Home » Hindi

Hindi

कोल्हापुर मेडिकल अँड रिहॅबिलिटेशन कँप २०१७ की तैयारी

गत १३ साल से लगातार आयोजित किये जा रहे कोल्हापूर मेडिकल अँड रिहॅबिलिटेशन कँप के सन २०१७ के सत्र की शुरुआत होने जा रही है। पूरे १० एकर की व्याप्ति रहनेवाले इस कँप के लिए मनुष्य़बल भी उतने ही प्रमाण में लगता है। इस भक्तिमय निष्काम सेवा के लिए जगहों जगहों से, इस साल सेवा करने का अवसर प्राप्त हुए कार्यकर्ता शिविर के लिए निकले हैं। मुंबई से २२ बसेस में ७४८ कार्यकर्ता, पुणे से ३ बसेस में ११३ कार्यकर्ता तथा रायगड से १ बस में २५ कार्यकर्ता शिविर के लिए रवाना हुए हैं। इस कोल्हापुर मेडिकल अँड रिहॅबिलिटेशन कँप ... Read More »

सारे भारतवर्ष को नम्र आवाहन

डॉ. अनिरुद्ध जोशी (अनिरुद्ध बापू ) के द्वारा आज के दैनिक प्रत्यक्ष में किया गया आवाहन मुझे भारत के किसी भी राजकीय पक्ष में या किसी भी प्रकार के राजकीय कार्य में रत्ती भर भी दिलचस्पी नहीं है। राजनेताओं से मुझे कुछ भी लेने की इच्छा नहीं है और उन्हें देने जैसा भी मेरे पास कुछ भी नहीं है। परंतु मेरी प्रिय मातृभूमि का हित अथवा अनहित इनके बारे में मुझे निश्‍चित रूप से ज़बरदस्त इंटरेस्ट है और वह हमेशा वैसा ही रहेगा। वर्तमान समय का जागतिक वातावरण बहुत ही विचित्र पद्धति से तरह तरह के खेल खेल रहा है। ... Read More »

अंत:करण में बसे धन्वंतरि – डॉ. योगीन्द्र जोशी और डॉ. विशाखा जोशी

आयुर्वेद की मुख्य संहिताओं में से एक रहनेवाली ‘चरकसंहिता’ में आयुर्वेद का सर्वप्रथम विशेषण आता है – ’अनंतपार’! इस ’अनंतपार’ शब्द के अलग अलग भावार्थ जाने जा सकते हैं। मगर ‘अनंतपार’ शब्द का सरलार्थ है – ’जिसका अंत और पार नहीं है ऐसा।’ अगर ‘चरकाचार्य’ जैसे महान ऋषि, आयुर्वेद को ’अनंतपार’ कहते हैं, तो कोई सामान्य मानव ’मुझे आयुर्वेद का पूरा ज्ञान हो चुका है’ ऐसा कैसे कह सकता है? सचमुच आयुर्वेद अनंतपार ही है और हमें इसका अहसास डॉ. श्री अनिरुद्ध धैर्यधर जोशी अर्थात सद्गुरु श्री अनिरुद्धजी ने अर्थात बापू ने कराया। मानव को लगता है कि उसके विषय ... Read More »

वेबसाईट की विशेषताएं- भाग ४

फोटो गॅलरी वेबसाईट को और आकर्षक बनाने के लिये हम इस में फोटोज् अ‍ॅड कर सकते है। इसके लिये हम एक और पेज अ‍ॅड करेंगे। लेकीन इस पेज का अलगपन कायम रखने के लिये इस पर सिर्फ फोटोज् होना जरूरी है। पेज पर फोटोज् अपलोड करने के लिये बांई ओ की सेटिंग पॅनल के ‘गॅलरी’ ऑप्शन को ‘ड्रॅग अ‍ॅण्ड ड्रॉप’ से पेज पर लाये। इसके बाद पहले की तरह इमेजेस सिलेक्ट करके अपलोड कर सकत है। लेकीन गॅलरी मे एक से अधिक फोटोज् होना जरूरी है। एक से ज्यादा फोटो सिलेक्ट करने के लिये कीबोर्ड पर होनेवाली कंट्रोल की दबाकर ... Read More »

वेबसाईट बनाने की जानकारी – भाग ३

टेम्प्लेट मतलब रेडिमेड डिझाईन्स. वेबसाईट का पेहराव….‘लूक ऍण्ड फिल’। रेडी टू युज। इस में पेज के डिझाईन तथा रंगसंयोजन, फॉन्ट इत्यादी अनेक चीज़ें पहले ही निश्चित की गई है। इस वजह से हमारा पेज डिझाईनिंग का समय बच जाता है। वैसे ही जिन्हें पेज डिझाईन करना मुश्किल लगता है उनके लिए ये टेम्पलेटस् तो किसी वरदान कम नही। टेम्प्लेट सिलेक्ट करके ‘चूझ’ बटन पर क्लिक करें। टेम्पलेट दिखाने से पहले डोमेन नेम निश्चित करना जरुरी है। टेम्प्लेट सिलेक्ट करने के बाद ‘चूझ युवर डोमेन’ यह विंडो ओपन होगी। यहा हमें जो डोमेन नेम चाहिये वह टाईप कर सकते है। लेकिन ... Read More »

वेबसाईट शुरु करने की प्रक्रिया – भाग २

website

२. डोमेन (Domain) हर एक प्रांत की अलग पहचान कायम रखने के लिए, उस प्रदेश अथवा स्थान को एक नाम दिया जाता है। मतलब वह नाम उस जगह की पहचान बन जाता है। उस नाम से उसी स्थान की साधारण कल्पना सामान्य मानव कर सकता है। उसीप्रकार से विविध प्रकार के वेबसाईट की पहचान होने के लिए उनका विभाजन किया गया है। उन्हें विशेष प्रकार से नाम दिये गये है। हम उसे डोमेन कह सकते है। इसें आसानी से समझने के लिए, हम कुछ उदाहरण देखते है। .com – कमर्शियल बिझनेस – अगर किसी व्यापार अथवा कंपनी की वेबसाईट हो तो ... Read More »

वेबसाईट का परिचय – भाग १

website

‘‘इंटरनेट मॉम्स की तो बात ही कुछ और है’’…..यह पंक्तियाँ हमे टिव्हीपर आनेवाली एक अ‍ॅडव्हर्टाईजमेंट मे बार बार सुनने को मिलती हैं। इसमें माँ अपने बेटे को पढा रही है। बच्चा समझता है कि मेरे subject के बारे मे मॉम को क्या पता होगा! पर उस ‘स्मार्ट मॉम’ ने इंटरनेट के जरिये पहले से ही जानकारी ले रखी थी। जब बच्चे को यह बात समझती है, तो उसके चेहेरे का रंग ही बदल जाता है। इसलिये यह अ‍ॅड देखने में बहुत मजा आता है। पर इसका मतलब बच्चे को पढाने के लिये उस मॉम को भी इंटरनेट की जरुरत महसूस ... Read More »

ऑनलाईन प्रिकॉशन्स – भाग ३

ऑनलाइन सर्फिंग हम हमारी जरूरतों के अनुसार तो कभी हमारी इच्छानुसार पसंदीदा वेब पेजेस् देखते हैं, पढ़ते है। एक पेजसे दूसरे पेज पर जाते रहते है, इसे ही सिंपल भाषा में सर्फिंग कहा जाता है। इस समय वायरस या हॅकिंग जैसी चीजों का धोका, खतरा अधिक होता है। इसके लिए एंण्टी-वायरस सॉफ्टवेअर जैसे अन्य कुछ चीजों पर ध्यान देना आवश्यक है। एक नई वेबसाइट पर जाने के बाद किसी भी लिंक पर क्लिक करने से पहले उसके बारे में जानकारी पूरी होना आवश्यक है। किसी भी ई-मेल से या अन्य माध्यमों से एक अनजान वेबसाइट की लिंक दिखने पर उसपर ... Read More »

ऑनलाईन प्रिकॉशन्स – भाग २

पासवर्ड बडे पैमाने पर नजरअंदाज किया जानेवाला लेकिन अत्यंत महत्त्वपूर्ण अंग, ऐसा कहा तो गलत नहीं होगा। फिलहाल इंटरनेट से अनेक चीजे की जाती हैं। लेनदेन किए जाते हैं। और इन सबके लिए अलग-अलग अकाउंट्स बनाए जाते हैं। लेकिन अकाउंट ओपन होने के बाद ‘पासवर्ड’ निश्चित करते समय जितना चाहिए उतना ध्यान नहीं दिया जाता, यह एक संभावना होती है, या पासवर्ड सहजतासें ध्यान में रहने के लिए उसे आसान करना जरूरी है। ऐसा भी विचार करना जरूरी है। इन्हीं चीजों का फायदा ‘हॅकर्स’ या इंटरनेट का उपयोग गलत कामों के लिए करनेवाले कुछ घटकों को हो सकता है। अपनी ... Read More »

ऑनलाईन प्रिकॉशन्स – भाग १

हम सब को किसी ना किसी कारणवश घरसे बाहर निकलना ही पड़ता है। ऑफिस के बहाने, कॉलेज, स्कूल, व्यवसाय के बहाने, खरीदी करने के लिए, या घूमने के लिए भी जाना हो तो घर से बाहर निकलनाही पडता है। बाहर निकलने के बाद हम यात्रा के दरमियाँन, रास्ते में चलते समय, रास्ता क्रॉस करते समय, गाडी पार्क करते समय, शॉपिंग करते समय सावधानी बरततें रहते हैं। समय के बहाव में, यातायात के साधन भी बदल गए हैं। जिस का हम इस्तेमाल खुलेआम करते हैं। बदल रहीं परिस्थिती की हम धीरे-धीरे आदत डाल लेते हैं और फिर नई बातें हमारे पैल ... Read More »

व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग – भाग ५

mobile hangout

२.२ गुगल हॅग आउट पर व्हिडिओ कॉल का उत्तर कैसे दें? जिस तरह हम किसी व्यक्ति को कॉल करते है तो हमे रिंग सुनायी देती हैं। उसी तरह जब हमे कोई व्हिडिओ कॉल आता है तभी अपने स्पीकर से रिंग सुनायी देती हैं और एक पॉप अप विंडो अपनी स्क्रीन पर देखायी देती हैं। हम उस विंडो पर ‘Join video call’ बटन पर क्लिक करके वो कॉल उठा सकते हैं और यदि हम वो कॉल नही उठाना चाहते हैं तो ‘ignore’ करके उस कॉल को अस्वीकार कर सकते हैं। २.३ ग्रुप चॅट स्काईप में हम एक समय पर ज्यादा से ... Read More »

व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग – भाग ४

२ गुगल हॅन्गआउट (Google Hangout) हॅन्गआउट अर्थात ऑनलाइन मुक्त रुप से बातें करना। हॅन्गआउट, गुगल कंपनी द्वारा सभी के लिए ऑनलाइन व्हिडिओ के माध्यम से झटपट बातें करने के लिये (Instant Chat) तैयार की गयी एक मंच है। जिसका उपयोग करके हम हमारे अपने प्रियजनों को कॉमप्युटर पर देखते – देखते उनसे बातचीत कर सकते है। अपने प्रियजनों से उन्हें ऑनलाईन देखते हुये व्हिडिओ चैटिंग का आनंद कुछ और ही होता है। जिस तरह हमने देखा कि स्काईप का उपयोग करने के लिये वेब कैमरा, स्पीकर, माईक, इत्यादि आवश्यक है, उसी तरह ये सब चीजें गुगल हॅन्गआउट के उपयोग के ... Read More »

व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग – भाग ३

Video Conferencing

१.५ स्काईप पर व्हिडिओ कॉल कैसे करें ? (How to make video call on Skype) स्काईप पर व्हिडिओ कॉल करना सरल और बिल्कुल आसान है। व्हिडिओ कॉल करने के लिये सबसे महत्वपूर्ण है हार्डवेअर। अब व्हिडिओ कॉल करने से पहले हमें यह जांच लेना चाहिये कि हमारा वेबकॉम व स्पीकर ठीक तरहसे चल रहा है या नही। अब हम देखेंगे कि अपनी कॉन्टॅक्ट लिस्ट में से अपना कौन सा मित्र ऑनलाईन है, यह कैसे जाना जा सकता है। छायाचित्र में दिखायें अनुसार यदि आपको पहले प्रकार का चिन्ह (symbol) दिखायी देता है तो इसका मतलब है कि वह मित्र उस ... Read More »

व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग – भाग २

१.२ स्काईप पर अपना युजरनेम कैसे बनाये। (How to create username on Skype) १. स्काईप के पूरी तरह इन्स्टॉल हो जाने के बाद जो विंडो खुलती है उस विंडो के नीचे की ओर ‘Create an account’ नाम का बटन है। नया युजरनेम बनाने के लिये इस बटन पर क्लिक करें। २. उसके बाद आपको एक विंडो दिखेगी। उस ब्राऊझर विंडो में एक फॉर्म (form) आता है। ३. इस फॉर्म को पूरी तरह भरना है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इस फार्म में युजरनेम और पासवर्ड की जगह ठीक से भरकर उसको कहीं लिख दें अथवा याद रखें। ४. उसके बाद ... Read More »

व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंग – भाग १

हमारे पडोस में रहने वाली चाची का लडका विगत कई वर्षो से विदेश में रहता है। जब वह विदेश गया था तो शुरआत का कुछ समय चाची के लिये काफी कठिन गुजरा। वहाँ पर उसका कौन खयाल रखेगा? वो क्या खाता होगा? इत्यादि इत्यादि अनेक चिंताओं ने चाची को घेर रखा था। इसीलिये विदेश से फोन आते ही वह उसपर प्रश्नों की झड़ी लगा दिया करती थी। उसके लिये वह रात-दिन उसके फोन का इंतजार किया करती थी। परंतु आजकल हमारी यह चाची बिल्कुल मस्त है। क्योंकि आजकल अपने लडके का ‘आंखों देखा हाल’ वह जिस समय चाहे देख सकती ... Read More »

Real Time Analytics