सीरिया में चल रहें संघर्ष का दायरा बढ़ने की संभावना

तुर्की ने सिरिया के सीमा के पास तैनाती बढ़ाई

सीरिया में चल रहें संघर्ष का दायरा बढ़ने की संभावनाताक्या – रशिया के राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमीर पुतिन ने सिरिया के इदलिब में कार्रवाई के बारे में शुक्रवार को अपनी सुरक्षा समिति से चर्चा की है और जल्द ही इदलिब पर हमलों की व्याप्ति बढेगी ऐसी आशंका जताई जा रही है। इस पृष्ठभूमि पर इदलिब में अपने हित संबंधों की सुरक्षा के लिए तुर्की ने गतिविधियां बढ़ाई है। तुर्की ने सिरिया के सीमा से जुड़े हुए क्षेत्र में बड़ी तादाद में सेना तैनाती की है और तोंफ, लष्करी वाहनों का बेड़ा इस सीमा क्षेत्र मे लाया है।

सिरिया के अलेप्पो प्रांत से जुडे तुर्की के हताया प्रांत में तुर्की के लष्करी विमान उतारने की तस्वीरें प्रसिद्ध हुई है। सिरिया के सीमा के पास केवल ५० किलोमीटर अंतर पर होने वाले इस हवाई अड्डे पर तुर्की के सैनिक तथा लष्करी वाहन तैनात हैं। यह वाहन सिरिया के सीमा की दिशा में रवाना होने की जानकारी सामने आ रही है।

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/turkey-increases-deployment-near-syria-border/

जर्मनी भी सीरिया में हमले करने की तैयारी में

सीरिया में चल रहें संघर्ष का दायरा बढ़ने की संभावनाबर्लिन: अस्साद राजवट ने सीरिया में रासायनिक हमला किया, तो अमरिका, ब्रिटन और फ़्रांस के साथ जर्मनी के लड़ाकू विमान भी सीरिया पर हमले कर सकते हैं, ऐसा दावा जर्मनी के प्रमुख दैनिक ने किया है। जर्मनी की रक्षा मंत्री ‘उर्सूला लेयेन’ सीरिया में हवाई हमले करने के बारे में विभिन्न योजनाएं बना रहीं हैं, ऐसा दावा भी इस दैनिक ने किया है।

इससे पहले रासायनिक हमले का आरोप लगाकर, अप्रैल महीने में अमरिका ने सीरिया में किए हमले में ब्रिटन और फ़्रांस के लड़ाकू विमान शामिल हुए थे। अप्रैल महीने की तरह अस्साद राजवट फिर एक बार रासायनिक हमला करने की तैयारी में होने का दावा किया जा रहा है।

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/germany-also-preparing-to-attack-syria/

अमरिका ने सीरिया में रशिया के जगहों पर हमले की आशंका ठुकराई नहीं है – अमरिकी दैनिक का दावा

सीरिया में चल रहें संघर्ष का दायरा बढ़ने की संभावनावॉशिंग्टन: सीरिया के इदलिब पर सीरियन लष्कर ने और रशिया ने हमले किए तो उसके भयंकर परिणाम होंगे, ऐसा अमरिका ने सूचित किया था। अमरिका के इन चेतावनियों को नजरअंदाज करके सीरियन लष्कर के साथ रशिया ने इदलिब में बागियों पर हमले किए थे। उसमें रशियन नौदल एवं वायुसेना सीरिया के किनारे के पास भूमध्य समुद्र के क्षेत्र में युद्धाभ्यास द्वारा अपनी क्षमता का प्रदर्शन कर रही है। इसकी वजह से बौखलाए हुए अमरिका ने अपनी नियोजित योजना कार्यान्वित की है और आने वाले दिनों में सीरिया में ईरान एवं रशिया के जगहों को भी लक्ष्य किया जा सकता है, ऐसा संदेश अमरिका ने दिया है।

अमरिका के अग्रणी दैनिक द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने इस बारे में वृत्त प्रसिद्ध किया है। आने वाले समय में अमरिका सीरिया में रशिया के जगहों पर हमले करने से नहीं रुकेगा, ऐसा दावा इस वृत्तपत्र ने किया है।

आगे पढे: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-does-not-deny-possibility-attacks-on-russian-locations/

सीरिया में अमरिका की तरफ से ‘फॉस्फरस बम’ के हमले – रशियन मीडिया का आरोप

सीरिया में चल रहें संघर्ष का दायरा बढ़ने की संभावनामॉस्को/वॉशिंग्टन: सीरिया के ‘देर-अल-झोर’ इलाके में अमरिका ने संहारक ‘फॉस्फरस बम’ के हमले किए हैं। यहाँ के सीरियन लष्कर के ठिकानों को लक्ष्य करने के लिए अमरिका ने यह हमले किए है, ऐसा आरोप रशियन मीडिया ने किया है। लेकिन रशिया के यह आरोप अमान्य करके अमरिका के रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने इन आरोपों को ख़ारिज किया है।

शनिवार ८ सितंबर को अमरिका के दो ‘एफ-१५’ लड़ाकू विमानों ने ‘देर अल-झोर’ के ‘हाजिन’ इलाके में हमले किए। यहाँ के नागरी इलाकों में हमले करने की वजह से जीवित हानि होने की संभावना है, और दर्जन से अधिक घायल होने का दावा रशियन लष्कर के ‘लेफ्टिनेंट जनरल व्लादिमीर शैवशेन्को’ ने किया है।

आगे पढे:  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-carrying-out-phosphorus-bomb-attacks-in-syria/

Related Post

Leave a Reply