दैनिक प्रत्यक्ष में इस्रायल पर प्रकाशित हो रही सिरीज़

सभी श्रद्धावान यह जानते ही हैं कि ‘दैनिक प्रत्यक्ष’ में पिछले १ साल से हम इस्रायल पर ‘इस्रायल: एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन यशस्वी’ यह मालिका प्रकाशित कर रहे हैं। इस मालिका की प्रस्तावना स्वयं डॉ. अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी ने ही – हमारे प्रिय बापू ने ही लिखी थी।

इस मालिका की शुरुआत, ज्यूधर्मियों का आद्यपूर्वज अब्राहम की कथा से होती है, जिसे ईश्वर ने दृष्टान्त देकर यह ‘पवित्र भूमी’ बहाल की, ऐसा कहा जाता है। बीच के हज़ारों सालों के ज्यूधर्मियों के इतिहास का सिंहावलोकन कर यह मालिका अब ‘झायोनिझम’ का आरंभ होने के कालखंड तक पहुँच गयी है। इस ‘झायोनिझम’ में से ही आगे चलकर आज के स्वतंत्र इस्रायल राष्ट्र का निर्माण हुआ।

इसी कारण, विद्यमान जागतिक जिओ-पोलिटिकल स्थिति को देखते हुए, इस मालिका के अगले आर्टिकल्स बहुत ही महत्त्वपूर्ण साबित होंगे और उन्हें पढ़ने के लिए आप लोग भी उत्सुक होंगे, इसमें कोई सन्देह नहीं है। इस मालिका के महत्त्व को अधोरेखित करने के लिए मैं, बापू ने इस मालिका के लिए लिखी प्रस्तावना का कुछ अंश यहाँ पर प्रस्तुत कर रहा हूँ  – भविष्य में पूरी दुनिया भर में जो युद्ध का, वैमनस्य का एवं मानवनिर्मित प्राकृतिक आपदाओं का दावानल भड़कनेवाला है और जो धीरे धीरे पूरी दुनिया को घेर सकता है, ऐसी सारी बातों का मुक़ाबला करने का सामर्थ्य, यदि इस्रायल तथा भारत दृढ़तापूर्वक एकत्रित रहें, तो यक़ीनन ही निर्माण हो सकता है; और इन दो देशों के साथ यदि जापान, अमरीका और रशिया अपने हाथ मिलायें, तो इस होनेवाले विध्वंस को का़फी हद तक टाला जा सकता है।

‘दैनिक प्रत्यक्ष’ में हर शनिवार को ये आर्टिकल्स् मराठी में प्रकाशित होते हैं; वहीं, ‘न्यूजकास्ट प्रत्यक्ष’ की वेबसाईट(www.newscast-pratyaksha.com) पर ये आर्टिकल्स् अँग्रेज़ी और हिन्दी में प्रकाशित होते हैं।

English

Related Post

Leave a Reply