अमरिका एवं चीन के बिच तनाव

चीन को आशियाई देशों पर वर्चस्व दिखाने नहीं देंगे – अमरिका के वरिष्ठ अधिकारी का दावा

अमरिका एवं चीन के बिच तनाववाशिंगटन : ‘आशिया से अमरिका को बाहर करने के लिए चीन के प्रयत्न कभी भी यशस्वी नहीं होने देंगे, उसके लिए चीन को आशियाई देशों पर दबाव बढ़ाने का अवसर नहीं मिलेगा, इस पर हम ध्यान रखेंगे’, ऐसा कड़ा इशारा अमरिका के वरिष्ठ अधिकारी सुसान थॉर्नटन ने दिया है। अमेरिकी संसद में ‘सिनेट फॉरेन रिलेशंस कमिटी’ के सामने धारणा स्पष्ट करते हुए थोर्नटन ने यह इशारा देते हुए अमरिका चीन के साथ सकारात्मक संबंध हो होने का खुलासा किया है।

‘जिस अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था में चीन का उदय हुआ है, वह प्रभाव बढ़ रहा है और यह अगर कायम रखना होगा, तो चीन ने उनके नियम और निष्कर्ष पालना बंधनकारक है। आस पास के देशों के साथ सहयोगी तौर पर संबंध रखने होंगे। आशियाई देशों को धमकाकर अथवा उनपर जबरदस्ती करना यह अमरिका सहन नहीं करेगा’, ऐसे आक्रामक शब्दों में अमरिका के ‘ईस्ट एशियन एवं पैसिफिक अफेयर्स’ विभाग के वरिष्ठ अधिकारी थोर्नटन ने चीन को सूचित किया है।

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/asian-countries-china-domination/

अमरिका के शिकागो शेयर बाजार को कब्जे में करने की चीन की कोशिश को नाकाम किया गया

अमरिका एवं चीन के बिच तनाववॉशिंग्टन/बीजिंग: अमरिका के ‘सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन’ ने चीनी कंपनी की ‘शिकागो शेयर बाजार पर कब्जा करने की कोशिश को नाकाम किया है। चीनी निवेशकों की तरफ से उचित जानकारी नहीं दी गयी है, यह वजह इस के लिए बताई गयी है। पिछले डेढ़ महीनों में चीनी कंपनी को अमरिका में प्रवेश इन्कार करने की यह दूसरी घटना है।इस के पहले जनवरी में चीनी उद्योजक ‘जॅक मा’ को अमरिकी कंपनी को कब्जे में लेने से रोका गया था।

दो सालों पहले चीन के ‘चोंगकिंग कझिन एंटरप्राइज ग्रुप’ इस कंपनी ने ‘शिकागो स्टॉक एक्सचेंज’ में निवेश करने का प्रस्ताव दिया था। इस प्रस्ताव के तहत चीनी कंपनी ढाई करोड़ डॉलर्स का निवेश करने वाली थी। चीनी कंपनी के इस प्रस्ताव को अमरिका के ‘कमिटी ऑन फॉरेन इन्वेस्टमेंट इन द यूनाइटेड स्टेट्स’ (सीएफआययुएस) ने मान्यता दी थी। पिछले वर्ष ‘सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन’ की प्राथमिक बैठक में भी यह प्रस्ताव आगे ले जाने के लिए मंजूरी दी गई थी।

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/americas-chicago-stock-exchange/

अमरिका एवं चीन के बिच व्यापार युद्ध तीव्र

अमरिका एवं चीन के बिच तनाववॉशिंगटन / बीजिंग: दुनिया के २ अग्रणी की वित्त महासत्ता के तौर पर पहचाने जाने वाले अमरिका एवं चीन मैं व्यापार युद्ध भड़कने के संकेत मिल रहे हैं। कुछ दिनों पहले अमरिका के कृषि उत्पादन पर कर लगानेवाले चीन ने अमरिका से आयात होने वाले स्टाइरीन एस रसायन पर आयात कर जारी करने की घोषणा की थी। उस समय अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने चीन से अमरिका में निर्यात होनेवाले पोलाद एवं एल्युमीनियम के भंडार पर टीका की है और नए प्रतिबंधों का इशारा दिया है।

चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने मंगलवार को निवेदन प्रसिद्ध किया है और अमरिका स्टायरिन मोनोमेर में यह रसायन चीन में डंप करने का आरोप किया है। इस बारे में हुई जांच में तथ्य होकर अमरिका ५ से १० प्रतिशत कम कीमत में चीन में यह रस रसायन बिक्री करने की बात दिखाई दे रही है, ऐसा दावा वाणिज्य मंत्रालय ने किया है। इस की वजह से चीनी उत्पादकों का नुकसान रोकने के लिए अमरिकी रसायन के आयात पर लगभग ५ से १० प्रतिशत आयात कर जारी किया जा रहा है, ऐसी घोषणा चीन ने की है।

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/trade-war-between-america-and-china/

Newscast-Pratyaksha Twitter Handle

Related Post

Leave a Reply