Home / Current Affairs / रशिया की बढ़ती आक्रमकता

रशिया की बढ़ती आक्रमकता

रशिया के आक्रामकता को ब्रिटन से कड़ा प्रतिउत्तर दिया जाएगा – ब्रिटिश रक्षामंत्री का इशारा

uk-def-secलंदन : रशिया के राष्ट्राध्यक्ष ब्लादिमीर पुतिन ब्रिटेन, अमरिका एवं मित्र देशों के विरोध में लगातार आक्रामक भूमिका ले रहे हैं और उनके विरोध में ब्रिटन न झुककर कड़ा प्रत्युत्तर देगा, ऐसा इशारा ब्रिटेन के रक्षामंत्री गेव्हिन विल्यमसन ने दिया है। ब्रिटेन के संसद सदस्यों से रशिया नए शीतयुद्ध शुरू करने का एवं ब्रिटन उसके विरोध में कठोर भूमिका न लेने का आरोप किया था। इस पृष्ठभूमि पर ब्रिटिश रक्षामंत्री ने दिया इशारा महत्वपूर्ण माना जा रहा है। दौरान ब्रिटेन में एक रशियन जासूस संदिग्ध रूप से बेहोश रूप में पाया गया है और यह घटना ब्रिटन एवं रशिया में तनाव अधिक बढ़ाने वाली हो सकती है, ऐसे संकेत मिल रहे हैं।

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/russian-aggression-strongly-replied-warns-uk-defence-secretary

रशिया मिसाइलें और ‘अंडरवॉटर ड्रोन्स’ के लिए ‘न्यूक्लिअर रिॲक्टर्स’ का इस्तेमाल करेगा – परीक्षण सफल होने का दावा

russia-missile-1- रशियामॉस्को: रशिया ने मिसाइलें और ‘अंडरवॉटर ड्रोन्स’ के लिए छोटे रिॲक्टर्स विकसित किए हैं और और उनका परीक्षण पूरा होने की जानकारी वरिष्ठ सूत्रों ने दी है। रशिया की सरकारी वृत्तसंस्था ‘तास’ ने इस सन्दर्भ में खबर प्रसिद्ध की है। पिछले हफ्ते ही रशिया ने अतिप्रगत श्रेणी के परमाणु वाहक बैलेस्टिक मिसाइल, अभेद्य हाइपरसोनिक मिसाइल और परमाणु वाहक पनडुब्बी का निर्माण करने की जानकारी राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन ने दी थी। ‘रशिया ने अमर्याद क्षमता वाले क्रुझ मिसाइल और पानी के नीचे कार्यरत रहने वाले बहुउद्देशीय ड्रोन्स के लिए छोटे आकारवाली परमाणु ऊर्जा की निर्मिती करने वाली यंत्रणाओं का परिक्षण पूरा किया है।

आगे पढे:http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/russia-use-nuclear-reactors-missiles

रशिया और चीन का खाड़ी में बढ़ता प्रभाव अमरिकी हितसंबंधों के लिए खतरनाक- अमरिका के ‘सेंटकॉम’ प्रमुख का इशारा

US-Centcom-Chiefवॉशिंग्टन: ‘आयएस’ की हार हुयी है फिर भी खाड़ी में अमरिका का संघर्ष ख़त्म नहीं हुआ है। रशिया और चीन यह प्रतियोगी देश खाड़ी में अपना प्रभाव बड़े पैमाने पर बढा रहे हैं, जिससे अमरिका के हितसंबंधों को बहुत बड़ा खतरा संभव है। इसीलिए रशिया-चीन को रोकने के लिए अमरिका को खाड़ी में संघर्ष करना ही पड़ा, ऐसा अमरिका के ‘सेन्ट्रलकमांड’ (सेंटकॉम) के प्रमुख जनरल जोसेफ वोटेल ने कहा है। अमरिकन प्रतिनिधिगृह की ‘आर्मड सर्विसेज कमिटी’ के सामने बोलते समय जनरल वोटेल ने रशिया और चीन के खाड़ी में बढ़ते प्रभाव पर चिंता जतायी है।

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/increase-influence-russia-china-middle-east-us-centcom-chief

रशिया के अंतरमहाद्वीपीय मिसाइलों से कोई भी देश सुरक्षित नहीं है – रशियन राष्ट्राध्यक्ष का इशारा

मॉस्को/वॉशिंग्टन: अन्य देशों की तुलना में रशियन मिसाइलें सर्वाधिक दूरी वाले हैं और दुनिया का कोई भी देश इन मिसाइलों से सुरक्षित नहीं है। दुश्मन की मिसाइल भेदी यंत्रणा भी रशियन मिसाइलों के सामने नाकाम होगी, ऐसा इशारा रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन ने दिया है। रशियन संसद के सामने मिसाइलों की जानकारी देते समय राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने यह घोषणा की है। इसपर पश्चिमी देशों की ओर से प्रतिक्रिया आई है और रशिया ने युद्धकालीन अनुबंधों का उल्लंघन करने का आरोप अमरिका ने लगाया है। पिछले कुछ महीनों में रशिया ने अंतरमहाद्वीपीय मिसाइलों का परीक्षण करने की जानकारी राष्ट्राध्यक्ष पुतिन ने संसद को दी है। अपने आधे घंटे के भाषण पुतिन ने सबसे भीषण मिसाइल की जानकारी देकर पश्चिमी देशों को धमकाया है।

Russian-intercontinental-missiles - रशिया

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/no-country-safe-russian-intercontinental-missiles-president-putin

 

Newscast-Pratyaksha Twitter Handle

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*