Marathi

Bapu Always Protects His Children

हरि ॐ, सभी श्रद्धावान यह जानते ही हैं कि प्रथम पुरुषार्थ अनिरुद्ध धाम का निर्माणकार्य डुडुळ गाव, पुणे-आळंदी रोड यहाँ संपन्न हो रहा है। आज तक इस पुरुषार्थ धाम के निर्माणकार्य में सेवावृत्ति से सम्मिलित होने के लिए कई श्रद्धावान वहाँ पर उत्साह के साथ चले आते थे। फिलहाल यह निर्माणकार्य अंतिम चरण में पहुँच गया है और अब वहाँ की आध्यात्मिक पवित्रता तथा शुचिता को क़ायम रखना आवश्यक है।

दसरा विजयोपासनेसंबंधी सूचना

हरी ॐ, यावर्षी दसरा मंगळवार दि. ०८.१०.२०१९ रोजी आहे. दरवर्षी दसऱ्याच्या दिवशी श्रीहरिगुरुग्राम येथे विजयोपासना घेण्यात येते. पण यावर्षी पासून दसऱ्याची विजयोपासना ही जवळच्या गुरुवारी घेण्यात येणार आहे. यानुसार यावर्षी दसऱ्याची विजयोपासना गुरुवार दि. १०.१०.२०१९ रोजी संध्याकाळी ७.३० वा. श्रीहरिगुरुग्राम येथे घेण्यात येईल याची कृपया श्रद्धावानांनानी नोंद घ्यावी. सुनिलसिंह मंत्री मुख्य कार्यकारी अधिकारी

गूँज उठी पिपासा - भाग १ संबंधी सूचना

हरि ॐ, सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धजी पर रची हुईं नयीं हिन्दी भक्तिरचनाओं के संग्रह का पहला भाग “गूँज उठी पिपासा – भाग १”, आज आश्विन (अशुभनाशिनी) नवरात्रि की घटस्थापना के पावन पर्व पर “अनिरुद्ध भजन म्युझिक“ ॲप पर श्रद्धावानों के लिए उपलब्ध हुआ है। इसीके साथ, हम “अनिरुद्ध भजन म्युझिक” ॲप पर “प्रिमीयम प्लॅन” भी लाँच कर रहे हैं। इस प्रिमीयम प्लॅन में हमें “गूँज उठी पिपासा” के साथ साथ आगे प्रकाशित होनेवाले अल्बम्स

Ashwin-Navaratri

हरि ॐ, यावर्षी शुभंकरा नवरात्रोत्सव दि. २९.०९.२०१९ पासून सुरु होणार आहे. अनेक श्रद्धावान आपल्या घरी सद्‍गुरु श्रीअनिरुद्धांनी सांगितल्याप्रमाणे अंबज्ञ इष्टिका पूजन करतात. यामध्ये श्रद्धावान नित्य पूजनामध्ये अंबज्ञ इष्टिकेला म्हणजेच मोठ्या आईला चुनरी अर्पण करतात. अंबज्ञ इष्टिका पुनर्मिलापच्या दिवशी या चुनरीसुद्धा पुनर्मिलाप करण्यात येतात. काही उपासना केंद्रांकडून, ह्या पूजनामध्ये दररोज अंबज्ञ इष्टिकेस अर्पण होणार्‍या चुनर्‍यांचे, उत्सव संपन्न झाल्यावर एकत्र विसर्जन करणे प्रशासनाच्या नियमांनुसार अडचणीचे ठरत आहे त्यामुळे चुनरीऐवजी मोठ्या आईला ब्लाऊज

ईको-फ्रेंडली गणेश मूर्तियां

सप्टेंबर २०१९ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान वीरा श्रावणाचा पवित्र महिना येणार्‍या उत्सवांची चाहूल देतो आणि आध्यात्मिक वातावरणही बळकट करतो. या श्रावण महिन्यात श्रध्दावानांना दरवर्षी सामुहिक घोरकष्टोध्दरण स्तोत्र पठण करण्याची, महादुर्गेश्वर प्रपत्ती करण्याची आणि अश्वत्थ मारुती पूजनात सहभागी होण्याची संधी मिळते. या सगळ्याबरोबरच यावर्षापासून श्रावणात ’शिव सह-परिवार पूजन’ करण्याची अतिशय सुंदर संधी श्रध्दावानांना मिळाली. श्रध्दावानांना अनेकविध मार्गांनी आपल्या परमेश्वराप्रती असणारी कृतज्ञता व्यक्त करता येते त्याची आपण थोडक्यात माहिती घेऊ. – समिरसिंह

दत्तयाग की पवित्र उदी संबंधी सूचना

हरि ॐ, श्रद्धावान यह जानते ही होंगे कि सद्गुरु श्रीअनिरुद्ध बापू के घर हर वर्ष, साल में दो बार तीन-दिवसीय दत्तयाग का आयोजन किया जाता है। इस साल, यानी २०१९ में दि. ०४ जुलाई से ०६ जुलाई २०१९ के बीच पहला दत्तयाग संपन्न हुआ। तथा दूसरा दत्तयाग दि. १८ जुलाई से २० जुलाई २०१९ के बीच संपन्न होगा। इन दोनों दत्तयागों की पवित्र उदी सभी श्रद्धावानों को ‘माथे पर लगाने

Aniruddha Bhaktibhav Chaitanya

हरि ॐ, ‘अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य’ समारोह के प्रोमोज्‌ जब से हर गुरुवार को श्रीहरिगुरुग्राम में तथा सोशल मीडिया पर दिखाए जाने लगे हैं, तब से सभी श्रद्धावानों में इस समारोह के प्रति उत्साह बढता जा रहा है। इस समारोह के रजिस्ट्रेशन के लिए श्रद्धावानों का उत्साहपूर्ण प्रतिसाद मिल रहा है और प्रत्येक श्रद्धावान बेसब्री से इस समारोह की प्रतीक्षा कर रहा है। जिन श्रद्धावानों ने इस समारोह के लिए रजिस्ट्रेशन

Aniruddha Bhaktibhav Chaitanya

  हरि ॐ, २६ मई २०१३ को हम सबने एक अद्‍भुत एवं सुखद प्रेमयात्रा को अनुभव किया, वह प्रेमयात्रा थी ’न्हाऊ तुझिया प्रेमे’। सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्ध के प्रेम में, इस भक्तिभाव चैतन्य में नहाना क्या होता है, इसका प्रत्यक्ष एवं परिपूर्ण अनुभव इस दिन श्रद्धावानों ने किया। आज इस प्रेमयात्रा के ६ वर्ष पूरे हो रहे हैं और हम सब श्रद्धावान ३१ दिसंबर २०१९ को हो रहे ’अनिरुद्ध भक्तिभाव चैतन्य’ इस

charakha shibir

हरि ॐ, दिनांक १३ मे ते १९ मे २०१९ या काळात श्रीअनिरुद्ध गुरुक्षेत्रम् येथे दरवर्षीप्रमाणे श्रीहनुमान चलिसा पठण संपन्न झाले. या पठण काळात दररोज श्रीहनुमान चलिसेची १२३-१२५ आवर्तने झाली. याच काळात साईनिवास येथे चरखा शिबीरही संपन्न झाले. ’चरखा वस्त्र’ योजने अंतर्गत तयार झालेल्या सुतापासून दरवर्षी ’कोल्हापूर वैद्यकीय व आरोग्य शिबीरात’ हजारो मुलांना शाळेचे गणवेश विनामुल्य पुरविले जातात. त्याचप्रमाणे विरार व पाली येथे होणाऱ्या वैद्यकिय शिबीरामध्येही गणवेश वाटप करण्यात येते. यासाठीच

Sudeep

हरि ॐ, सद्‌गुरु श्रीअनिरुद्धजी के कृपा-आशीर्वाद से और उन्हीं के मार्गदर्शन के अनुसार श्रद्धावान भक्तिमार्ग पर अपना सर्वांगीण विकास कराते रहते हैं। सद्गुरु श्री अनिरुद्धलिखित ‘श्रीमद्पुरुषार्थ ग्रंथराज’ तृतीय खण्ड ‘आनन्दसाधना’ के ‘आचमन-१२२’ में, परमात्मा को पसन्द होनेवालीं नौं बूँदों के बारे में जो वर्णन किया गया है, उसके ८ वें मुद्दे में कहा गया है – ‘८) श्रीमद्पुरुषार्थ ग्रंथराज के समीप प्रज्वलित किये जानेवाले दीपक के तेल, घी तथा मोम