Hindi

हरि ॐ नाथसंविध्‌ डॉ, अनिरुद्ध अर्थात हम सभी के लाडले सद्‍गुरु श्री अनिरुद्ध के मार्गदर्शनानुसार सन १९९९ से रक्तदान शिविर (ब्लड डोनेशन कॅम्प) का आयोजन किया जाता है और इसे श्रद्धावानों की ओर से और उसी के अनुसार संस्था के हितचिंतकों की ओर से उचित प्रतिसाद भी मिलता है। इसीलिए अनेक ज़रूरतमंद रूग्णों को इस रक्तदान शिविर का लाभ भी होता है। इस रक्तदान शिविर में राज्य की अनेक रक्तपेढ़ियाँ

हरि ॐ, नाथसंविध्‌। श्रद्धावानों के लिए ‘श्रीअनिरुद्ध गुरुक्षेत्रम्‌’ यह अत्यन्त प्रेममय एवं भक्ति का विषय है। इस गुरुक्षेत्रम्‌ के विविध श्रद्धावानों के साथ श्रद्धावानों की नाड़ी मानों नाजुक प्रेम के धागे से जुड़ गई है। इस गुरुक्षेत्रम्‌ के श्रद्धावानों के बहुत ही पसंदीदा दैव है ‘त्रिविक्रम’, जिनका प्रतीकात्मक स्वरूप ‘त्रिविक्रम लिंग’ यहाँ पर अधिष्ठित है। २६ मार्च २०१० ‘हनुमानपूर्णिमा’ के पवित्र दिन गुरुक्षेत्रम्‌ में, ‘गुरुक्षेत्रम्‌ मंत्र के गजर के साथ

भारत और पाकिस्तान

भारत और पाकिस्तान में राजनितिक संघर्ष नई दिल्ली/ इस्लामाबाद : भारत में पाकिस्तान के दूतावास में अधिकारी एवं उनके परिवार को तकलीफ दी जा रही है, ऐसा आरोप पाकिस्तान ने किया है| परिस्थिति ऐसी ही रही तो पाकिस्तानी अधिकारियों के परिवार को अपने देश वापस बुलाया जाएगा, ऐसा इशारा देकर पाकिस्तान ने इसका निषेध किया है| इस पर भारत से प्रतिक्रिया आई है और पाकिस्तान का आरोप झूठा होने का

कोल्हापुर मेडिकल और हेल्थकेयर कैम्प

‘अल्फा टू ओमेगा’ न्युजलेटर – हिन्दी संस्करण मार्च २०१८ संपादकीय, हरि ॐ श्रद्धावान सिंह / वीरा , कोल्हापुर स्वास्थ एवं चिकित्सा शिविर दिनांक ५ फरवरी २०१८ को सम्पन हुआ जिस शिविर के लिए पूरे वर्ष इंतज़ार रहता है। डॉ अनिरुद्ध डी जोशी (सद्गुरु बापू ) के मार्गदर्शन में चलित दिलासा मेडिकल ट्रस्ट रिहॅबिलीटेशन सेंटर (Dilasa Medical Centre and Rehabilitation Centre), श्री अनिरुद्ध उपासना फाऊंडेशन (Shree Aniruddha Upasana Faoundation) और इनके

रशिया

रशिया के आक्रामकता को ब्रिटन से कड़ा प्रतिउत्तर दिया जाएगा – ब्रिटिश रक्षामंत्री का इशारा लंदन : रशिया के राष्ट्राध्यक्ष ब्लादिमीर पुतिन ब्रिटेन, अमरिका एवं मित्र देशों के विरोध में लगातार आक्रामक भूमिका ले रहे हैं और उनके विरोध में ब्रिटन न झुककर कड़ा प्रत्युत्तर देगा, ऐसा इशारा ब्रिटेन के रक्षामंत्री गेव्हिन विल्यमसन ने दिया है। ब्रिटेन के संसद सदस्यों से रशिया नए शीतयुद्ध शुरू करने का एवं ब्रिटन उसके

चीन का खतरा

‘डोकलाम’ मे चीन से लष्करी मूलभूत सुविधा का निर्माण – रक्षामंत्री सीतारामन की लोकसभा मे जानकारी नई दिल्ली : ‘डोकलाम’ में चीन हेलीपॅड के साथ बड़ी तादाद में लष्करी मूलभूत सुविधा निर्माण कर रहा है और चीनने फिर एक बार इस भाग में सैनिकों की तैनाती बढ़ाने की जानकारी रक्षामंत्री निर्मला सीतारामन ने लोकसभा में दी है। तथा पाकिस्तान में चीन के गतिविधियों पर भी बारीकी से नजर होकर सुरक्षा

ईरान का खतरा बढ रहा है

ईरान परमाणु पनडुब्बी, जंगी जहाज निर्माण करने की तैयारी में – अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा आयोग का दावा व्हिएन्ना: जल्द ही ईरान परमाणु पनडुब्बी का निर्माण करने वाला है और अपने इस फैसले को ईरान ने अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा आयोग तक पहुँचाया है। इस परमाणु पनडुब्बी के निर्माण के लिए ईरान संवर्धित युरेनियम का इस्तेमाल कर सकता है, ऐसी संभावना अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा योग ने जताई है। परमाणु पनडुब्बी के निर्माण

सब श्रद्धावानों के लिये माँ जगदंबा का आशीर्वाद

मेरे श्रद्धावान मित्रों और बालकों! वर्तमान जागतिक परिस्थिति दिनबदिन अधिक ही बिकट बनती जा रही है। इस साल भारतवर्ष के तथा भारतधर्म के शत्रु अधिक जोर लगाने की कोशिश कर रहे हैं। भारतवर्ष सारे शत्रुओं का यशस्वी रूप से मुकाबला करेगा इस में संदेह ही नहीं है। लेकिन इसके बाद का ढाई हजार वर्ष का समय सभी स्तरों पर विचित्र एवं विलक्षण मोड लेने वाला ही होगा। श्रद्धावानों को इस

trivikram

आज रविवार दि. २५-०२-२०१८ को ‘दैनिक प्रत्यक्ष’ में प्रकाशित हुए ‘तुलसीपत्र-१४६०’ इस अग्रलेख में त्रि-मुख त्रिविक्रम के प्रकट होने का वर्णन किया गया है। उस त्रि-मुख त्रिविक्रम का तीन स्तरों पर का स्वरूप। [divider] भगवान त्रिविक्रमाचे स्वरूप आज रविवार दि. २५-०२-२०१८ रोजी ‘दैनिक प्रत्यक्ष’मध्ये प्रकाशित झालेल्या ‘तुलसीपत्र-१४६०’ ह्या अग्रलेखामध्ये त्रि-मुख त्रिविक्रम प्रकटल्याचे वर्णन आले आहे. त्या त्रि-मुख त्रिविक्रमाचे तीन स्तरांवरील स्वरूप.   अतिसूक्ष्म स्तरावर / अतिसूक्ष्म स्तर पर सूक्ष्म स्तरावर

अमरिका एवं चीन के बिच तनाव

चीन को आशियाई देशों पर वर्चस्व दिखाने नहीं देंगे – अमरिका के वरिष्ठ अधिकारी का दावा वाशिंगटन : ‘आशिया से अमरिका को बाहर करने के लिए चीन के प्रयत्न कभी भी यशस्वी नहीं होने देंगे, उसके लिए चीन को आशियाई देशों पर दबाव बढ़ाने का अवसर नहीं मिलेगा, इस पर हम ध्यान रखेंगे’, ऐसा कड़ा इशारा अमरिका के वरिष्ठ अधिकारी सुसान थॉर्नटन ने दिया है। अमेरिकी संसद में ‘सिनेट फॉरेन