ईरान के परमाणु समझौते से जुडी गतिविधियाँ

यूरोप चीन और रशिया ईरान को वित्तीय सहायता प्रदान करेंगे – जर्मन अखबार का दावा

ईरान के परमाणु समझौते से जुडी गतिविधियाँबर्लिन – अमरिका ने जारी किए कठोर प्रतिबंधों से ईरान की रिहाई के लिए यूरोप चीन और रशिया ने ईरान को वित्तीय सहायता प्रदान करने के प्रयत्न शुरू किये है। आनेवाले हफ्ते में व्हिएन्ना में होनेवाले बैठक में इस बारे में निर्णय लिया जाएगा ऐसा, दावा जर्मनी के एक अखबार ने किया है। अमरिका के इन प्रतिबंधों को आवाहन देने के लिए यूरोपीय महासंघ ने इसके पहले ही ईरान के साथ यूरोप में व्यवहार करने के संकेत दिए हैं।

पिछले हफ्ते में राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इनके नेतृत्व में अमरिका ने ईरान पर नए प्रतिबंध की घोषणा की है। इन प्रतिबंधों की वजह से ईरान से साथ व्यापार करने वाले यूरोपीय देशों को जबरदस्त झटका लगा है। इन प्रतिबंधों के चंगुल से बाहर निकलने के लिए यूरोपीय देशों ने अलग-अलग स्तर पर प्रयत्न शुरू किए हैं।

आगे पढें:  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/europe-china-russia-provide-financial-aid-iran/

अमरिका ईरान के खिलाफ वैश्विक मोर्चा तैयार करेगा – अमरिका के विदेश मंत्रालय की घोषणा

ईरान के परमाणु समझौते से जुडी गतिविधियाँवॉशिंग्टन: समविचारी देशों को एक करके अमरिका ईरान के खिलाफ मोर्चा खोलने वाला है, यह घोषणा अमरिका के विदेश मंत्रालय ने की है। इस दिशा में अमरिका के विदेश मंत्री माईक पॉम्पिओ ने कोशिश भी शुरू की है। अमरिका के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ‘हिदर न्युअर्ट’ ने ईरान के खिलाफ वैश्विक मोर्चे की जानकारी दी है।

ईरान के खिलाफ इस वैश्विक मोर्चे में कौनसे देश शामिल होंगे, इसकी जानकारी न्युअर्ट ने नहीं दी है। लेकिन ईरान के संभावित खतरे का उल्लेख करके यह मोर्चा ईरान के खिलाफ होगा, ऐसा न्युअर्ट ने स्पष्ट किया है। ‘ईरान की खतरनाक गतिविधियों से सिर्फ खाड़ी को नहीं बल्कि वैश्विक सुरक्षा को खतरा है। ईरान की राजवट, परमाणु कार्यक्रम और आतंकवाद समर्थक नीतियों के बारे में वास्तववादी दृष्टिकोण से देखने वाले देशों को एक करके अमरिका उनका मोर्चा बनाने वाला है’, यह जानकारी न्युअर्ट ने दी है।

‘अमरिका बना रहा यह वैश्विक मोर्चा ईरान के खिलाफ नहीं होगा। बल्कि ईरान की राजवट और इस राजवट की गलत नीतियों के खिलाफ यह मोर्चा होगा। अमरिका हमेशा ईरानी जनता के पीछे रहेगा’, ऐसा न्युअर्ट ने कहा है। लेकिन यह वैश्विक मोर्चा ईरान के खिलाफ लष्करी कार्रवाई करेगा क्या, इस बारे में न्युअर्ट ने बात टाली है। लेकिन ईरान की खामेनी-रोहानी राजवट की तुलना अमरिका के लष्करी मोर्चे ने इराक और सीरिया से बेदखल किए ‘आईएस’ की राजवट से की है।

आगे पढें: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-will-form-international-front-against-iran/

रशिया के यूरेशियन इकनोमिक झोन में ईरान का प्रवेश; ईरान के ईईयू करार पर हस्ताक्षर

ईरान के परमाणु समझौते से जुडी गतिविधियाँअस्ताना – अमरिका ने ईरान के साथ परमाणु करार से बाहर निकलने का निर्णय लेने के बाद ईरान ने रशिया से सहयोग अधिक दृढ़ करने का निर्णय लिया है। गुरुवार को ईरान ने रशिया पुरस्कृत यूरेशियन इकनॉमिक यूनियन के साथ मुक्त आर्थिक क्षेत्र में शामिल होने के लिए महत्वपूर्ण करार पर हस्ताक्षर किए हैं। आनेवाले समय में अमरिका से ईरान पर कठोर प्रतिबंध जारी किए जाएंगे और इस पृष्ठभूमि पर रशिया के साथ सहयोग अधिक मजबूत होंगे, ऐसी गवाही ईरान के वरिष्ठ अधिकारियों ने दी।

ईरान के वरिष्ठ अधिकारी एवं यूरेशियन इकनोमिक कमीशन के बोर्ड के प्रमुख तिग्रान सर्गस्यान इन की अस्थाना में हुई बैठक में यूरेशियन इकनॉमिक यूनियन के मुख्य आर्थिक क्षेत्र के बारे में करार पर हस्ताक्षर किए गए हैं। यह करार ३ वर्षों के लिए है और इस दौरान ईरान के साथ चर्चा पुरी करके इरान को यूरेशियन इकनॉमिक यूनियन के मुख्य आर्थिक क्षेत्र में हमेशा के लिए शामिल किया जाने वाला है।

आगे पढें: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/irans-entry-into-russias-eurasian-economic-zone/

अमरिकी प्रतिबंधों की पृष्ठभूमि पर – ईरान-ब्रिटन के बीच इंधन विषयक अनुबंध

ईरान के परमाणु समझौते से जुडी गतिविधियाँतेहरान/लंडन: अमरिका ने ईरान पर लादे कठोर प्रतिबंधों की पृष्ठभूमि पर ईरान और ब्रिटन ने महत्वपूर्ण इंधन अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए हैं। अमरिका ने यूरोपियन कंपनियों को ईरान से बाहर निकलने के लिए छः महीनों का अवधि दिया है, ऐसी स्थिति में ब्रिटिश कंपनी ने ईरान के साथ नया इंधन अनुबंध करना आश्चर्यचकित करने वाली बात है। ईरान के इंधन मंत्री बिजन झांगनेह ने ब्रिटन के साथ हुए अनुबंध की जानकारी दी है और अन्य यूरोपियन कंपनियां ईरान को आवश्यक समर्थन देंगी, ऐसी अपेक्षा व्यक्त की है।

अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने पिछले हफ्ते ईरान के साथ के परमाणु अनुबंध से अमरिका के बाहर निकलने की घोषणा की थी। उसके बाद ट्रम्प ने ईरान पर कठोर प्रतिबन्ध घोषित करके, ईरान के साथ व्यवहार करने वाली सभी विदेशी कंपनियों को निर्णायक चेतावनी दी थी। ईरान के इंधन और अन्य क्षेत्रों में बड़ा निवेश करने वाली यूरोपीय कंपनियों को छः महीनों में व्यवहार बंद करके ईरान से बाहर निकलने की सूचना भी दी गई है।

आगे पढें: http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/against-us-sanctions-united-kingdom-iran-sign-oil-deal/

 

Related Post

Leave a Reply