भारत के रक्षा क्षेत्र से जुडी गतिविधियां

सीडीएस जनरल रावत ने दिए ‘एअर डिफेन्स कमांड’ का प्लैन तैयार करने के आदेश

नई दिल्ली – देश की हवाई सुरक्षा अधिक मजबूत करने के लिए ‘सीडीएस’ जनरल बिपीन रावत ने ‘एअर डिफेन्स कमांड’ का निर्माण करने के लिए प्लैन तय करने के आदेश जारी किए है| ३० जून तक यह प्लैन तैयार करने की सूचना जनरल रावत ने की है और ‘सीडीएस’ पद पर नियुक्त होने के बाद उन्होंने जारी किए पहले आदेश में इसका समावेश होता है| इसके साथ ही तीनों रक्षादलों के लिए ‘कॉमन लॉजिस्टिक सपोर्ट पूल्स’ यानी जरूरी सामान की यातायात करने के लिए संयुक्त ठिकानों का निर्माण करने के आदेश भी जनरल रावत ने दिए है|

वर्ष १९९९ के कारगिल युद्ध के बाद तीनों रक्षादलों में समन्वय एवं सहयोग स्थापित करने की जरूरत पहली बार सामने आयी थी| इसके लिए ‘सीडीएस’ पद जरूरी होने की बात भी सामने आयी थी| इसी पृष्ठभूमि पर सीडीएस पद का निर्माण करके तीनों रक्षादलों की क्षमता और उर्जा का अधिक प्रभावी प्रयोग करने के लिए ‘सीडीएस’ पद का निर्माण किया गया है| जनरल रावत देश के पहले सीडीएस बने है और उन्होंने रक्षा दलों का समन्वय एवं सहयोग को अपनी सबसे अधिक प्राथमिकता रहेगी, यह भी घोषित किया है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/cdf-general-rawat-orders-to-prepare-air-defence-command-plans/

सीडीएस जनरल बिपीन रावत ने नई जिम्मेदारी स्वीकारी

नई दिल्ली – देश के पहले ‘चीफ ऑफ डिफेन्स स्टाफ’ (सीडीएस) यानी रक्षादलप्रमुख जनरल रावत ने अपने नए पद की जिम्मेदारी स्वीकारी है| ‘सेना, नौसेना और वायुसेना इसके आगे एक टीम के तौर पर काम करेगी| तीनों रक्षादलों की उर्जा एक करके एक अधिक एक अधिक एक बराबर तीन नही, बल्कि पांच या सात करने की अपनी कोशिश रहेगी’, यह बात जनरल रावत ने कही है| सेनाप्रमुख से ‘सीडीएस’ बनने के बावजूद नौसेना और वायुसेना को भी उतनी ही अहमियत दी जाएगी, पक्षपात नही होगा, यह वादा जनरल रावत ने किया|

रक्षादलों के बीच समन्वय एवं सहयोग बढाने के लिए एवं निर्णयप्रक्रिया गतिमान करने के लिए ‘सीडीएस’ पद की जरूरत होने की बात कही जा रही थी| इसके अनुसार केंद्र सरकार ने निर्णय किया और जनरल रावत को देश के पहले ‘सीडीएस’ के तौर पर नियुक्त किया| अपने पद की जिम्मेदारी स्वीकारने के बाद पहले ही दिन जनरल रावत ने अपनी प्राथमिकता स्पष्ट की| तीनों रक्षादलों की उर्जा एक करके देश की रक्षा के लिए अधिक प्रभावी निर्णय होंगे, यह बात जनरल रावत ने माध्यमों से की बातचीत के दौरान स्पष्ट की|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/general-bipin-rawat-accepts-new-responsibility/

चीन से नजदिकी सीमा पर खास ध्यान देना होगा – नए सेनाप्रमुख जनरल नरवणे

नई दिल्ली – आजतक देश की पश्‍चिमी सीमा की ओर सबसे अधिक ध्यान दिया गया है| पर, अगले दिनों में देश की उत्तरी सीमा पर खास ध्यान देना होगा, यह बयान नए सेनाप्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने किया है| पाकिस्तान उतनी ही चीन पर भी नजर रखनी होगी, यह चेतावनी जनरल नरवणे ने अपने बयान से दिया है|

मंगलवार के दिन सेनाप्रमुख के तौर पर जिम्मेदारी स्वीकारने के बाद जनरल नरवणे ने पाकिस्तान को कडी चेतावनी दी थी| ‘पाकिस्तान ने भारत में आतंकी भेजने का काम जारी रखा तो उसे जवाब देने का अधिकार भारत रखता है| सर्जिकल स्ट्राईक और बालाकोट में किए हवाई हमले के जरिए भारत ने पाकिस्तान को उचित चेतावनी पहले ही दी है’, यह बयान जनरल नरवणे ने किया था| इसके बाद नए सेनाप्रमुख ने चीन पर अपनी नजर होने की बात भी दिखाई है|

आगे पढे : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/special-attention-needed-near-china-border/

Related Post

Leave a Reply