Videos

आत्मयोग्यता

महज परमार्थ में ही नहीं बल्कि जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफल बनने के लिए आत्मयोग्यता और आत्मविश्वास का होना आवश्यक है l आत्मयोग्यता बढाने से आत्मविश्वास बढता है और आत्मयोग्यता बढाने के लिए सद्‍गुरुतत्त्व की भक्ति करना यह राजमार्ग है l आत्मयोग्यता को बढाने के संदर्भ में परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापु ने गुरूवार ०१ मई २०१४ के हिंदी के प्रवचन में, मार्गदर्शन किया, जो आप इस व्हिडियो

विश्वास ही सब कुछ है (Faith is everything) - Aniruddha Bapu Hindi Discourse 1 May 2014

सद्‍गुरुतत्त्व पर श्रद्धावान का विश्वास कितना है, इस बात पर ही उसका जीवनविकास निर्भर करता है l जो भी माँगना है, वह सद्‍गुरु से ही माँगना चाहिए l परंतु कुछ माँगने पर भी यदि मेरे साईनाथ ने मुझे वह नहीं दिया तो कोई भी मुझे वह नहीं दे सकता और मैं मेरे साईनाथ के अलावा किसी और से वह स्वीकार भी नहीं करूँगा ऐसा विश्वास श्रद्धावान के मन में रहना

परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापुंनी गुरूवार दिनांक ८ मे २०१४ रोजी च्या मराठी प्रवचनात श्री हरिगुरुग्राम येथे भगवंताच्या भक्तिमार्गात इतर कुठल्याही गोष्टीपेक्षा तुमचा विश्वास किती आहे, यावरच सर्वकाही अवलंबून असते. हे स्पष्ट केले. जे आपण ह्या व्हिडिओमध्ये पाहू शकतो. (You are Judged by your faith) Aniruddha Bapu Marathi Discourse 08 May 2014. ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

चण्डिकाकुलास प्रेमाने न्याहाळणे (To stare at Chandikakul (चण्डिकाकुल) with Love) - Aniruddha Bapu Marathi Discourse -17 April 2014

चण्डिकाकुलाच्या तसबिरीचे आम्ही श्रध्देने व विश्वासाने दर्शन घेत असतो, ही चांगलीच गोष्ट आहे पण जेवढे जमेल तेवढे चण्डिकाकुलास प्रेमाने न्याहाळण्याने काय लाभ मिळतो याबद्द्ल परम पूज्य सद्‌गुरु श्री अनिरुद्ध बापुंनी गुरूवार दिनांक १७ एप्रिल २०१४ रोजी च्या मराठी प्रवचनात श्री हरिगुरुग्राम येथे स्पष्ट केले. Chandikakul ॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥

अन्न ग्रहणाचे महत्व

योग्य अन्न ग्रहणाचे महत्व दिनांक ९ जानेवारी २०१४ रोजी सद्‌गुरू अनिरुध्द बापूंनी प्रवचनात अन्न ग्रहणासंबंधी महत्वाचा मुद्दा मांडला तो पुढील व्हिडीयोमध्ये देत आहे. सद्‌गुरू अनिरुध्द बापूंनी प्रवचनात अन्न ग्रहणाचे महत्व विषद केले आहे.