Home / Current Affairs / ईरान का मसला जटिल होने के संकेत

ईरान का मसला जटिल होने के संकेत

ईरान चार दिनों में संवर्धित युरेनियम का निर्माण कर सकता है – ईरान परमाणु ऊर्जा संगठन के प्रमुख

ईरान चार दिनों में संवर्धित युरेनियम का निर्माण कर सकता है – ईरान परमाणु ऊर्जा संगठन के प्रमुखतेहरान: ईरान पश्चिमी देशों के साथ किए गए परमाणु अनुबंध का उचित तरीकेसे पालन कर रहा है, ऐसा प्रमाणपत्र अंतराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रमुख ‘युकिया अमानो’ ने दिया है। लेकिन अमानो की इस घोषणा को कुछ घंटे भी बीते नहीं हैं, की ईरान सिर्फ चार दिन में ही २० प्रतिशत संवर्धित युरेनियम का निर्माण कर सकता है, ऐसी घोषणा ईरान के परमाणु ऊर्जा संगठन के प्रमुख ‘अली अकबर सालेही’ ने कि है। इतने पैमाने पर संवर्धित युरेनियम परमाणु बम के निर्माण के लिए काफी है, ऐसा संकेत भी सालेही ने दिया है।

संयुक्त राष्ट्रसंघ के परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष ने ईरान का दौरा करके राष्ट्राध्यक्ष ‘हसन रोहानी’, विदेश मंत्री ‘जावेद झरीफ’ और सालेही से भी मुलाकात की। ईरान का परमाणु कार्यक्रम और परमाणु अनुबंध के मुद्दे को लेकर विवाद भड़क गया है, ऐसे में अमानो का यह दौरा महत्वपूर्ण माना जाता है। इस मुलाकात में अमानो ने पश्चिमी देशों ने ईरान के साथ किये परमाणु अनुबंध का समर्थन किया है। स्वयं ने निष्पक्ष रहकर जाँच की है, ऐसा कहकर इरान ने परमाणु अनुबंध के नियमों का पालन किया है, ऐसा कहा है।

आगे पढे –  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/iran-create-augmented-uranium/

बॅलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के खिलाफ अमरिका के ईरान पर नए प्रतिबन्ध

बॅलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के खिलाफ अमरिका के ईरान पर नए प्रतिबन्धवॉशिंगटन: अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधों को ठोकर मारकर बॅलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम का निष्पादन करने का आरोप लगाकर अमरिका ने ईरान के खिलाफ नए प्रतिबन्ध घोषित किए हैं। अमरिका के प्रतिनिधिगृह ने इन प्रतिबंधों को मंजूरी दी है। इस वजह से ईरान के मिसाइल परिक्षण को मदद करने वाला व्यक्ति, कंपनियां, संगठन अथवा देश पर कारवाई की जाएगी। ईरान समर्थक हिजबुल्लाह को भी इस प्रतिबन्ध में लक्ष्य बनाया गया है। इस पर ईरान से तीव्र प्रतिक्रिया आने की संभावना है।

अमरिकन प्रतिनिधिगृह की ‘फोरेन अफेयर्स कमिटी’ ने ईरान पर प्रतिबन्ध लगाने का नया प्रस्ताव प्रस्तुत किया था। प्रतिनिधिगृह के अध्यक्ष एड रोयस और वरिष्ठ नेता एलियट एंजल ने ईरान पर नए प्रतिबन्ध लगाने की मांग की थी। इस पर प्रतिनिधिगृह में हुए मतदान में ४२३ लोगों ने ईरान पर प्रतिबन्ध लगाने के लिए समर्थन दिया और सिर्फ दो सदस्यों ने इस प्रस्ताव को विरोध दर्शाया।

आगे पढे –  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/us-imposes-restrictions-iran/

ईरान को परमाणु सज्ज होने से रोकने के लिए इस्राइल लष्करी कारवाई करेगा – इस्रैली गुप्तचर प्रमुख का इशारा

ईरान को परमाणु सज्ज होने से रोकने के लिए इस्राइल लष्करी कारवाई करेगाटोकियो: अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ईरान को परमाणु सज्ज होने से रोक नहीं पाए, तो इस्राइल लष्करी कारवाई करके ईरान को रोकेगा, ऐसा इशारा इस्त्राइल की गुप्तचर यंत्रणा के प्रमुख ‘इस्राइल कात्झ’ ने दी है। पिछले दस दिनों में ईरान विरोधी लष्करी कारवाई का इशारा देने वाले यह तीसरे इस्रैली नेता हैं। जापान के दौरे पर गए कात्झ ने यह घोषणा करके अमरिका और इस्राइल, ईरान परमाणु सज्ज न हो इसके लिए कर रहे कोशिशों को जापान साथ दे, ऐसा आवाहन किया है।

इस्रैली प्रधानमंत्री नेत्यान्याहू के नजदीकी साथ ही इस्राइल की गुप्तचर यंत्रणा और परिवहन मंत्रालय के प्रमुख कात्झ पिछले कुछ दिनों से जापान के दौरे पर हैं। इस दौरान कात्झ ने अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष ने ईरान के परमाणु अनुबंध के खिलाफ अपनाई भूमिका का जोरदार स्वागत किया। अमरिकी राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने ईरान के साथ किए परमाणु अनुबंध से पीछे हटने के संकेत दिए थे। लेकिन इस मामले में अंतिम निर्णय अमरिकन संसद ले, ऐसा ट्रम्प ने कहा था।

आगे पढे –  http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/israel-take-military-action/

Newscast-Pratyaksha Twitter Handle

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*