conversation between Hercules and Aphrodite

Home Forums वैश्विक वास्तव (The Universal Truth) प्रारंभ conversation between Hercules and Aphrodite

#97276

Harsh Pawar
Participant

‘Awestruck ’is the word. Completely mesmerized after reading the beautiful conversation between Hercules and Aphrodite in todays Agralekh of Bapu .. Love in the purest of its form … Bapu made me write the below lines on this beautiful couple:

दिल मे बसा के तेरा प्यार
आँखों मे लिए तेरा इंतजार
मैं घूमा करता हु
दिखे जहा तेरे कदमो के निशान
झुक के मैं उन्हें चूमा करता हु !

तू परियों की है शहजादी
मेरे कैदी दिल की तू आजादी
आ तू मुझे रिहा कर
संग ले चल तू मुझे अपने
मुझपर तेरी नज़र मेहरबान कर !

प्यार है तुझसे
ये अगर केह दू मैं तुझसे
कही तू रूठ ना जाये मुझसे
इसलिए मैं डरता हु
तन्हाइयों मे आहे भरता हु !

साथ होती है तू
फिर भी होता है फासला
कैसे बढ़ाऊ इस दिल का हौसला
ना जाने कैसे सुलझे अब ये मसला
अब तू ही बता मैं क्या करू ?

अब मुझे तू और न तड़पा
कर दे ख़त्म ये गमो का सिलसिला
सजाई है मैंने खुद ही अपनी चिता
है गुजारिश तुझे तू आके उसे जला … !

~ हर्ष