भय का निर्मूलन करने के लिए शिवपंचाक्षरी स्तोत्र यह बहुत ही प्रभावी स्तोत्र है (Shivapanchakshari Stotra Is The Extremely Powerful Stotra To Destroy Fear) – Aniruddha Bapu

परमपूज्य सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध बापू ने ०२ मार्च २०१७ के पितृवचनम् में ‘भय का निर्मूलन करने के लिए शिवपंचाक्षरी स्तोत्र यह बहुत ही प्रभावी स्तोत्र है’, इस बारे में बताया।
 
Shivapanchakshari Stotra_Aniruddha Bapu
भय का निर्मूलन करने के लिए शिवपंचाक्षरी स्तोत्र यह बहुत ही प्रभावी स्तोत्र है
(Shivapanchakshari Stotra Is The Extremely Powerful Stotra To Destroy Fear) – Aniruddha Bapu
भय निर्मूलन के लिये शिवपंचाक्षरी स्तोत्र सबसे श्रेष्ठ माना जाता है, इतना छोटा होके भी। किसी भी तरीके का भय। अगर हमारे मन में भय उत्पन्न होता है, तो क्या बापू हम इस स्तोत्र का पठन कर सकते है? हां, कर सकते हैं। कितनी बार करना आवश्यक है? No Rules. तुम्हारी परिस्थिति के अनुसार, उस समय उस स्थिति के अनुसार, वो जो तुम्हारा काम है, उसके अनुसार। आप रोज पाच बार कीजिये, दो बार कीजिये, या सिर्फ एक हफ्ते के लिये कीजिये, कोई problem नहीं है। 
 
हमारे मन में उत्पन्न होनेवाली शंकाएं और शक जो हैं, ये ही सब क्या होता है, सब दुखों का, हमारी तकलीफों की जड होती है, मूल होता है। actually कुछ होता ही नहीं, हमारे मन में सिर्फ शक होता है। हम उस शक की सहायता से आगे बढते जाते हैं और बाद में क्या मिलता है? शक का परिवर्तन यकीन में बदल जाता है। हमें यकीन हो जाता है, ऐसा ही है। बस्स! यही गलत है। सब कुछ भगवान पर छोड दो। मैंने हमेशा बार बार बताया है। 
 
मुझे याद है मैंने पंढरपुर की भावयात्रा में बताया, प्रार्थना ऐसी करोे कि भगवान तू ही सब कुछ करनेवाला है, काम ऐसा करो, जैसे कि मुझे ही सब कु़छ करना है। यहां अहंकार नहीं बढेगा। काम करते वक्त भगवान की याद रखो, इतना याद रखो काम करते समय कि मैं भगवान की प्रार्थना करता हूं इसलिये काम कर रहा हूं। प्रार्थना ऐसी करो, जैसे भगवान ही सबकुछ हैं और वो ही सबकुछ करते हैं, इस भावना के साथ। और काम करते समय इस भावना से करो कि मुझे अकेले ही सब काम करना है, भगवान देख रहा है मेरा। जब समय आयेगा तब वो interfere करेगा, हस्तक्षेप जरूर करेगा । 
 
हमारे सद्गुरु अनिरुद्ध बापू ने पितृवचनम् में जो बताया, वह आप इस व्हिडिओ में देख सकते हैं।

॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

My Twitter Handle

Related Post

Leave a Reply