चीन का आक्रामक रुख

चीन के लडाकू विमानों की दक्षिण कोरिया की सीमा में घुसपैठ – दक्षिण कोरिया से कडी आलोचना

चीन का आक्रामक रुखसेऊल – ‘ईस्ट और साऊथ चाइना सी’ पर हक जताकर जापान और आग्नेय एशियाई देशों के साथ बने संबंधों में तनाव निर्माण कर रहे चीन ने अब दक्षिण कोरिया को भी उकसाया है| चीन के लडाकू और लष्करी गश्ती विमानों ने दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्र में घुसपैठ करने की तादाद दुगनी की है| अमरिका, जापान और दक्षिण कोरिया के बीच बढते सहयोग की पृष्ठभुमि पर दक्षिण कोरिया की क्षेत्र में विमानों को भेज कर चीन अपने पडोसी देश को डरा रहा है, यह दावा किया जा रहा है| इस दौरान, चीन की इस घुसपैठ पर दक्षिण कोरिया ने कडी आलोचना की है और चीन के दूतावास को समन्स भेजा है|

चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के बीच ‘एअर डिफेन्स आयडेन्टिफिकेशन झोन’ के मुद्दे पर विवाद बना है| तय हवाई सीमा ना होने के कारण यह विवाद बातचीत के द्वारा सुलझाने का तिनों भी देशों ने तय किया है| तब तक कोई भी देश दुसरे देश की फिलहाल की तय हवाई सीमा में घुसपैठ करके प्रवासी विमानों की सुरक्षा के लिए खतरा ना बनाए, यह इन देशों ने तय किया था| इसके बावजूद चीन के लष्करी विमानों ने जापान और दक्षिण कोरिया की हवाई क्षेत्र में घुसपैठ शुरू है, ऐसी आलोचना दोनों देश कर रहे है|

आगे पढ़े : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/china-fighter-jets-infiltrate-south-korea/

चीन की विध्वंसकों की तैवान के समुद्री क्षेत्र में गश्ती

चीन का आक्रामक रुखतैपेई/बीजिंग – अमरिका तथा तैवान में बढ़ता राजनीतिक और लष्करी सहयोग, इसके साथ ही तैवान की समुद्री क्षेत्र में अमरीकी जंगी जहाजों की बढ़ती गतिविधियों पर चीन से तीव्र प्रतिक्रिया उमड़ी है| चीन ने तैवान के समुद्री क्षेत्र में विध्वंसकों का बेड़ा रवाना कर दिया है और यह अमरिका के लिए चेतावनी होने का दावा चीनी मीडिया कर रही हैं| अपने समुद्री क्षेत्र में चीन की विध्वंसकों की गश्ती पर तैवान के रक्षा मंत्रालय ने टीका की है| इस कारण आने वाले समय में तैवान के मुद्दे पर अमरिका और चीन आमने-सामने आने की संभावना दृढ़ होने का दावा यूरोप के विशेषज्ञ कर रहे हैं|

चीन की विध्वंसक तथा गश्ती जहाजों ने अपनी समुद्री सीमा में घूसखोरी कर गश्ती की है, यह जानकारी तैवान के रक्षा मंत्रालय ने दी है| तैवान स्वतंत्र देश न होकर अपनी ही संप्रभु भूमि होने का दावा कर रहे चीन ने यह गश्त अपने समुद्री अभियान का एक हिस्सा होने का दावा किया है| परंतु चीन की नौसेना की गश्ती इस क्षेत्र के तनाव को बढ़ाने का कारण होगी, ऐसी आलोचना तैवान की रक्षा मंत्रालय ने की है| चीन के कितनी विध्वंसक तथा गश्ती जहाजों ने तैवान के समुद्री सीमा से यात्रा की है, यह सामने नहीं आ पाया है| चीन ने भी तैवान के इन आरोपों पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है|

आगे पढ़े : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/chinese-destroyers-patrol-taiwanese-marine-region/

पनामा के साथ ‘बेल्ट एण्ड रोड’ समझौता करके चीन का अमरिका को झटका

चीन का आक्रामक रुखपनामा सिटी – चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग इन्होंने मध्य अमरिका के ‘पनामा’ के साथ ‘बेल्ट एण्ड रोड इनिशिएटिव्ह’ समझौता किया है| यह करार यानी अमरिका के लिये चेतावनी है, यह जाना जा रहा है| विश्‍व के अन्य हिस्सों में चीन की महत्वाकांक्षी ‘बेल्ट एण्ड रोड’ परियोजना को झटके मिल रहे है| ऐसे में अमरिका के प्रभाव क्षेत्र में आने वाले देश ने यह समझौता करना ध्यान आकर्षित करने वाला है| जिनपिंग इनकी यात्रा की पृष्ठभुमि पर पनामा सरकारने १.४ अरब डॉलर्स का ‘ब्रिज प्रोजेक्ट’ चीन की कंपनी को दिया है|

राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग इनकी महत्वाकांक्षी योजना के तौर पर जाने जा रही ‘बेल्ट एण्ड रोड इनिशिएटिव्ह’ परियोजना पिछले दो वर्षों से काफी समस्या से घिरी है| अफ्रीका और युरोप के देशों के साथ ही चीन के पडोसी एशियाई देशों ने भी ‘बेल्ट एण्ड रोड इनिशिएटिव्ह’ से जुडे प्रकल्प या तो स्थगित किये है या रद्द करना शुरू किया है| इस वजह से चीन को तगडा झटका मिला है और चीन नये भागीदार देश खोजने की कोशिष कर रहा है| लैटिन अमरिका के पनामा जैसे देश को राष्ट्राध्यक्ष जिनपिंग इन्होंने दी भेंट इन्ही कोशिषों का हिस्सा माना जाता है|

आगे पढ़े : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/china-shocks-us-belt-and-road-agreement-panama/

‘साऊथ चाइना सी’ में अमरिका को रोकने के लिये चीन ने रवाना किया नौसेना का बेडा

चीन का आक्रामक रुखबीजिंग – ‘साउथ चायना सी’ के क्षेत्र में अमरिका तथा चीन के बीच तनाव कभी भी भड़क उठने के संकेत प्राप्त हो रहे हैं| इस समुद्री क्षेत्र में अमरिका के लड़ाकू जहाजों की गश्ती रोकने के लिए चीन ने अपनी नौसेना के जहाजों का बेड़ा रवाना किया है| साथ ही इस समुद्री क्षेत्र में अनपेक्षित घटना से बचना हो तो अमरिका को अपने लड़ाकू जहाज तथा विमानों से होनेवाली गश्ती पर नियंत्रण करना होगा,’ ऐसी चेतावनी चीन के लष्कर ने दी है| पिछले महीने में इसी समुद्री क्षेत्र में अमेरिका तथा चीन के लड़ाकू जहाजों की टक्कर होते होते टल गई थी|

अमरीकी नौसेना की मिसाइल भेदी प्रणाली से लैस ‘युएसएस चॅन्सलर्सविले’ इस युद्ध पोत ने दो दिन पहले ‘साउथ चायना सी’ का दौरा शुरू किया था| अमरिका के लड़ाकू जहाज ने ‘साउथ चायना सी’ में स्थित पॅरासेल दीप समूह के समुद्री सीमा से गश्ती करने की घोषणा अमरिका के पॅसिफिक कमांड के प्रवक्ता ने की थी| पॅरासेल अथवा चीन दावा कर रहे ‘झिशा’ द्वीपों के समुद्री क्षेत्र में अमरीकी लड़ाकू जहाज ने कि यह गश्ती, यहां के द्वीपों पर चीन कर रहे अधिकारों को चुनौती देने के लिए की गई थी, ऐसा अमरीकन कमांड के प्रवक्ता ‘नॅथन ख्रिस्तेनसन’ ने घोषित किया है| यहां के समुद्री क्षेत्र पर चीन अपना संपूर्ण अधिकार बता रहा है| इस कारण चीन के इन दावों को आव्हान देने के लिए अमरीकी लड़ाकू जहाजों ने गश्ती करने की जानकारी ख्रिस्तेनसन ने दी है|

आगे पढ़े : http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/china-dispatches-naval-fleet-us-south-china-sea/

 

Related Post

Leave a Reply