ने दिया था| इस पृष्ठभूमि पर ब्रुसेल्स में यूरोपिय देश और तुर्की के बीच हुई बातचीत पुरी तरह से असफल हुई है| इस बातचीत के बाद तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन माध्यमों से बातचीत किए बिना वहां से निकल गए| साथ ही सीरिया में जारी संघर्ष में नाटो तुर्की की सहायता करें, यह मांग कर रहे तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष की नाटो ने सुनी नही है| यह भी नाटो और तुर्की के बीच हुई बातचीत से स्पष्ट हुआ| इस वजह से एक ही समय पर सीरियन सेना और रशिया जैसे ताकतवर देश का मुकाबला करते समय तुर्की अलग थलग होने का चित्र फिलहाल दिख रहा है|

तुर्की की सीमा लांघकर ग्रीस के रास्ते यूरोप में घुसपैठ करने की कोशिश करनेवाले शरणार्थियों को तुर्की ने खुला छोड दिया है| इस वजह से हजारों शरणार्थी ग्रीस में प्रवेश करने के लिए आगे बढ रहे है और उन्हें रोकने के लिए ग्रीस के सैनिक कार्रवाई कर रहे है| पर, तुर्की इन शरणार्थियों को रोकने के लिए तैयार नही है| सीरिया के मुद्दे पर तुर्की को यूरोपिय देशों का साथ नही मिला तो, शरणार्थियों के झुंड स्वीकारने के लिए तैयार रहें, यह चेतावनी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने दी थी| यह धमकी सच्चाई में उतारी जा सकती है, यह संकेत तुर्की दे रहा है| इस पृष्ठभूमि पर ब्रुसेल्स में यूरोपिय देशों की तुर्की के साथ बातचीत हुई|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/turkish-dispute-with-eu-nato-festers/

तुर्की ने सीरिया में किए हमले में पाकिस्तान के ५० चरमपंथी ढेर

इस्लामाबाद – सीरिया के इदलिब में पाकिस्तान के १०० कान्ट्रैक्ट सैनिक तुर्की की सेना के पक्ष में अस्साद हुकूमत के विरोध में संघर्ष कर रहे है, यह खबर हाल ही में प्राप्त हुई थी| इसे कुछ दिन नही होते तो तुर्की ने इदलिब में किए हवाई हमले में पाकिस्तान के ५० चरमपंथीयों को ढेर किया है| यह चरमपंथी सीरिया में स्थित ईरान से जुडे गुट के पक्ष में संघर्ष कर रहे थे, यह जानकारी पाकिस्तान के लष्करी अफसर ने साझा की| इससे सीरिया के संघर्ष में पाकिस्तान के कान्ट्रैक्ट सैनिक एक दुसरे के विरोध में ही लड रहे है, यह दिखाई दे रहा है|

रशिया की पहल से सीरिया के इदलिब में युद्धविराम हुआ है| यह युद्धविराम शुरू होने से कुछ घंटे पहले तुर्की की सेना ने इस क्षेत्र में जोरदार हवाई हमलें किए थे| तुर्की के लडाकू विमान और ड्रोन्स ने किए इस हमले में सीरियन सेना एवं ईरान से जुडे गुटों का बडा नुकसान होने का दावा तुर्की ने किया था| तुर्की की इस कार्रवाई की जानकारी अब धीरे धीने सामने आ रही है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/50-pakistani-extremists-killed-turkey-syria-attack/

इदलिब में युद्धविराम होने से पहले तुर्की ने किए हमले में सीरिया के २१ सैनिक ढेर

इस्तंबूल/मास्को – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन के बीच हुई लंबी बातचीत के बाद गुरूवार देर रात से सीरिया के इदलिब प्रांत में युद्धविराम का ऐलान किया गया| पर, यह ऐलान होने से पहले तुर्की ने इदलिब में किए ड्रोन हमले में सीरिया के २१ सैनिक मारे गए| इससे पहले भी सीरिया में किए गए युद्धविराम का उल्लंघन करनेवाले तुर्की से ज्यादा उम्मीद ना होने की आलोचना सीरिया के राजदूत ने की है|

गुरूवार के दिन ही तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन ने सीरिया के मसले को लेकर रशिया की यात्रा करके राष्ट्राध्यक्ष पुतिन से बातचीत की| दोनों नेताओं की यह बातचीत करबीन चार घंटे हुई| इसके बाद दोनों देशों के प्रतिनिधियों से हुई बातचीत के उपरांत राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने इदलिब में युद्धविराम जारी करने का? ऐलान किया| गुरूवार देर रात से सीरिया की अस्साद हुकूमत और तुर्की एवं तुर्की से संबंधित गुट इस युद्धविराम का पालन करेंगे, यह उम्मीद राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने जताई|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/21-syrian-soldiers-killed-turkish-attack-before-ceasefire-idlib/

सीरिया में बढ रहे रशिया-तुर्की के तनाव के बीच अमरिकी युद्धपोत भूमध्य सागर में दाखिल

वॉशिंग्टन/अंकारा/दमास्कस: अमरिका के विशाल विमान वाहक युद्धपोत ‘यूएसएस ड्विट आयसेनहोवर’ का बेडा भूमध्य सागर में दाखिल हुआ है| भूमध्य समुद्र में स्थित अमरिका और मित्रदेशों के हितसंबंधों की सुरक्षा लिए यह तैनाती होने की जानकारी अमरिकी नौसेना ने सार्वजनिक की है| पर, सीरिया के इदलिब में जारी संघर्ष में रशिया और तुर्की के बीच तनाव बना है और तभी अमरिकी युद्धपोत के बेडे की हुई यह तैनाती अहम समझी जा रही है| इसी बीच, इदलिब में जारी संघर्ष के लिए अमरिका ने तुर्की को लष्करी सहायता प्रदान करने की तैयारी दिखाई है, यह ऐलान तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ने किया है|

दुनिया भर में नौसेना की समुद्री गतिविधियों पर बारीक नजर रखनेवाली वेबसाईट ने अमरिकी युद्धपोत की इस तैनाती की जानकारी हाल ही में सार्वजनिक की| प्रगत ‘एफ/ए–१८ई’ लडाकू विमानों के आठ स्क्वाड्रन्स, हेलिकॉप्टर्स और छह हजार नौसैनिक ‘यूएसएस आयसनहोवर’ पर तैनात है| इस विमान वाहक युद्धपोत समेत ‘टॉमाहॉक’ मिसाइलों से सज्जित ‘यूसएसएस सैन जैसिंटो’ और ‘यूएसएस वेला गल्फ’ यह युद्धपोत और ‘यूएसएस स्टॉट’, ‘यूएसएस जेम्स विल्यम्स’ एवं ‘यूएसएस ट्रक्सटन’ यह विध्वंसक भी इस बेडे के साथ पहुंची है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-warship-enters-mediterranean-sea-russia-turkey-tension-syria/

Related Post

Leave a Reply